Sunday, 19 May 2019

नथूराम गोडसे देश भक्त और गांधी ने देश को खंडित कर १० लाख से अधिक हिन्दुस्तानियों का हत्यारा बना .., याद यहे १९१४ के विश्व युद्ध में कांग्रेसियों ने एक समझौते के आधार पर हिंदुस्तानिओं की ब्रिटिश फ़ौज को झोकने विश्व के अन्य भागों में भेजा था ताकि प्रथम विश्व युद्ध की समाप्ति पर हिन्दुस्तान को आजादी मिल सकें .., हमारे एक लाख सैनिकों की बलि लेने के बावजूद, ब्रिटिश सरकार ने इसे अमान्य कर दिया. कांग्रेसी तो अग्रेजों के सुरक्षा छिद्र बनकर,जनता को बेवकूफ बनाकर अपनी एक समानांतर सत्ता से जनता को भरमाते थे की केवल वे ही देश को गुलामी से मुक्त कर सकते हैं १३ अप्रैल १९१९ रोलेट एक्ट के विरोध में बैसाखी के दिन पंजाब के जलियावाला बाग़ में विरोध सभा में जनरल डायर ने अन्धाधुन्द गोली चलाकर ४००० से अधिक लोगों की मौत के बावजूद गाँधी ने अफ़सोस करने के बजाय जनरल डायर को माफी दे दी . देश ने एक सुनहरा मौक़ा खो दिया, यदि वीर सावरकर नजरबन्द नहीं होते तो इसे १८५७ की क्रांती के रूप में परिवर्तित कर अंग्रेजों का बोरिया बिस्तर लपेट देते.




नथूराम गोडसे देश भक्त और गांधी ने देश को खंडित कर  १० लाख से अधिक हिन्दुस्तानियों का हत्यारा बना ..,

याद यहे १९१४ के विश्व युद्ध में कांग्रेसियों ने एक समझौते के आधार पर हिंदुस्तानिओं की ब्रिटिश फ़ौज को झोकने विश्व के अन्य भागों में भेजा था ताकि प्रथम विश्व युद्ध की समाप्ति पर हिन्दुस्तान को आजादी मिल सकें .., हमारे एक लाख सैनिकों की बलि लेने के बावजूद, ब्रिटिश सरकार ने इसे अमान्य कर दिया.

कांग्रेसी तो अग्रेजों के सुरक्षा छिद्र बनकर,जनता को बेवकूफ बनाकर अपनी एक समानांतर सत्ता से जनता को भरमाते थे की केवल वे ही देश को गुलामी से मुक्त कर सकते हैं

१३  अप्रैल १९१९ रोलेट एक्ट के विरोध में बैसाखी के दिन पंजाब के जलियावाला बाग़ में विरोध सभा में जनरल डायर ने अन्धाधुन्द गोली चलाकर ४००० से अधिक लोगों की मौत के बावजूद गाँधी ने अफ़सोस करने के बजाय जनरल डायर को माफी दे दी .

देश ने एक सुनहरा मौक़ा खो दिया, यदि वीर सावरकर नजरबन्द नहीं होते तो इसे १८५७ की क्रांती के रूप में परिवर्तित कर अंग्रेजों का बोरिया बिस्तर लपेट  देते.

खिलाफत  आन्दोलन से गांधी की किरकिरी होकर.., मुस्लिम लीग को खाद पानी डालकर पोषने के बाद, कांग्रेस के अध्यक्ष पद मोहम्मद अली गौहर नियुक्त कर द्वि राष्ट्र विभाजन के बीज गांधी द्वारा पड़ चुके थे .

१९१४ के विश्व युद्ध की तरह द्वितीय विश्व युद्ध में 1 September 1939 में कांग्रेसियों का अंग्रेजों के साथ  यही दुगुला समझौता हुआ था लेकिन अंग्रेजों ने १९४६ में मोहम्मद अली  जिन्ना को मुस्लिम लीग का नेता बनाकर, पाकिस्तान का निर्माण कर,  देश को सत्ता परिवर्तन का अधिकार देने की संधि से मनाकर,  जिन्ना व नेहरू की प्रधानमंत्री बनने की आकांक्षा ने अचानक देश के तुकडे कर दोनों देशों की आबादी अपनी इच्छानुसार बदलवाने  की योजना को ख़ारिज करते हुए देश में हिन्दू मुस्लिम दंगों का निर्माण कर १० लाख से अधिक मासूम आबादी का क़त्ल होकर .., बापू ही इस ह्त्याकाण्ड का उत्प्रेरक् बनने के बाद अब  अपनी जिद से अनशन की धमकी देकर पाकिस्तान को ५५ हजार करोड़ रूपये दिलावाएं जबकि कश्मीर को  हड्फने  पाकिस्तान की सेना ने सीमा पर आक्रमण कर दिया था. इसके बावजूद गांधी पाकिस्तान को भविष्य में और भी सुविधाएं देने को आमाद थे.

यों कहा जाए तो प्रथम व द्वितीय विश्व युद्ध में ३ लाख से अधिक हिन्दुस्तानी सेनाओं के बलिदान व जलियांवाला बाग़ हत्याकांड की गणना से कही अधिक, केवल देश के विभाजन में १० लाख हिन्दुस्तानियों की ह्त्या का दोषी केवल और केवल गांधी ने ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.


याद रहे  जलियांवाला बाग़ हत्याकांड का बदला लेने उधमसिंह ने इंग्लॅण्ड में २१ साल बाद १३ मार्च १९४० को उधम सिंग ने इंग्लॅण्ड में पंजाब में गवर्नर रहे  मायकल ओ डायर की  ह्त्या की व ४ जून १९४० को उधम  सिंग को ह्त्या का दोषी ठहराते हुए ३१ जुलाई १९४० को उन्हें पेटनविले जेल में फांसी दे दी गई .

१३ अप्रैल २०१९..!!!, जलियांवाला बाग़ की खूनी होली की १०० वीं वर्ष गाँठ.., एक गुमशुदी मुध्हा बनकर आज भी देश, ब्रिटेन से माफी मंगवानी की याचना कर रहा है.., ताकि देश का कलंक, देश में इतिहास के पन्ने में इसका काला इतिहास से देश बलिदान के शौर्य से उबर सके...., लेकिन इंग्लैंड की सरकार ने इसे ख़ारिज कर दिया है. सिर्फ इसे शर्मनाक कहकर पल्ला झाड लिया है



Saturday, 18 May 2019

मोदी राष्ट्रवादी शेर , सबका साथ , सबका विकास से जियो और जीने दो से V/s विरोधी दलों का नरमुंड जो बना जातिवाद, धर्मवाद, भाषावाद,अलगाववाद बनी वोट बैंक की तिजोरी ... जिससे जनता को लगी भूखमरी से बीमारी ... दोस्तों ..., जब तक देश के नागरिक जातिवाद, धर्मवाद, भाषावाद के बन्धनों में जकड़े रहेंगें... देश आगे भी सैकड़ों सालों तक विदेशी आक्रमणकारियों के लिए लूट का मोहरा बनता रहेगा ... जिस देश मे राष्ट्रवाद नही है, वहां, कर्ज की महामारी है, सत्ता खोरो मे लूट की खुमारी है, जनता के शोषण से राष्ट्र को बीमारी है... यही डूबते देश की कहानी है, राष्ट्रवाद की पुकार से ही.. हो , राष्ट्र की ललकार...???? हर दहाड़ , दुश्मनों के लिए बने पहाड़...



मोदी राष्ट्रवादी शेर , सबका साथ , सबका विकास से जियो और जीने दो से V/s विरोधी दलों का नरमुंड जो बना जातिवाद, धर्मवाद, भाषावाद,अलगाववाद  बनी वोट बैंक की तिजोरी ...
जिससे जनता को लगी भूखमरी से बीमारी ...

दोस्तों ..., जब तक देश के नागरिक जातिवाद, धर्मवाद, भाषावाद के बन्धनों में जकड़े रहेंगें... देश आगे भी सैकड़ों सालों तक विदेशी आक्रमणकारियों के लिए लूट का मोहरा बनता रहेगा ...

जिस देश मे राष्ट्रवाद नही है, वहां, कर्ज की महामारी है, सत्ता खोरो मे लूट की खुमारी है, जनता के शोषण से राष्ट्र को बीमारी है... यही डूबते देश की कहानी है, राष्ट्रवाद की पुकार से ही.. हो , राष्ट्र की ललकार...???? हर दहाड़ , दुश्मनों के लिए बने पहाड़...



Friday, 17 May 2019

सत्ता के लिए पूरा विपक्ष आपस में सर फुट्टवल के बावजूद एक होने के ढकोसले में मशगूल.., अब सातवें चरण के मतदान से पहिले अपनी गुंडई ताकत के प्रदर्शन से चुनाव आयोग भी पश्चिम बंगाल में हक्का बक्का.., दो दिन पहिले ही चुनाव प्रचार बंद अपने साम दाम दंड भेद की नीती अपनाने के बावजूद भी विरोधी दल, मोदी से लड़ने के असफल, मोदी के चुनावी तराजू के भार से चित्त होने के बाद...., अब शब्दों की गालियों की गोली दागने के बाद भी, मोदी अबभी अभेद..., एक छलावा से जनता को दिखाने के लिए विपक्ष अब भी कह रहा है की २३ मई को दिल्ली में सरकार बनाने के लिए हम सब एकजुट हो रहें हैं.. हाँ आखरी बार




सत्ता के लिए पूरा विपक्ष आपस में सर फुट्टवल के बावजूद एक  होने के ढकोसले में मशगूल.., अब सातवें चरण के मतदान से पहिले अपनी गुंडई ताकत के प्रदर्शन से चुनाव आयोग भी पश्चिम बंगाल में  हक्का बक्का.., दो दिन पहिले ही चुनाव प्रचार बंद    

अपने साम दाम दंड भेद की नीती अपनाने के बावजूद भी विरोधी दल, मोदी से लड़ने के असफल, मोदी के चुनावी तराजू के भार से चित्त  होने के बाद...., अब शब्दों की गालियों की गोली दागने के बाद भी, मोदी अबभी अभेद...,

एक छलावा से जनता को दिखाने के लिए विपक्ष अब भी कह रहा है की २३ मई को दिल्ली में सरकार बनाने के लिए हम सब एकजुट हो रहें हैं.. हाँ आखरी बार

Wednesday, 15 May 2019

मोदीजी तुम्हारे पंखों में अब भी बड़ी जान है, पंखों की फड़फड़ाहट की आहट से विरोधी ही नही विश्व की ताकतें भी आहत हैं ऊंची तुम्हारी उड़ान है, अब हिन्दुस्तान की विश्व में बड़ी पहचान है.., हिन्दुस्तान जियो और जीनो दो के मंत्र को दूषित कर , विश्व के सुपर पॉवर देश अच्छे और बुरे आतंकवाद की परिभाषा से दुनिया के गरीब देशों को लड़ाने व आतंकवादियों की फ़ौज तैयार करने के खेल को .. इस हिन्दुस्तानी पवन घोड़े ने विश्व को लताड़ कर कहा आतंकवादी बुरा ही होता है.., अच्छा – अच्छा बोलने का एक ही मंत्र है.., “सबका साथ - सबका विकास” से ही देश उन्नत हो सकता.., गरीबों की उन्नती की सन्मति यदि अमीरों में रहेगी तो देश के समाज में कोई भी तबका रोटी कपड़ा मकान का भूखा नहीं रहेगा ...




मोदीजी तुम्हारे पंखों में अब भी बड़ी जान है, पंखों की फड़फड़ाहट की आहट से विरोधी ही नही विश्व की ताकतें भी आहत हैं


ऊंची तुम्हारी उड़ान है, अब हिन्दुस्तान की विश्व में बड़ी पहचान है..,

हिन्दुस्तान जियो और जीनो दो के मंत्र को दूषित कर , विश्व के सुपर पॉवर देश अच्छे और बुरे आतंकवाद की परिभाषा से दुनिया के गरीब देशों को लड़ाने व आतंकवादियों की फ़ौज तैयार करने के खेल को ..
इस हिन्दुस्तानी पवन घोड़े ने विश्व को लताड़ कर कहा आतंकवादी बुरा ही होता है.., अच्छा अच्छा बोलने का एक ही मंत्र है..

सबका साथ - सबका विकाससे ही देश उन्नत हो सकता.., गरीबों की उन्नती की सन्मति यदि अमीरों में रहेगी तो देश के समाज में कोई भी तबका रोटी कपड़ा मकान का भूखा नहीं रहेगा ...


Tuesday, 14 May 2019

१९८४ में इंदिरा गांधी की ह्त्या से, सहानुभूति की सुनामी लहर से, देश भर में १० हजार से अधिक सिखों के नरसंहार ने राजीव गांधी के “कलंक” को भी धो दिया उन्होंने ताल थोक ठोक कर कहा , “जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है, तब धरती हिलती है “ और लोकसभा में ४१४ सीटें जीतकर , अपने नाना प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का कीर्तीमान तोड़ दिया. याद रहे पंजाब में खालिस्तान से आतंकवाद की बुनियाद कांग्रेस के इशारे से ही हुई , जब भिंडरावाले को खालिस्तान कमांडो फ़ोर्स की सेना बनाने के लिए इंदिरा गांधी के इशारे से गृह मंत्री ज्ञानी जैल सिंग ने प्रेरित किया जो बाद में स्वर्ण मंदिर में भिंडरावाले की मुठभेड़ में मौत से.., ऐसा माहौल बना की इंदिरा गाँधी के सिख सुरक्षा रक्षको द्वारा उनके आवास में ह्त्या कर दी , तब पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने बेबाकी से उनके शोक संदेश में कहा “इंदिरा गांधी अपने कर्मों से मरी है



१९८४ में इंदिरा गांधी की ह्त्या से, सहानुभूति की सुनामी लहर से,  देश भर में १० हजार से अधिक सिखों के नरसंहार ने राजीव गांधी के “कलंक” को भी धो दिया उन्होंने ताल थोक ठोक कर कहा , “जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है, तब धरती हिलती है “ और लोकसभा में ४१४ सीटें जीतकर , अपने  नाना प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का कीर्तीमान तोड़ दिया.
याद रहे पंजाब में खालिस्तान से आतंकवाद की बुनियाद कांग्रेस के इशारे से ही हुई , जब भिंडरावाले को खालिस्तान कमांडो फ़ोर्स की सेना बनाने के लिए इंदिरा गांधी के इशारे से गृह मंत्री ज्ञानी जैल सिंग ने प्रेरित किया जो बाद में स्वर्ण मंदिर में भिंडरावाले की मुठभेड़ में मौत से.., ऐसा माहौल बना की इंदिरा गाँधी के सिख सुरक्षा रक्षको द्वारा उनके आवास में ह्त्या कर दी , तब पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने बेबाकी से उनके शोक संदेश में कहा “इंदिरा गांधी अपने कर्मों से मरी है “
राजीव गाँधी को सत्ता खुले हाथ मिली थी.., तथा चंडाल चौकडियों की फ़ौज में हरकिशन भगत, सज्जन कुमार, जगदीश टाइटलर व अन्य लोगों की सूची से सत्ता में लूट की खुली छूट से बोफोर्स घोटालों के शुभारम्भ से A-Z घोटालों के MULTIFORCE घोटालों से, इसमें “हिन्दू आतंकवाद” का घोल डालकर अंततः  सत्ता से हाथ धोना पडा.

अब २०१९ में कांग्रेस के ५ साल के सत्ता निर्वासन के बाद राहुल बाबा के गुरू सैम (असली नाम – सत्यनारायण गंगाराम) पित्रोदा ने सिख नर संहार का समर्थन करते हुए कहा “जो हुआ वो हुआ” के बयान ने कांग्रेस के पंजाब के वोट बैंक में आग में घी का काम किया है   

Saturday, 11 May 2019

२००४ से २०१४ के कांग्रेस के खतरू बदजुबानी, जिसने पार्टी को आसमान से पालाल पाताल लोक से भी गहरे दफ़न कर राजीव गांधी के ४१४ सीटों से सिर्फ ४४ के आंकड़े से विपक्ष के नेता बनने की भी अवकाद भी नहीं रखी. अब इस लोकसभा चुनाव में पंजाब की सीटों पर अपने जीत का अभिमान रखने के इरादे से १९८४ के सिख दंगों पर बदजुबानी से राहुल गांधी के गुरू सैम (सत्यनारायण गंगाराम) पित्रोदा की “जो हुआ सो हुआ” की हुंकार से, तात्पर्य की अच्छा हुआ यह जुबान घी बनकर इस चिंगारी को आग बनाकर कांग्रेस को इस ६ ठे चरण में पंजाब से दिल्ली के चुनावों में भष्म कर देगी. याद रहे इंदिरा गांधी की ह्त्या के बाद राजीव गांधी ने कहा था जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है.., क्यों की इसी पेड़ को इंदिरा गांधी ने सिख आतंकवादियों के खून से सीचा था जो गिरने पर राजीव गांधी ने सिखों पर इल्जाम लगाकर १० हजार से अधिक सिखों का नरसंहार से अपना सत्ता श्रृंगार करवाया था



२००४ से २०१४ के कांग्रेस के खतरू बदजुबानी, जिसने पार्टी को आसमान से पालाल पाताल लोक से भी गहरे दफ़न कर राजीव गांधी के ४१४ सीटों से सिर्फ ४४ के आंकड़े से विपक्ष के नेता बनने की भी अवकाद भी नहीं रखी.

 २००४ से २०१४ के कांग्रेस के खतरू बदजुबानी, 

२००४ से २०१४ के कांग्रेस के खतरू बदजुबानी, 

२००४ से २०१४ के कांग्रेस के खतरू बदजुबानी, 

२००४ से २०१४ के कांग्रेस के खतरू बदजुबानी, 

२००४ से २०१४ के कांग्रेस के खतरू बदजुबानी, 


अब इस लोकसभा चुनाव में पंजाब की सीटों पर अपने जीत का अभिमान रखने के इरादे से १९८४ के सिख दंगों पर बदजुबानी से राहुल गांधी के गुरू सैम (सत्यनारायण गंगाराम) पित्रोदा की “जो हुआ सो हुआ” की हुंकार से, तात्पर्य की अच्छा  हुआ यह जुबान घी बनकर इस चिंगारी को आग बनाकर कांग्रेस को इस ६ ठे चरण में पंजाब से दिल्ली के चुनावों में भष्म कर देगी.

याद रहे इंदिरा गांधी की ह्त्या के बाद राजीव गांधी ने कहा था जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है.., क्यों की इसी पेड़ को इंदिरा गांधी ने सिख आतंकवादियों के खून से सीचा था जो गिरने पर राजीव गांधी ने सिखों पर इल्जाम लगाकर १० हजार से अधिक सिखों का नरसंहार से अपना सत्ता श्रृंगार करवाया था

Friday, 10 May 2019

साम दाम दंड भेद की नीती अपनाने के बावजूद भी विरोधी दल, मोदी से लड़ने के असफल होने के बाद...., अब शब्दों की गालियों की गोली दागने के बाद भी, मोदी अबभी अभेद..., इस भेद का तोड़ निकालने के लिए विरोधी दलों की सुप्रीम कोर्ट में बारम्बार की अपील से VVPAT के बहाने अब EVM को निशाना कर अपने हार से बचने की गुहार... अब मिली विरोधी दलों को सुप्रीम कोर्ट से लताड़ कि हमारा समय करो मत बरबाद ताकि जनता को न्याय के लिए दिया जाय समय... अब विरोधी दल हताश ..., इनके ताश के पत्तों के राजनैतिक महल के ढहने का समय अब आ गया है ...



साम दाम दंड भेद की नीती अपनाने के बावजूद भी विरोधी दल, मोदी से लड़ने के असफल होने के बाद...., अब शब्दों की गालियों की गोली दागने के बाद भी, मोदी अबभी अभेद...,

इस भेद का तोड़ निकालने के लिए विरोधी दलों की सुप्रीम कोर्ट में बारम्बार की अपील से VVPAT के बहाने अब EVM को निशाना कर अपने हार से बचने की गुहार...

अब मिली विरोधी दलों को सुप्रीम कोर्ट से लताड़ कि हमारा समय करो मत बरबाद ताकि जनता को न्याय के लिए दिया जाय समय...

अब विरोधी दल हताश ..., इनके ताश के पत्तों के राजनैतिक महल के ढहने का समय अब आ गया है ...

Thursday, 9 May 2019

ज़रा गौर करें.., वाह से कांग्रेस तेरी सरकार , “सत्ता परिवर्तन” {TRANSFEROF POWER} को. आजादी के झांसे से अपने को कहें... स्वतन्त्रता सेनानी के “वंशवाद का परिवार” साईकिल घोटाले से शुरू कर, बोफोर्स घोटाले से , विदेशी हाथ , विदेशी बात , विदेशी संस्कार से “मेरा भारत महान” के छाँव में अब अँधेरे में देश की जनता को विदेशी टोर्च में गरीबों के सेल ( बैटरी-मेहनत व संसाधन) डालकर, ६७ साल बाद भी ७२% भूखे हिन्दुस्तानीयों को कहें “भारत निर्माण”..., अलगाववाद, जातिवाद, भाषावाद, धर्मवाद,घुसपैठीयों की बाढ़ से वोट बैंक के लबालब भण्डार..., बना.., सत्ता से तिजोरी लूटने का हत्यार..., बजट में गरोबों को “बाजू हट” व सत्ताखोरों व माफियाओं को “बिग हट (बड़े महल) का उपहार .... किसान ह्त्या, जवान ह्त्या, कुपोषण, बलात्कार...., योजनायें बनाकर मत करों, लाशों का व्यापार...., धरती, जल, आकाश, अग्नि, वायु बेचा , अब मत बेचों मेरे आंचल को कर दुत्कार.... अब, भारतमाता कर रही पुकार... जागों देशवासियों..., अब राष्ट्रवादी बनकर इन मुस्टंडों को दो ललकार.... बोफोर्स के दुगने फ़ोर्स में “मेरा भारत महान” का बारूद” डालकर मेरे ईटालियन सास-ससुर से रिश्तेदार हत्यार व अन्य “घोटालों” से “बने “धनवान” इसका मुझे है... “गुमान”.....!!!!!!! “अब मल्टी फ़ोर्स घोटालों” ने तो “सुनामी” को भी मात दे दी है... दोस्तों..., देश में भ्रष्टाचार की बयार है......, सत्ताखोर , माफिया तो, इस जोश से सदाबहार है... ., देश की माटी ...खान , खदान ..बेचकर , देशवासियों की पावों तले से जमीन व जिन्दगी खिसक रही है..., मफिया भी आम आदमी के नारों से खास आदमी बन गया है... लोकतंत्र.... में..., धर्मवाद , जातिवाद , अलगाववाद, भाषावाद व घुसपैठीयों का वोट बैंक का तड़का लगाकर लूट तंत्र में परिवर्तित कर ..”.मेरा भारत महान” से “भारत निर्माण” के अफीमी सफ़र की यह “सत्ता की चाबी है....” दोस्तों चलो राष्ट्रवाद की ओर ...पार्टी नहीं ... देश का पार्ट बने..., हम २४ घंटे , २४ मुठ्ठी बल से , अपने को बिखरे तिनके के हताश विचार को ...., जोश से.., संगठीत बल बनाकर, रस्सी बल से..., इन राजनेताओं व माफियाओं को देश की माटी बिकवाने नहीं देंगें ... इन पर नकेल डालेंगे आओं कसम ले..., देश में किसी भी विदेशी फ़ोर्स को ... हमारे सरज़मीं पर कदम रखने नहीं देंगें ...देशी बात..देशी विचार .. देशी संस्कार ... देशी माटी का अभिमान ही हमारे सम्मान का प्रतीक हो...


ज़रा गौर करें..
वाह से कांग्रेस तेरी सरकार , (तीनों चित्र देखें) 

सत्ता परिवर्तन” {TRANSFEROF POWER} को. आजादी के झांसे से अपने को कहें... स्वतन्त्रता सेनानी के वंशवाद का परिवार” 

साईकिल घोटाले से शुरू कर, बोफोर्स घोटाले से , विदेशी हाथ , विदेशी बात , विदेशी संस्कार से मेरा भारत महानके छाँव में अब अँधेरे में देश की जनता को विदेशी टोर्च में गरीबों के सेल ( बैटरी-मेहनत व संसाधन) डालकर, ६७ साल बाद भी ७२% भूखे हिन्दुस्तानीयों को कहें भारत निर्माण”...,

अलगाववाद, जातिवाद, भाषावाद, धर्मवाद,घुसपैठीयों की बाढ़ से वोट बैंक के लबालब भण्डार...
बना.., सत्ता से तिजोरी लूटने का हत्यार...,
बजट में गरोबों को बाजू हटव सत्ताखोरों व माफियाओं को बिग हट (बड़े महल) का उपहार .... 

किसान ह्त्या, जवान ह्त्या, कुपोषण, बलात्कार....
योजनायें बनाकर मत करों, लाशों का व्यापार....,
धरती, जल, आकाश, अग्नि, वायु बेचा , अब मत बेचों मेरे आंचल को कर दुत्कार.... 
अब, भारतमाता कर रही पुकार... 
जागों देशवासियों..., अब राष्ट्रवादी बनकर इन मुस्टंडों को दो ललकार....

बोफोर्स के दुगने फ़ोर्स में मेरा भारत महानका बारूदडालकर मेरे ईटालियन सास-ससुर से रिश्तेदार हत्यार व अन्य घोटालोंसे बने धनवानइसका मुझे है... गुमान”.....!!!!!!! 

अब मल्टी फ़ोर्स घोटालोंने तो सुनामीको भी मात दे दी है...



दोस्तों..., देश में भ्रष्टाचार की बयार है......, सत्ताखोर , माफिया तो, इस जोश से सदाबहार है... ., देश की माटी ...खान , खदान ..बेचकर , देशवासियों की पावों तले से जमीन व जिन्दगी खिसक रही है..., मफिया भी आम आदमी के नारों से खास आदमी बन गया है... 

लोकतंत्र.... में..., धर्मवाद , जातिवाद , अलगाववाद, भाषावाद व घुसपैठीयों का वोट बैंक का तड़का लगाकर लूट तंत्र में परिवर्तित कर ..”.मेरा भारत महानसे भारत निर्माणके अफीमी सफ़र की यह सत्ता की चाबी है....

दोस्तों चलो राष्ट्रवाद की ओर ...पार्टी नहीं ... देश का पार्ट बने..., हम २४ घंटे , २४ मुठ्ठी बल से , अपने को बिखरे तिनके के हताश विचार को ...., जोश से.., संगठीत बल बनाकर, रस्सी बल से..., इन राजनेताओं व माफियाओं को देश की माटी बिकवाने नहीं देंगें ... इन पर नकेल डालेंगे 
आओं कसम ले..., देश में किसी भी विदेशी फ़ोर्स को ... हमारे सरज़मीं पर कदम रखने नहीं देंगें ...देशी बात..देशी विचार .. देशी संस्कार ... देशी माटी का अभिमान ही हमारे सम्मान का प्रतीक हो...



विदेशी हाथविदेशी साथविदेशी बात,
विदेशी विचारविदेशी संस्कार
विदेशी खाटविदेशी रात,(पब व लिव इन रिलेशन)
और इसका अंजाम क्या मिल रहा है?
विदेशी आतंकवादीविदेशी हमलाविदेशी (देश के लिये हत्यारों व अन्य) सौदागरविदेशी बैक
विदेशी देशो का हमारी अर्थव्यवस्था पर शिंकजा
और हमे मिल रही है विदेशी बैको (अतराष्टीय मुद्रा कोष) के कर्ज की लात
हम घुटने टेक रहे है विदेशीयों के हाथ ?
देश के कर्णधारों के
कलम बिक गये , तलवार बिक गयेपत्रकारपुत्रकार बनने से पहले पतन कार बन गये?
नौकराशाही छोटी-छोटी सुविधा पर अपना इमान बेचते गये?,
साहित्यकार स्वय: के हितकार बनेदेश के हितैषी दबंगभ्रष्टाचार के तरंग बन गये?
देश को बेचने वाले आज देश के शिल्पकार बन गये ?
सत्ता के दलाल देश के लाल बन गये?
धर्म के नाम पर नेता देश को पंगु बनाते गये?
धर्मगुरू…????, देश की जनता केगुरूंघटाल बन करनेताओ के भ्रष्टाचारी महलों के अग्निशामक दल बन गये ?
देश को चलाने वालेविदेशी हाथ के दस्ताने पहनते गये?
दस्तानो की सुरक्षा कवच से उनके हाथ बिना खरोच के , हाथ के साथभाग्य रेखा अतिविशिष्ट सुरक्षा के साथ बढाते गये?

देश्वासियो को
विकास के पत्थर से मंजिल का सपना दिखाकर,
गरीबो पर वे ही महगाईअलगाववादजातिवादधर्म के पत्थर मारते रहे?

जनता लहूलूहान होकर अपने घाव को देश से बढा समझकरघर बैठे इलाज कर रही है,?
Bottom of Form


१. नौटंकी वाला बोले मोदी को महाभ्रष्ट ..., विपक्षी भी इस चुनावी छतरी से सत्ता की छाँव उड़ने के डर से बजरबट्टू बन कर, इस बन्दर बाँट से, लोकतंत्र के पेड़ में बटेर की तरह आशियाना ढूढने की तलाश है... २. हर दल एक दुसरे के साबुन से नहाकर , अपने तन की सुन्दरता से अपने को धनी से धन्य मानकर मस्त हैं...मेरा तन तेरे मन से महान की लड़ाई में शब्दों की होली है... ३. कांग्रेस कहे ड्रेकुला , अन्य कहें जानवर,... कोई खुद को राजनीति का लकड़ बग्गा बनकर नरेन्द्र मोदी की बोटी करने के असुरी स्वरों से, सत्ता के सुरा (शराब) के नकाब से, अपने गले में बग्गी बांधकर लोकतन्त्र को खीचने की ताकत बताता है... ४. जनता के सभी मुद्ह्हे गायब है..., गद्दी की तलाश में , जातिवाद , भाषावाद, अलगाव,आतंकवाद, घुसपैठीयों के खूनी दाग..., जो मुजफ्फरपुर से मौज के पम्पापुर से..., अब मुस्लिम आरक्षण व घोषणाओं के नए दाँव के एक चमकदार कपड़ों में लिपटा कर, खूनी लोकतंत्र के दाग छुपाने का खेल है.., इस शब्दों के पानी में जनता को बहाने का खेल हैं... ======================================= ५. सीमापार दुश्मन पाकिस्तान, तालेबान, अलकायदा इडियन मुजाहिद से अब चीन से अमेरीकी जैसे अन्य देश , हमारे देश में अब कंधा रखकर बन्दूक रखने वाले के खात्मे से मोदीफोबीया से त्रस्त है..,



क्या..?, विदेशी चंदे, विदेशी माफिया, देशी जातिवाद, भाषावाद,अलगाव वाद के ६० साल के एकजुट झाडू के तिनके मोदी सरकार छिन्न भिन्न कर पायेगी...!!! 

विदेशी चंदे का धंदा गंदा है..., लेकिन आम आदमी के विदेशी खाल में , ख़ास आदमी का चेला है..., अब तो आप पार्टी की नेता अलका लंबा (जिसने अब आप पार्टी छोड़ दी है) ने दुश्मनों (पाकिस्तान) के शरीफ बने बुखारी के मुस्लिम वोटों से भा.ज.पा. में बुखार फैलाने के लिए फतवा माँगा है..., जो उन्होंने दे भी दिया..

कांग्रेस मुक्त भारत के साथ , अब जातिवाद, अलगाववाद, भाषावाद,आतंकवाद के बादल से अब विकास के सूरज के उदय से सभी दलों का बिना शर्त आप पार्टीको ढिंढोरे पीटने का समर्थन है..

इस दिल्ली के चुनाव को विश्व की शक्तिया ..., अपनी भावी रणनीती की योजनाओं के निर्माण का खाका बनाने की तैयारी में है...,


१. नौटंकी वाला बोले मोदी को महाभ्रष्ट ..., विपक्षी भी इस चुनावी छतरी से सत्ता की छाँव उड़ने के डर से बजरबट्टू बन कर, इस बन्दर बाँट से, लोकतंत्र के पेड़ में बटेर की तरह आशियाना ढूढने की तलाश है... 

२. हर दल एक दुसरे के साबुन से नहाकर , अपने तन की सुन्दरता से अपने को धनी से धन्य मानकर मस्त हैं...मेरा तन तेरे मन से महान की लड़ाई में शब्दों की होली है...

३. कांग्रेस कहे ड्रेकुला , अन्य कहें जानवर,... कोई खुद को राजनीति का लकड़ बग्गा बनकर नरेन्द्र मोदी की बोटी करने के असुरी स्वरों से, सत्ता के सुरा (शराब) के नकाब से, अपने गले में बग्गी बांधकर लोकतन्त्र को खीचने की ताकत बताता है...

४. जनता के सभी मुद्ह्हे गायब है..., गद्दी की तलाश में , जातिवाद , भाषावाद, अलगाव,आतंकवाद, घुसपैठीयों के खूनी दाग..., जो मुजफ्फरपुर से मौज के पम्पापुर से..., अब मुस्लिम आरक्षण व घोषणाओं के नए दाँव के एक चमकदार कपड़ों में लिपटा कर, खूनी लोकतंत्र के दाग छुपाने का खेल है.., इस शब्दों के पानी में जनता को बहाने का खेल हैं...

=======================================
५. सीमापार दुश्मन पाकिस्तान, तालेबान, अलकायदा इडियन मुजाहिद से अब चीन से अमेरीकी जैसे अन्य देश , हमारे देश में अब कंधा रखकर बन्दूक रखने वाले के खात्मे से मोदीफोबीया से त्रस्त है..,


६. विदेशी धन की बौछार है.., विदेशी देशी माफियाओं के लिए यह अंतिम बहार है....

================================
७. देश के जवानों की ललकार की हमारे हाथ खोलों ..., दुश्मनों से लड़ने की जज्बों से हम हैं सदाबहार..

८. किसानों की ललकार.., अब देश के बिचौलियों के बीच का तौलिया खोल कर , हमारी भूखमरी के नंगे पन का खेल करों दूर ..

९. अब देश में एक ही पुकार ..., राष्ट्रवाद व भारतमाता की जय-जय कार..., हमारी शक्ती बने आसमान के पार... दूश्मन भी सोचें बारम्बार...

१०. सुजलाम सुफलाम से हे मां..., हम करें, तेरा सत्कार... , राष्ट्रवाद रहेगा .., तेरे वैभव का पहरेदार ...

११. हे मां, तेरा वैभव रहें अमर..., हमें दें सेवा का अवसर .., तुम्हारी पवित्रता के लिए हमारा जीवन न्योंछावर ...
हमें दे , तुम्हारी चरणों की सेवा के लिए पुनर्जन्म , इस देश में पैदा हो भारती के वीर सपूत

शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव ,पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्लाह खान और शहीद रोशन सिंह .जैसे ...., और .सावरकर की विचारधारा बनायें, अखंड भारत का गौरव .... 
Bottom of Form


Sunday, 5 May 2019

चुनावी महाभारत में नरेन्द्र मोदी, बनें अर्जुन व कृष्ण का अवतार, करे अचूक वार, व कृष्ण नीती से कौरवों की सेना में हडकंप..., ...अब नरेन्द्र (नर+इन्द्र ) अपनी सिंह की गर्जना से नरसिंह बनकर देश के आतं कवादियों, अलगाववादियों के वादियों का खात्मा के डर से विरोधी खेमों की आत्मा में हडकंप. वाराणसी बनी मोदी के लिए वार के रण के अस्सी विरोधियों की रस्सी , अब विरोधियों को देश के दूध (संसाधनों ) को मथ कर (बेचकर) नहीं पीने को मिलेगी लस्सी..., . देश के दूध से माखन व अन्य उत्पाद , विदेशी माफियाओं के मंथन से सत्ता को चमकाने के साथ सत्ताखोरों की संपती हजारों गुना बढ़ गयी है . देश के मुठ्ठी भर लोग अपने को विश्व के अमीरों में शुमार होकर , भारत एक विश्व शक्ती का दंभ भरकर .. जनता को भरमा रहें हैं.



चुनावी महाभारत में नरेन्द्र मोदी, बनें अर्जुन व कृष्ण का अवतार, करे अचूक वार, व कृष्ण नीती से कौरवों की सेना में हडकंप..., ...अब नरेन्द्र (नर+इन्द्र ) अपनी सिंह की गर्जना से नरसिंह बनकर देश के आतं कवादियों, अलगाववादियों के वादियों का खात्मा के डर से विरोधी खेमों की आत्मा में हडकंप.
 
वाराणसी बनी मोदी के लिए वार के रण के अस्सी विरोधियों की रस्सी , अब विरोधियों को देश के दूध (संसाधनों ) को मथ कर (बेचकर) नहीं पीने को मिलेगी लस्सी..., .

देश के दूध से माखन व अन्य उत्पाद , विदेशी माफियाओं के मंथन से सत्ता को चमकाने के साथ सत्ताखोरों की संपती हजारों गुना बढ़ गयी है .

देश के मुठ्ठी भर लोग अपने को विश्व के अमीरों में शुमार होकर , भारत एक विश्व शक्ती का दंभ भरकर .. जनता को भरमा रहें हैं.

मेरा भारत महानसे भारत निर्माणके नारों से भ्रष्टाचारी ..., एक-एक वस्त्रों (घोटालों) को पहनकर ,देश की खान, खदान, ईमान बेचकर अपनी सुन्दरता का बखान कर रहें है..

दोस्तों ...आज हमने देश की ७२ वर्षों की जवानी , भाषावाद,अलगाववाद, जातिवाद,धर्मवाद से.., सत्ता परिवर्तन को आजादी की भर मानी से.., सत्ताखोरों ने, अपनी अय्याशी व मौजमानी से.., विशेष मेहमान मानी से.., देशवासियों को एक भ्रम से भेड़ नीती से जनता को भेद कर बर्बाद कर दिया है...

ऊपर से धर्मनिरपेक्षता के हमारे संविधान से..., यदि गौर करें तो इस संविधान की आड़ में विशुद्ध रूप से साम्प्रयवाद को सु-प्रियवाद बनाकर बढ़ावा देकर देश पर राज किया है..

बड़े दुःख के साथ लिखना पढ़ रहा है..., आज देश के ८०% से अधिक हिन्दुस्तानी २० रूपये से कम कमाकर .., आज मेरे देश की तस्वीर, भूखा,नंगा हिन्दुस्थान की बनी है....

जागो देशवासियों राष्ट्रवाद की धारा मे आओ और डूबते देश को बचाओं॥ सीमा पार दुश्मन भी चाह रहे है हम आपसी लड़ाई से कमजोर हो जाये ताकि हमे सफलता आसानी से प्राप्त हो...

Saturday, 4 May 2019

देश में सैकड़ों धमाकों व आतंकवाद से धमाकों का कोई धर्म नहीं होता है की गूँज से राजनेता जश्न मना रहे थे ... बाटला आतंकवादी कांड में सोनिया गांधी आंसू छलका कर रात भर रोई. व ऑस्ट्रेलिया में एक मुस्लिम को आतंकवाद गतिविधि में गिरफ्तार होने पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह रात भर नहीं सोये. यह संयोंग या हकीकत ही कहा जाय की ‘भगवा आतंकवाद’ का श्राप हेमत करकरे को विदेशी मुसलमान आतंकवाद ने निगल लिया, इसकी बावजूद जिसे आर्थर रोड में कैद कर चिकन बिरयानी खिलाकर देश की धरोहर की तरह संभालकर इसका राजनीतिकरण के उद्देश से पाले पोशा रखा.., जबकि इस आतंकवादी की प्राकृतिक मौत मच्छर काटने कटाने की बीमारी डेंगू से इस दुनिया के जन्नती अंडा सील से विदा होकर जहन्नुम में पहुंचा



देश में सैकड़ों धमाकों व आतंकवाद से धमाकों का कोई धर्म नहीं होता है की गूँज से राजनेता जश्न मना रहे थे ...
बाटला आतंकवादी कांड में सोनिया गांधी आंसू छलका कर रात भर रोई. व ऑस्ट्रेलिया में एक मुस्लिम को आतंकवाद गतिविधि में गिरफ्तार होने पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह रात भर नहीं सोये.

जबकि हिन्दू, भगवा आतंकवादखतरनाक , और इसका राजनैतिकरण कर विश्व में प्रचार से देश को नीचा दिखाने के प्रयास में कांग्रेस सरकार अग्रणी थी. विकीलीक्स को भी इसका खुलासा करना पड़ा की एक अवार्ड वापसी गैंग की तरह राजनैतिक बुद्धीजीवियों की भारत तेरे टुकड़े होंगें की तरह की सुनियोजित प्रचार था.
इन राजनेताओं ने भगवा आतकवाद के प्रचार का जिम्मा ATS मुख्या हेमंत करकरे के कन्धों पर दे रखा था. वे भी मीडिया व अखबारों में अपनी PUBLICITY से गदगद होकर .., राजनेताओं से प्रेरित होकर एक कदम और बढ़कर,अपनी प्रसिद्धी से नयी सीढ़ी चढ़ने के प्रयास में लीन थे और साध्वी प्रज्ञा को जैन में भयंकर यातना देने के भी निरीक्षक बने थे .
यह संयोंग या हकीकत ही कहा जाय की भगवा आतंकवादका श्राप हेमत करकरे को विदेशी मुसलमान आतंकवाद ने निगल लिया, इसकी बावजूद जिसे आर्थर रोड में कैद कर चिकन बिरयानी खिलाकर देश की धरोहर की तरह संभालकर इसका राजनीतिकरण के उद्देश से पाले पोशा रखा.., जबकि इस आतंकवादी की प्राकृतिक मौत मच्छर काटने कटाने की बीमारी डेंगू से इस दुनिया के जन्नती अंडा सील से विदा होकर जहन्नुम में पहुंचा

२०१९ का चुनाव वंशवाद पर एक बिंडवाना...!!!!, वंशवाद के तरकश में अंतिम तीर जो इस रण में आरक्षित रख चुनावी रैली में प्रचार से जनता को आर्कषित करने का शस्त्र से मां व भाई को चुनावी वैतरणी पार कराने का अंतिम प्रयास है. दोस्तों, वंशवाद के दंशवाद के खेल से देश तो डूब चुका है..., लेकिन मनमोहन की सरकार ने..., देश को सरका कर..., २०१४ के पहिले के पिछले १० सालों में , एक ऐसा, निराला खेल खेला है..., प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कंधे पर, वंशवादी बन्दूक रखकर , देश का गोला बारूद (देश के संसाधन) को माफियाओं द्वारा लूट लिया गया है.., देश के A जी, ओ जी, से Z जी के घोटाले के माफिया , Z++ की सुरक्षा के साथ मालामाल हो गयें है..., विदेशी बैंक, इनसे , कैसे लबालब हो गया इसकी भनक जनता को भी नहीं लगी ...



२०१९ का चुनाव वंशवाद पर एक बिंडवाना...!!!!, वंशवाद के तरकश में अंतिम तीर जो इस रण में आरक्षित रख चुनावी रैली में प्रचार से जनता को आर्कषित करने का शस्त्र से मां व भाई को चुनावी वैतरणी पार कराने का अंतिम प्रयास है.

दोस्तों, वंशवाद के दंशवाद के खेल से देश तो डूब चुका है..., लेकिन मनमोहन की सरकार ने..., देश को सरका कर..., २०१४ के पहिले के पिछले १० सालों में , एक ऐसा, निराला खेल खेला है..., प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कंधे पर, वंशवादी बन्दूक रखकर , देश का गोला बारूद (देश के संसाधन) को माफियाओं द्वारा लूट लिया गया है..,
देश के A जी, ओ जी, से Z जी के घोटाले के माफिया , Z++ की सुरक्षा के साथ मालामाल हो गयें है..., विदेशी बैंक, इनसे , कैसे लबालब हो गया इसकी भनक जनता को भी नहीं लगी ...

+”मेरा भारत महानसे तो भ्रष्टाचारी बलवान , लेकिन हो रहा है, भारत निर्माणके अफीमी नारों से बने माफिया स्फूर्तीवान ...,
१०० पीढी बनी धनवान, जनता महंगाई व भूखमरी से परेशान
क्योकि सत्ताधारियों के पास है...,

जातिवाद,भाषावाद,अलगाववादी,धर्मवाद,घुसपैठी घोड़ों की लगाम
तो क्यों न रौदें जनता को, अपने द्रुतगति रथों से.., जब सत्ता का इन्हें हैं, अभिमान 

जागों देशवासीयों...., राष्ट्रवादी धारा, से किसी को हमारे वतन की माटी बेचने नहीं देंगे ..., भारतमाता के गौरव से देश को भव्य शाली बनाए...


Thursday, 2 May 2019

मोदीजी तुस्सी ग्रेट हो..., जैश-ए- मोहम्मद का उड़ा दिया जोश से होश.., विश्व पटल पर हिन्दुस्थान की एक नयी उपलब्धि से देश गर्वमान से देशवासियों में स्वाभिमान से अभिमान देश में हुद – हुद का तूफ़ान, विरोधी करें फरमान , मोदी क्यों संभाले हैं.., हमारे लिए तीर कमान, क्यों नहीं सीमा पर खडें हो रहें..., निशाना तान... देश के गद्दीदार कहें..,उन्हें गद्दार मोदी ने अब कर दिया उनका नशा उतार, मोदी की दहाड़ .., दुश्मनो को पछाड़ .., दुश्मन व विदेशी ताकतें अब गए उड़.. भाषावाद, जातिवाद, धर्मवाद के राज को ठोकर.., सत्ता के मुख-मंत्री का उद्भव बनें जोकर, जो, अभी भी भर रहा दंभ.., मोदी के पाँव उठाने के खेल का मल खंभ ..



मोदीजी तुस्सी ग्रेट हो..., जैश-ए- मोहम्मद का उड़ा दिया जोश से होश.., विश्व पटल पर हिन्दुस्थान की एक नयी  उपलब्धि से देश गर्वमान से देशवासियों में स्वाभिमान से अभिमान

देश में हुद हुद का तूफ़ान,
विरोधी करें फरमान ,
मोदी क्यों संभाले हैं.., हमारे लिए तीर कमान,
क्यों नहीं सीमा पर खडें हो रहें..., निशाना तान...
देश के गद्दीदार कहें..,उन्हें गद्दार
मोदी ने अब कर दिया उनका नशा उतार,
मोदी की दहाड़ .., दुश्मनो को पछाड़ ..,
दुश्मन व विदेशी ताकतें अब गए उड़..

भाषावाद, जातिवाद, धर्मवाद के राज को ठोकर..,
सत्ता के मुख-मंत्री का उद्भव बनें जोकर,
जो, अभी भी भर रहा दंभ..,
मोदी के पाँव उठाने के खेल का मल खंभ ..

==========================

दोस्तों.., यह पिछले ७२ सालों से देश के डूबने की कहानी है...

जातिवाद, धर्मवाद, भाषावाद बनी वोट बैंक की तिजोरी ...

जिससे जनता को लगी भूखमरी से बीमारी ...
जब तक देश के नागरिक जातिवाद, धर्मवाद, भाषावाद के बन्धनों में जकड़े रहेंगें... देश आगे भी सैकड़ों सालों तक विदेशी आक्रमणकारियों के लिए लूट का मोहरा बनता रहेगा ...

दोस्तो... जिस देश मे राष्ट्रवाद नही है, वहां, कर्ज की महामारी है, सत्ता खोरो मे लूट की खुमारी है, जनता के शोषण से राष्ट्र को बीमारी है... यही डूबते देश की कहानी है, राष्ट्रवाद की पुकार से ही.. हो , राष्ट्र की ललकार...???? हर दहाड़ , दुश्मनों के लिए बने पहाड़...,



अब सत्ता कमलनाथ के अपने हाथ जगन्नाथ से आ गई है..., सत्ता में आते ही जनता को अपने सुनहरे सपने दिखाने वाले कमलनाथ के हाथ पांव फूलने लगें हैं ..., क्या अब...!!!, इस खेल को पूरा करने के लिए वे भी भ्रष्टाचार की नयी बयार शुरू करेंगें...!!! मोदीजी कह रहें है की तुगलकी रोड .., तु –लक्की रोड अब ,कांग्रेस के लिए लक्की नहीं है ही साबित हुआ है पीएम नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के करीबियों के घर आयकर छापे में ७०० से अधिक करोड़ों रुपये बरामद होने से कांग्रेस पर निशाना साधा, मोदी ने कहा, कांग्रेसियों के पास से बोरा भर-भरकर नोटों की गड्डियां मिल रही हैं. कांग्रेस के घोटालों में अब नया घोटाला सुबूतों के साथ और जुड़ गया है- तुगलक रोड चुनावी घोटाला, उन्होंने दांवे के साथ आरोप लगाया कि गरीबों व गर्भवती महिलाओं के हक का पैसा भी लूट लिया गया, व मुफ्त बिजली देने के वादों से किसानों की बिजली काट कर कटौती से अपना वादा निभा रही है. ‘ आत्मविश्वासी ठहरते नहीं , रूकते नहीं अपनी मंजिल पाकर ही सफलता प्राप्त करते हैं अति आत्मविश्वासी मंजिल में पहुँचने से पहिले हांफने लगता है और अपनी कमजोरियों का दोष दूसरों पर मढ़ता है.... तीन राज्यों में कांग्रेस की जीत .., बीजेपी को अति आत्मविश्वास से ही ले डूबी... मध्य प्रदेश में व्यापम शिक्षा व खनन घोटाला.., तथा किसानों के नाम पर करोडपति लोगों को फर्जी कर्ज के नाम से वाह-वाही लूटने व अभी शौचालय घोटाला उजागर होने वाला है..!!!!



कांग्रेस ने चुनाव के अंत समय में इसी बारे में ऐसा शगूफा छोड़ा की शिवराज सिंह का अति आत्मविश्वास उन्हें ही ले डूबा .
.
.

अब सत्ता कमलनाथ के अपने हाथ जगन्नाथ से आ गई है..., सत्ता में आते ही जनता को अपने सुनहरे सपने दिखाने वाले कमलनाथ के हाथ पांव फूलने लगें हैं ..., क्या अब...!!!, इस खेल को पूरा करने के लिए वे भी भ्रष्टाचार की नयी बयार शुरू करेंगें...!!!

मोदीजी कह रहें है की तुगलकी रोड .., तु लक्की रोड अब ,कांग्रेस के लिए लक्की नहीं है ही साबित हुआ है 

पीएम नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के करीबियों के घर आयकर छापे में ७०० से अधिक करोड़ों रुपये बरामद होने से कांग्रेस पर निशाना साधा, मोदी ने कहा, कांग्रेसियों के पास से बोरा भर-भरकर नोटों की गड्डियां मिल रही हैं. कांग्रेस के घोटालों में अब नया घोटाला सुबूतों के साथ और जुड़ गया है- तुगलक रोड चुनावी घोटाला, उन्होंने दांवे के साथ आरोप लगाया कि गरीबों व गर्भवती महिलाओं के हक का पैसा भी लूट लिया गया, व मुफ्त बिजली देने के वादों से किसानों की बिजली काट कर कटौती से अपना वादा निभा रही है. ‘

आत्मविश्वासी ठहरते नहीं , रूकते नहीं अपनी मंजिल पाकर ही सफलता प्राप्त करते हैं

अति आत्मविश्वासी मंजिल में पहुँचने से पहिले हांफने लगता है और अपनी कमजोरियों का दोष दूसरों पर मढ़ता है....
तीन राज्यों में कांग्रेस की जीत .., बीजेपी को अति आत्मविश्वास से ही ले डूबी...

मध्य प्रदेश में व्यापम शिक्षा व खनन घोटाला.., तथा किसानों के नाम पर करोडपति लोगों को फर्जी कर्ज के नाम से वाह-वाही लूटने व अभी शौचालय घोटाला उजागर होने वाला है..!!!!