Thursday, 17 September 2020

इस धुओं को साफ़ करने का फर्ज , अब जनता को देश का कर्ज चुकाने का सुनहरा अवसर है , एकजुट मिलकर , देश को अग्रसर करने का स्वरिम अवसर है DRUG , DRAGS NATION नशा देश को पीछे धकेलता है.., शराब व अन्य नशे ने समुन्दर से ज्यादा लोगों को डुबाया है.., देश को डुबाया है इस गोरख धंधे को जिस देश की पुलिस ,सत्ताखोरों न्यायसाही ने खुली प्रश्रय दिया है वह देश आज भी भीखमंगों की कतार में अग्रणी है हिंदुस्तान जैसे देश में यह आज वोट बैंक से ज्यादा मजबूत अस्त्र है , भले देश का युवा अपनी कर्मण्यता खोकर त्रस्त है लेकिन यह खेल नारों में अफीमी घोल का 73 सालों से एक कारगर हत्यार है देश के सत्ताखोरों ने लोकतन्त्र की आड़ में लूट तंत्र का खेल खेलने का इसे आज भी सुनहरा अवसर ही माना ,

 



जरूर पढें/ यह कॉपी पेस्ट वाला TEXT का TASTE नहीं, इस पोस्ट को पढ़ने में राष्ट्रवाद का नशा है , इसमें कोई टैक्स या GST नहीं है.., लेकिन इसका अनुसरण से देश को ऊँचाई को छूने  की मंत्र है , देश का कड़वा सच है / सरकारों को संकल्प लेने “शपथ पत्र है” व देश अपने आप कर्मपथ से  अग्रसित रह चंद दिनों में विश्व गुरु  बनेगा..!!!!!!,




आश्चर्य नही सच है , क्या अब भी डर से शुतुरमुर्ग की तरह आपकी आँखे बंद है कि  मैं अकेला क्या कर सकता  हूँ..!!!!!, यह माफियातंत्र मुझे घुटन से मार डालेगा.., सर उठाओ  अब तो अपनी आँखे खोलों..,



तुरमुर्ग की तरह आपकी आँखे बंद है कि  मैं अकेला क्या कर सकता  हूँ..!!!!!, यह माफियातंत्र मुझे घुटन से मार डालेगा.., सर उठाओ  अब तो अपनी आँखे खोलों..,





 

७३ सालों से.., भ्रष्टाचार भुखमरी सत्ता शराब अफीम के धुओं से देश का सूरज काले बादलों से छुपा है देश गमगीन है , देश का माफिया वर्ग रंगीन से रंगीला होकर  किसानो जवानों का पसीना पीकर वह देश का नगीना नहीं..,नाग नागिन है



इस धुओं को साफ़ करने का फर्ज , अब जनता को देश का कर्ज चुकाने का सुनहरा अवसर है , एकजुट  मिलकर , देश को अग्रसर  करने का स्वरिम अवसर  है 

 DRUG , DRAGS NATION नशा देश को पीछे धकेलता है.., शराब व अन्य  नशे ने समुन्दर से ज्यादा लोगों को डुबाया है.., देश को डुबाया है




इस गोरख धंधे को जिस देश की पुलिस ,सत्ताखोरों न्यायसाही ने खुली   प्रश्रय  दिया है वह देश आज भी भीखमंगों की कतार में  अग्रणी है


हिंदुस्तान जैसे देश में यह आज वोट  बैंक से ज्यादा मजबूत अस्त्र है , भले देश का युवा अपनी कर्मण्यता खोकर त्रस्त है लेकिन यह खेल नारों में अफीमी घोल का 73 सालों से एक कारगर हत्यार  है


देश के सत्ताखोरों ने लोकतन्त्र की आड़ में लूट तंत्र  का खेल खेलने का इसे आज भी सुनहरा अवसर ही माना , 




और हर अगले 5 सालों तक प्रदेश से देश के सत्ताखोरों / राज्य से केंद्र सरकारों  ने इसे अपनी कुर्सी पर खूटा बंधा समजकर अपनी कुर्सी  को धरती पड़कर मानकर , देश को कुरूप बना के इस  खेल में एक तरह से कुरूपता का  कुरूक्षेत्र की  रणभूमि  बनाकर हर साल लाखों लोगों की बलि के बावजूद से आज तक देश में  खलबली  नहीं  मची है क्योंकि देश की इस कुरूपता में महाबाहुबली के दमखंभ का  खेल है  देश को लूटने का खेल बदस्तूर जारी है..,


कोरोना से GDP का  पी.., पी.., पी.. का रोना गाकर देश की जनता को घबराया जा रहा है, सही विश्लेषण यही है की देश की प्रगती को इस ड्रग से देश के युवाओं की  ऊंची उड़ान की हरियाली फसल को  जलाकर इसे  अफीमी धुओं में परिवर्तित कर से युवाओं की आँख बंद करा के जनता ‘को – रोना “ आ रहा है, 


क्या.., यदि.., देश की  सभी सरकारें एकजुट होकर देश के नौकरशाही ईमानदारी पूर्वक संकल्प लेकि  वे सकारी वेतन के अलावा किसी भी तरह के भ्रष्टाचार का छलावा से अपनी तोंद बढ़ने नहीं देंगे..,

 

पहिले मेरा देश.., “मैंने देश को क्या दिया’  का नारा  तभी सार्थक होगा..,  जब  “मैंने रिश्वत नहीं लिया” व  “अपने फर्ज में कामचोरी नहीं की”.अर्थात देश सुनहरे भविष्य की ओर, एक नीले गगन के तले , जंहा  किसी का दिल नहीं जले, जहां गम न हो प्यार ही प्यार पलें..

दोस्तों लिखने की सीमा तो अनंत है .., लेकिन आज के कंप्यूटर युग पढ़ने वाले गिने चुने ही हैं ..  

साभार :  www.meradeshdoooba.com


Friday, 11 September 2020

शिवसेना के मेमने को सन्देश..., तूने कंगना का घर तोड़ा लेकिन अपना अक्कल का दाढ भी “उखाड़ दिया” अब इस सांडपना (BULL) के Bulldozer का खेल छोड़ दे, सावधान..., अब कंगना का डोसियर (Dossier) आने से, जनता अपने डोस से, तुझे सत्ता से “उखाड़ देगी”

 


शिवसेना के मेमने को सन्देश...,  

तूने कंगना का घर तोड़ा लेकिन अपना अक्कल का  दाढ भी  “उखाड़ दिया” अब इस सांडपना (BULL) के  Bulldozer का खेल छोड़ दे, सावधान...,  अब कंगना का डोसियर (Dossier) आने से, जनता अपने  डोस से, तुझे सत्ता से “उखाड़  देगी”  

Tuesday, 8 September 2020

रिया गिरफ्तार ,अब नशे का तंत्र का राज अब पकड़ेगा रफ़्तार .., अब तो इस गोरखधंदे में सिर्फ अंडें मिले हैं, अब मम्मी पापा वाली बड़ी मछलियों की तलाश में बॉलीवुड के समुन्दर के अन्दर गहराई में गहन तलाशी का आगे का मंजर है.., क्योकि हर ड्रग माफियाओं के पास ड्रग का खंजर है =============== सुशांत.., एक निष्णात.., बुलंदी में पहुँचने पर भी शांत. कोई नहीं अभिमान, यही थी सुशांत की शान फिल्म इंडस्ट्रीज का सितारा जिसके खून में विज्ञान से अभिज्ञान की जिज्ञासा.., सूर्य की किरण से हर दिन जीवन में नई उमंग से विहंग, अध्यापन से हर क्षेत्र में अपना सिक्का जमाने के बावजूद वे कभी धन के लोभ से नहीं रहे मोहताज .., सितारों की दुनिया से बॉलीवुड में धमाकेदार एंट्री से वंशवाद व भाई भतिजावाद के टुकड़ों से पलने वालों में तहलका मच गया.

 


रिया गिरफ्तार ,अब नशे का तंत्र का राज अब पकड़ेगा रफ़्तार .., अब तो इस गोरखधंदे में सिर्फ अंडें मिले हैं, अब मम्मी पापा वाली बड़ी मछलियों की तलाश में बॉलीवुड के समुन्दर के अन्दर गहराई में गहन तलाशी का आगे का मंजर है.., क्योकि हर ड्रग माफियाओं के पास ड्रग का खंजर है.




===============

सुशांत.., एक निष्णात.., बुलंदी में पहुँचने पर भी शांत. कोई  नहीं अभिमान, यही थी सुशांत की शान


फिल्म इंडस्ट्रीज का सितारा जिसके खून में विज्ञान से अभिज्ञान की जिज्ञासा.., सूर्य की किरण से हर दिन जीवन में नई उमंग से विहंग,  


अध्यापन से हर क्षेत्र में अपना सिक्का जमाने के बावजूद वे कभी धन के लोभ से नहीं रहे मोहताज .., 

 

सितारों की दुनिया से बॉलीवुड में धमाकेदार एंट्री से  वंशवाद  व भाई भतिजावाद के टुकड़ों से पलने वालों में तहलका मच गया.


हर क्षेत्र  में महारत होने के बावजूद सुशांत ने कभी पुरूस्कार का मोह न करते हुए अपनी सफलताओं की सीढ़ी  चढ़ते हुए  नयी पीढी को प्रेरणा दी  की अपनी  क्षमता  के बल से बुलंदी छूई जा सकती है और M S DHONI फिल्म देखकर , धोनी भी कायल होकर कहने लगे , सुशांत आपकी बल्लेबाजी व विकेटकीपिंग तो मेरे से भी बढ़िया है तूने  तो चंद  दिनों के अभ्यास से महारथ हासिल कर ली है

 

अब तो,सितारों की दुनिया से बॉलीवुड में धमाकेदार एंट्री से  वंशवाद  व भाई भतिजावाद के टुकड़ों से पलने वालों में तहलका मच गया. और इनकी दूकान बंद होने की  मुहर लगनी पक्की हो गई थी ..,


अब यह सुशांत ,  भाई-भतीजावाद + नशे व अवैध व्यापार / घोटाला अर्थात देश को बेच डाला  + राजनैतिक ढाल  के सुनियोजित संगठन की गले की हड्डी बन गयी और सुशांत जो “छिछोरा” फिल्म फेयर अवार्ड में इस फिल्म  का कोई Affair न दिखाकर इसे नामांकित भी नहीं किया.., इसके बावजूद सुशांत को अपनी कला पर विश्वास था व हौसले बुलंद थे


असली खेल शुरू हवा जब मौत का खेल “दिशा सालियांन” जो सुशांत की पूर्व सेक्रेटरी  की ह्त्या से, ४थे मंजिल से नग्न अवस्था से फेकने के बावजूद मुंबई पुलिस ने इसे  आत्मह्त्या का मामला कर रफा दफा कर दिया


इसकी भनक लगते ही व इसके पीछे के राज का पर्दाफाश करने के लिए सुशांत द्वारा प्रेस कांफ्रेंस की घोषणा करने पर सुशांत को हमेशा के लिए शांत करने के खेल में ह्त्या कर, पुलिस ने  दिशा सालियांन की तरह आत्महत्या घोषित कर दिया


इसके बाद दिशा सालियांन की ह्त्या के सबूत / पत्र जो  कंप्यूटर में थे , मुंबई पुलिस ने आनन् फानन में , इस फाइल को कंप्यूटर से उड़ा (Delete)  दिया .


अब इस पूरे मामले में दिशा सालियांन की ह्त्या का राज खुलने पर बड़ी मछलियों के बाप से दादा व परदादा तक पकडे जायेंगें.


जब तक इस तरह के रैकेट /नेक्सस का पूरे देश से खात्मा नहीं होता , तब तक देश में उड़ता..., पंजाब , गोवा ,महाराष्ट्र से अन्य राज्य  का युवा इसकी चपेट से लपेटा रहेगा .


जब तक देश में नशे के भेष का नकाब नहीं खुलेगा तो देश का युवा इस से ग्रसित होकर देश डूबते रहेगा


देश का खुफिया तंत्र यदि इस नशे को  देश के युवा को मारने का छुपा  हथियार नहीं समझेगा तब तक यह एक खाना पूर्ती की  कार्यवाही  मानकर कानून की किताब से एक ख़िताब बनाकर रखा जायेगा.

दोस्तों.., यह देश की छद्म आजादी के ७३ सालों का खेल है.. सच में इस वेबस्थल का स्लोगन है

“मेंरा संविधान महान , यंहा हर माफिया पहलवान “



Saturday, 5 September 2020

५ सितम्बर.., शिक्षक दिवस अब बना on line Teachers Day..., अब शिक्षक का अपना हर दिवस बना घर / पाठशाला में बैठकर, अब गरीब से अमीर विद्यार्थियों को घर से , विद्यार्जन प्राप्त कराने के नये युग आरम्भ होकर होनहार होने का शुरू हो गया है. आज टेबल (desktop) से जांघों में (Laptop} रखने वाले संगणक , जीवन में इस नए युग के विद्यार्थियो की उन्नत अनुसन्धान से जीवन लीला को निखारने की प्रतिस्पर्धा से एक स्वच्छ जीवन से राष्ट्र का उत्थान कर गौरान्वित करने का स्वर्णिम युग के शुरूवात हो रही है. देश के हर उम्र के वासियों को internet से विशाल ज्ञान भण्डार को वह अपने मस्तिष्क में संचयित से देश दुनिया की २४ घंटों में २४ दिशाओं का ज्ञान अर्जित कर अपने जीवन में स्व निर्मित, दिल में जूनून रखकर, न रुके.., न थमें का धेय्य रखकर आसानी से वैज्ञानिक बन कर देश को विश्व गुरू बना सकता है




५ सितम्बर.., शिक्षक दिवस अब बना on line Teachers Day..., अब शिक्षक का अपना हर दिवस बना घर / पाठशाला में बैठकर, अब गरीब से अमीर विद्यार्थियों को घर से , विद्यार्जन प्राप्त कराने के नये युग आरम्भ होकर होनहार होने का शुरू हो गया है.

आज टेबल (desktop) से जांघों में (Laptop} रखने वाले संगणक , जीवन में इस नए युग के विद्यार्थियो की उन्नत अनुसन्धान से जीवन लीला को निखारने की प्रतिस्पर्धा से एक स्वच्छ जीवन से राष्ट्र का उत्थान कर गौरान्वित करने का स्वर्णिम युग के शुरूवात हो रही है.

देश के हर उम्र के वासियों को internet से विशाल ज्ञान भण्डार को वह अपने मस्तिष्क में संचयित से देश दुनिया की २४ घंटों में २४ दिशाओं का ज्ञान अर्जित कर अपने  जीवन में स्व निर्मित, दिल में जूनून रखकर, न रुके.., न थमें का धेय्य रखकर आसानी से वैज्ञानिक बन कर देश को विश्व गुरू बना सकता है