Wednesday, 31 March 2021

मेरा संविधान महान ..., यहां हर माफिया पहलवान... संविधान की आड़ में देश की आत्माओं को भटकाओ

 


मेरा संविधान महान ...,  यहां हर माफिया पहलवान...

संविधान की आड़ में देश की आत्माओं को भटकाओ

मैं आँख का अंधा नाम नयन सुख.., तू राजनेताओं के गुलामी से पाये परम सुख , कानून की धज्जी उड़ाकर 100 करोड़ के भ्रष्टाचार से देश का बेड़ा गर्क कर देश को डूबाने की एक गहरी साजिस से बना एक माचिस ॥!!!

 


मैं आँख का अंधा नाम नयन सुख..,

तू राजनेताओं के गुलामी से पाये परम सुख , कानून की धज्जी  उड़ाकर 100 करोड़ के भ्रष्टाचार से देश का बेड़ा गर्क कर देश को डूबाने की एक गहरी साजिस से बना एक माचिस ॥!!!




चोर बने हैं थानेदार, बंद करो ये भ्रष्टाचार..., ये हैं मानवता के रोग , इनका करो अंतिम संस्कार... यह Animation सिर्फ मुंबई शहर में उद्धव ठाकरे व उनके माफिया संगठन की 100 करोड़ रूपये की उगाही सरकार के कलंक को चुनौती से एक आवाहन स्वरूप समर्पित

 


चोर बने हैं थानेदार, बंद करो ये भ्रष्टाचार..., ये हैं मानवता के रोग , इनका करो अंतिम संस्कार...

 

यह Animation सिर्फ मुंबई शहर में उद्धव ठाकरे व उनके माफिया संगठन की 100 करोड़ रूपये की  उगाही सरकार के कलंक को चुनौती से  एक आवाहन स्वरूप  समर्पित

Tuesday, 23 March 2021

सरदार भगत सिंग, राजगुरू , सुखदेव की पुण्य तिथी पर विशेष लेख ..,



सरदार भगत सिंग, राजगुरू , सुखदेव की पुण्य तिथी पर विशेष लेख ..,

 

अगर सरदार भगत सिह को तुम कब्र से उठाओं तो तुम उसे दुखी पाओगेक्योंकि जिस आजादी के लिए बेचारे ने जान गवाई , वह आजादी दो कौड़ी की साबित हुई , तुम शहीदों को उठाओं कब्रों से और “पूछों”. क्या इसी आजादी के लिए तुम मरे थे , इतने प्रसन्न हुए थे ...??, इन राजनीतिज्ञों के हाथ में ताकत देने के लिए तुमने कुरबानी दी थी ..?????, तो भगत सिह छाती पीट-पीट कर रोयेगा कि हमें क्या पता था , जिंदगी का...

 

गांधी तो ज़िंदा थे – आजादी आई और आजादी आने के बाद गांधी छाती पीटने लगे थे , गांधी बार-बार कहते थे मेरी कोई सुनता नहीं , मैं खोटा सिक्का हो गया हूँ , मेरा कोई चलन नही है गांधी दुखी हैगांधी सोचते थे : एक सौ पच्चीस साल जीऊंगा , लेकिन आजादी के नौ महीने बाद उन्होंने कहा अब मेरी एक सौ पच्चीस साल जीने की कोइ इच्छा नहीं है , यह बड़ी हैरानी की बात है , शहीदों की चिताओं पर भले मेले भर रहे हों , लेकिन शहीदों के चिताओं के भीतर आंसू बह रहें हैं

 


दिल्ली में तो सुभाष चन्द्र बोस के नाम पर कोई सड़क या गलियारा भी नहीं है

सौ बार जनम लेंगेसौ बार फ़ना होंगे
ऐ जाने वफ़ा फिर भी हम तुम ना जुदा होंगे

किस्मत हमें मिलने से रोकेगी भला कब तक
इन प्यार की राहों में भटकेगी वफ़ा कब तक
कदमों के निशाँ खुद ही मंजिल का पता होंगे
सौ बार जनम लेंगे...

 

लेकिन क्रांतीकारियों के मसून्बों पर पानी डालकर आज सभी सरकारों ने उन्हें “देशद्रोहियों” के प्रथम कतार में रखा गया है...,

 


काश नरेन्द्र मोदी कम से कम ७ रेस कोर्स का नाम ..जो प्रधानमंत्री पद के घोड़े का व्यापार (HORSE TRADING ) से ही विख्यात है....
यदि इस मार्ग का नाम वीर सावरकर / सरदार भगत सिंग / सुभाष चन्द्र बोस के नाम से रखा जाता तो देश में इंकलाब आ जाता ...नई पीढी को देश की आजादी के नीव रखने वाले फ़कीर से प्रेरणा मिलती..जिनके भगुर को अंग्रेजों द्वारा जब्त घर को वीर सावरकर के जीते जी भी नेहरू ने नहीं दिया


इस सन्दर्भ जब उनसे पूछा गया कि आप अपने जब्त घर के लिए सरकार से क्यों नहीं लड़ते हो..तो वीर सावरकर ने जवाब दिया की भले ही हमें खंडित भारत मिला है ..ऊंची हिमालय की चोटिया..विशाल खंडितभारतमाता के शरीर को खंडित का तांडव से..उसके सामने मेरा छोटा घर की मांग करना तुच्छ है....   

 

Tuesday, 2 February 2021

मोदीजी..., किसानों का जीवन करों संवार, किसान आंदोलन मे देशी – विदेशी टिड्डियों माफियाओं के गठबंधन का करो संहार. चौगुना होगी किसानों की पूंजी. यही बनेगी देश की सफलता की कुंजी.. किसान आंदोलन के माफिया हैवानियत से विदेशी शैतानों के मार्गदर्शन में तिरंगे के अपमान से अपनी शान समझ रहें हैं और देश की अस्मिता से खेल रहें है, अब इसे कुचलना होगा...

 


मोदीजी...
, किसानों का जीवन करों संवार, किसान आंदोलन मे

 देशी विदेशी टिड्डियों माफियाओं के गठबंधन का करो संहार.

 चौगुना होगी किसानों की पूंजी. यही बनेगी देश की सफलता

 की कुंजी..



किसान आंदोलन के माफिया हैवानियत से विदेशी शैतानों के

 मार्गदर्शन में तिरंगे के अपमान से अपनी शान समझ रहें हैं

 और देश की अस्मिता से खेल रहें है, अब इसे कुचलना होगा...

Monday, 11 January 2021

११ जनवरी , राष्ट्र का हत्या दिवस…, देशी- विदेशी माफियाओं का उल्लास दिवस..., जब ताशकंद से प्रधानमंत्री की लाश कंधे पर आई. ११ जनवरी, आज एक महान फ़कीर प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की ५५ वी पुण्य तिथी पर अश्रुपूर्वक प्रणाम..,जय –जवान किसान का सलाम..,

 



११ जनवरी , राष्ट्र का हत्या दिवस…, देशी- विदेशी

 माफियाओं का उल्लास दिवस...,


जब ताशकंद से प्रधानमंत्री की लाश कंधे पर आई.




११ जनवरी, आज एक महान फ़कीर प्रधानमंत्री लाल

 बहादुर शास्त्री की ५५ वी पुण्य तिथी पर अश्रुपूर्वक

 प्रणाम..,जय जवान किसान का सलाम..,


Friday, 2 October 2020

याद रहे लालबहादुर शास्त्री की ह्त्या के बाद कांग्रेसी माफिया कुत्ते कार्यकर्ताओं ने उनके घर में धावा बोलते हुए शास्त्री द्वारा काला धन जमा करने का आरोप लगाने पर , उनकी विधवा ने रोते हुए घर का संदूक दिखाते हुए कहा ये है मेरे पति की सम्पति.., ३ जोड़ी धोती कुर्ता व कार लोन में न चुकाने की असामर्थ्यता के पेपर... इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद स्वर्गीय लालबहादुर शास्त्री के घर का दौरा करते हुए उनका घर देखकर नाक सिकोड़ते हुए कहा “छी:...., MIDLE CLASS FAMILY “

 




आज २ अक्टूबर पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री के सपने के दिवस की देशी विदेशी माफिया ताकतों ने मिलकर ह्त्या करने के बाद का जश्न दिवस है.



लालबहादुर शास्त्री ने देश को विश्व गुरू के दहलीज पर पहुंचा देने के पूर्व ह्त्या कर दी.




यदि लालबहादुर शास्त्रीऔर दस साल और जीवित होते तो देश विश्व का दिव्यमान बनकर विश्व को  शांती का पाठ पढ़ाकर वैश्यविक आध्यात्मिक शक्ति से फलीभूत होता



याद रहे लालबहादुर शास्त्री की ह्त्या के बाद कांग्रेसी माफिया कुत्ते कार्यकर्ताओं ने उनके घर में धावा बोलते हुए शास्त्री  द्वारा काला धन जमा करने का आरोप लगाने पर , उनकी विधवा ने रोते हुए घर का संदूक दिखाते हुए कहा ये है मेरे पति की सम्पति.., ३ जोड़ी धोती कुर्ता व कार लोन में न चुकाने की असामर्थ्यता के पेपर...






इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद स्वर्गीय  लालबहादुर शास्त्री के घर का दौरा करते हुए उनका घर देखकर नाक सिकोड़ते हुए कहा “छी:....,  MIDLE CLASS FAMILY


====