Friday, 2 October 2020

याद रहे लालबहादुर शास्त्री की ह्त्या के बाद कांग्रेसी माफिया कुत्ते कार्यकर्ताओं ने उनके घर में धावा बोलते हुए शास्त्री द्वारा काला धन जमा करने का आरोप लगाने पर , उनकी विधवा ने रोते हुए घर का संदूक दिखाते हुए कहा ये है मेरे पति की सम्पति.., ३ जोड़ी धोती कुर्ता व कार लोन में न चुकाने की असामर्थ्यता के पेपर... इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद स्वर्गीय लालबहादुर शास्त्री के घर का दौरा करते हुए उनका घर देखकर नाक सिकोड़ते हुए कहा “छी:...., MIDLE CLASS FAMILY “

 




आज २ अक्टूबर पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री के सपने के दिवस की देशी विदेशी माफिया ताकतों ने मिलकर ह्त्या करने के बाद का जश्न दिवस है.



लालबहादुर शास्त्री ने देश को विश्व गुरू के दहलीज पर पहुंचा देने के पूर्व ह्त्या कर दी.




यदि लालबहादुर शास्त्रीऔर दस साल और जीवित होते तो देश विश्व का दिव्यमान बनकर विश्व को  शांती का पाठ पढ़ाकर वैश्यविक आध्यात्मिक शक्ति से फलीभूत होता



याद रहे लालबहादुर शास्त्री की ह्त्या के बाद कांग्रेसी माफिया कुत्ते कार्यकर्ताओं ने उनके घर में धावा बोलते हुए शास्त्री  द्वारा काला धन जमा करने का आरोप लगाने पर , उनकी विधवा ने रोते हुए घर का संदूक दिखाते हुए कहा ये है मेरे पति की सम्पति.., ३ जोड़ी धोती कुर्ता व कार लोन में न चुकाने की असामर्थ्यता के पेपर...






इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद स्वर्गीय  लालबहादुर शास्त्री के घर का दौरा करते हुए उनका घर देखकर नाक सिकोड़ते हुए कहा “छी:....,  MIDLE CLASS FAMILY


====



यदि आज २ अक्टूबर (देश का शोक दिवस) को गांधी का जन्म नहीं होता तो देश प्रथम विश्व युध्ह के पूर्व आजाद हो जाता.., गाँधी की गन्दी राजनीती जवाहर के जहर व जिन्ना के जिन से प्रधानमंत्री के दौड़ व बापू के संत बनने की अभिलाषा ने देश को खंडित करने का दंश आज भी देश भुगत रहा है प्रथम विश्व युद्ध में १ लाख से अधिक , द्वितीय में २ लाख से अधिक सेना के जवान व देश के बटवारे में २५ लाख से अधिक हिन्दुस्तानी गाँधी के छद्म अहिंसा के खड़ग से गाजर मूली की तरह काटे / मारे गए. हमें खंडित भारत आजादी के बजाय सत्ता परिवर्तन के रूप में मिला

 


यदि आज २ अक्टूबर (देश का शोक दिवस) को गांधी का जन्म नहीं होता तो देश प्रथम विश्व युध्ह के पूर्व आजाद हो जाता..,



गाँधी की गन्दी राजनीती जवाहर के जहर व जिन्ना के जिन से प्रधानमंत्री के दौड़ व बापू के संत बनने की अभिलाषा ने देश को खंडित करने का  दंश आज भी देश भुगत रहा है



प्रथम विश्व युद्ध में १ लाख से अधिक , द्वितीय में २ लाख से अधिक सेना के जवान व देश के बटवारे में २५ लाख से अधिक हिन्दुस्तानी गाँधी के छद्म अहिंसा के  खड़ग से  गाजर मूली की तरह काटे / मारे गए.  



हमें खंडित भारत आजादी के बजाय सत्ता परिवर्तन के रूप में मिला


-------





देश के," जय जवान जय किसान" के प्रणेता से देश को एक नै लहर देने वाले : २अक्टूबर के जन्मदाता, १८ महीनों के शासन में देश के सही मानों में भाग्य विधाता की भूमिका के सफल प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के दिन को गांधी जयन्ती नहीं देश का "शौर्य दिवस" के रूप में स्कूल में नव विद्यार्थियो को यह पढ़ाया जाय...कि कैसे एक निम्न वर्ग के प्रधानमंत्री ने निम्न श्रेणी को अपना जीवन व आदर्श मानकर, सभी सरकारी सुविधा का अपने परिवार के लिए त्याग कर .., मेरे घर से मेरी देश की तस्वीर से ही देश में राष्ट्रवाद की लकीर खीची जा सकती है... यह सिद्ध किया नेहरू के १८ वर्षों के अय्याशी के सोच के शौच को मात्र १८ महीने में साफ़ कर व पाकिस्तान को धूल चटाकर ...., विश्व ने प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को अब्राहम लिंकन के समक्ष खडा कर हिन्दुस्तान का लोहा माना कि देश की शक्ती "जवानों व किसानों" के बल से ही बढ़ती है ना की/कि विदेश से कर्ज लेकर ..., ब्याज देकर नेताओं की अय्याशी से जनता को ब्याज से प्याज के तरह आंसू निकाल कर, जो आज के परिपेक्ष्य में लोक तंत्र को लूट तंत्र का खेल खेला जा रहा है ..., इसे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने समाप्त कर दिया था

 


देश के," जय जवान जय किसान" के प्रणेता से देश को एक नै लहर देने वाले : २अक्टूबर के जन्मदाता, १८ महीनों के शासन में देश के सही मानों में भाग्य विधाता की भूमिका के सफल प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के दिन को गांधी जयन्ती नहीं देश का "शौर्य दिवस" के रूप में स्कूल में नव विद्यार्थियो को यह पढ़ाया जाय...कि कैसे एक निम्न वर्ग के प्रधानमंत्री ने निम्न श्रेणी को अपना जीवन व आदर्श मानकर, सभी सरकारी सुविधा का अपने परिवार के लिए त्याग कर .., मेरे घर से मेरी देश की तस्वीर से ही देश में राष्ट्रवाद की लकीर खीची जा सकती है... यह सिद्ध किया

नेहरू के १८ वर्षों के अय्याशी के सोच के शौच को मात्र १८ महीने में साफ़ कर व पाकिस्तान को धूल चटाकर ...., विश्व ने प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को अब्राहम लिंकन के समक्ष खडा कर हिन्दुस्तान का लोहा माना कि देश की शक्ती "जवानों व किसानों" के बल से ही बढ़ती है ना की/कि विदेश से कर्ज लेकर ..., ब्याज देकर नेताओं की अय्याशी से जनता को ब्याज से प्याज के तरह आंसू निकाल कर, जो आज के परिपेक्ष्य में लोक तंत्र को लूट तंत्र का खेल खेला जा रहा है ..., इसे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने समाप्त कर दिया था

Thursday, 1 October 2020

कोविंदजी आपके ७५ वर्ष पुरे करने से देशवासियों में हर्ष है.., पूरा देश आपको शतायु देखना चाहता है ,राष्ट्रपति भवन में कोरोना के पदार्पण से आपके विभाग के कर्मचारियों को जकड लिया था लेकिन आप साबूत बच गए.. आपने नमस्कार के संस्कार से चमत्कार कर इस बीमारी को राष्ट्रपति भवन से भगाया “दोस्तों कोरोना भगाने का एकमात्र सनातनी मंत्र है “हाथ नहीं, तन - दूरी (Social Distancing) द्वारा दिल से दिल मिलाकर इस महामारी को देश व दुनिया से भगायें, नमस्कार के संस्कार से कोरोंना भगाने का चमत्कार अपनाएँ .., आओं डूबते देश व दुनिया को बचाएँ”



कोविंदजी आपके ७५ वर्ष पुरे करने से देशवासियों में हर्ष है.., पूरा देश आपको शतायु देखना चाहता है ,राष्ट्रपति भवन में कोरोना के पदार्पण से आपके विभाग के कर्मचारियों को जकड लिया था लेकिन आप साबूत बच गए..


आपने  नमस्कार के संस्कार से चमत्कार कर इस बीमारी को राष्ट्रपति भवन से भगाया.


“दोस्तों कोरोना भगाने का एकमात्र  सनातनी मंत्र है 

 

“हाथ नहीं, तन - दूरी (Social Distancing) द्वारा दिल से दिल मिलाकर इस महामारी को देश व दुनिया से भगायें, नमस्कार के संस्कार से कोरोंना भगाने का चमत्कार अपनाएँ .., आओं डूबते देश व दुनिया को बचाएँ”


लेकिन दुःख सिर्फ इस बात का है की दुश्मन देश का   “कोरोना” उपराष्ट्रपति वन्कैया नायडू को अभी सिर्फ मिला है व उनमें इसके चिन्ह भी मिले है, इसकी भनक लगते ही वे Quarantine में चले गए हैं ,सम्पूर्ण देशवासी उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं   


प्रणव दा आपकी ८५ वर्ष की आयु में ३१ अगस्त में देहांत से श्रधांजली ..., आपकी इच्छा भगवान् ने पुरी कर दी जो आप बचपन की कल्पना से आप कहते थे “काश. मैं राष्ट्रपति भवन का घोड़ा होता..., भगवान अगले जन्म में मुझे इस भवन का घोड़ा बनाना.... “ अब आप पवन वेग के घोड़े द्वारा , पहुँचे देवलोक के द्वार,अब हुआ तुम्हारा भव्य सत्कार... दुःख सिर्फ इस बात का है की दुश्मन देश के “कोरोना” ने आप जो देश के "भूतपूर्व प्रथम नागरिक" को मात दे कर आपकी जीवन लीला छीन ली ..


 

प्रणव दा आपकी  ८५ वर्ष की आयु में ३१ अगस्त में देहांत से श्रधांजली ...,

 

आपकी इच्छा भगवान् ने पुरी कर दी जो आप बचपन की कल्पना से आप कहते थे “काश. मैं राष्ट्रपति भवन का घोड़ा होता..., भगवान अगले जन्म में मुझे इस भवन का घोड़ा बनाना.... “           

 

अब आप पवन वेग के घोड़े द्वारा , पहुँचे  देवलोक के द्वार,अब हुआ तुम्हारा भव्य  सत्कार...

दुःख सिर्फ इस बात का है की दुश्मन देश के        “कोरोना” ने आप जो देश के "भूतपूर्व प्रथम नागरिक"  को मात दे कर आपकी जीवन लीला छीन ली ..

Wednesday, 30 September 2020

बापू के तीन बंदर, अब बन गये है मस्त कलन्दर http://meradeshdoooba.com ....दीपिका का कोठा.... “MY CHOICE IS MY VOICE”. मेरे बदन के SIX ABS पर चढ़ने के लिए पादुकाओं का कोण बनाओं विष कन्या से विशेष कन्या ..., SEX के SUCCESS से “SUCK कन्या” मेरी मर्जी मेरा तन कितने को भी दूं..., मन से, कुछ भी कह.., अरबों का धन कमाऊ, चाहें कितने भी युवा इस समुंद्री रूपी भंवर में डूब जाए..

Repost.., 23 April 2015..., आज भी सार्थक पोस्ट

बापू के तीन बंदर, अब बन गये है मस्त कलन्दर http://meradeshdoooba.com

....दीपिका का कोठा....  “MY CHOICE IS MY VOICE”.

मेरे बदन के SIX ABS पर चढ़ने के लिए पादुकाओं का कोण बनाओं 

विष कन्या से विशेष कन्या ..., SEX  के SUCCESS  से  “SUCK कन्या

मेरी मर्जी मेरा तन कितने को भी दूं...मन सेकुछ भी कह..अरबों का धन कमाऊचाहें कितने भी युवा इस समुंद्री रूपी भंवर में डूब जाए..



.

  ·

देखू: आज का तरूण अश्लीलता को अपने जीवन की असली रील बनाकर खेलता देख रहा हूं

बोलू: देश में ०.५% अरबपति व पत्नियां आज भी पाश्चात्य संस्कृति को सनातन संस्कृति का पिता कह.., देश के युवाओं के नए खून में विष घोल रही है 




देखू: हां दीपिका पादुकोण के पादुकाओं का कोण का U TUBE में विश्व के युवाओं की दिमाग की TUBE  फ्यूज कर दी है, FACE BOOK को FUN BOOK की कुंजी मानकर, इसे ७ करोड़ लोगों ने देखकर इस SUCK कन्या को धन से मालामाल कर दिया है..




बोलू  देश की सनातन संस्कृति में जहां २५ वर्ष तक ब्रह्मचर्य के ताप से युवक, गुरूकुल की शिक्षा से अपने ज्ञान ध्यान- विज्ञान से परख कर निकालता था और आज का युवक,अपने २५ वर्ष की आयु  सेक्स के प्रभाव से अपना जीवन की ऊर्जा इस काल्पनिक समुंद्री रूपी भंवर में डूबो  देता है.. 


देखू: देख रहा हूँ ,इस कुचक्र से देश के युवाओं में राष्ट्र शक्ति क्षीण होकर.., इसी से प्रेरित होकर, शराब सिगरेट की लत से अपना जीवन की नीव को बर्बाद कर रहा है.. व फिल्मों से इनकी भावनाए सेक्स से बलात्कार की ओर ले जाता है .


बोलू: इस अश्लीलता की होड़ में फ़िल्में भी ५०० से ६०० करोड़ के मुनाफे में, राष्ट्र के गौरव हनन के साथ राष्ट्र का पतन कर रही है..., सरकारें भी टैक्स की आड़ में, हवाले धन के प्रवाह को जानकर भी आँखें मूंदे बैठी है..


देखू: इसका कारण देख रहा हूं, मीडिया वर्ग के चंद वरिष्ठ लोगों ने प्रिंट व मीडिया में इतना वर्चस्व बना लिया है कि इनका विरोध करने पर, यह वर्ग, सत्ताखोरों के अन्य छिपे घोटालों के नाड़े को खोलकर इन्हें भी इसी नग्नता के कतार में शामिल कर सकती है.., इसी भय से वे भी चुप हैं...


बोलू: इसमें भी  मीडिया-माफिया-नौकरशाही-सत्ताशाही के गठबंधन के अटूट बंधन की बू आती है.

 

सुनू:  आज छोटे चकलाघरों में देश से चुराई गयी नाबालिक गरीब लड़कियों व नौकरी के झांसे में बाहार के प्रदेशों से लाई गई लड़कियों को इस व्यवसाय में धकेल दिया जाता है ..., और फिल्मों में तो सुन्दर महिलाओं को हीरोईन का लालच देकर देह शोषण से इनहें  उच्च वर्गो के लोगों में परोश दी जाती है...




देखू: हाँ ..., सत्ताधारी से विरोधी वर्ग भी इस स्टिंग ऑपरेशन में फंसकर,, इन महिलाओं की ह्त्या कर अपना दामन साफ़ कर लेते है.


बोलू: आज नारी सशक्तिकरण की आड़ में वेश्यावृति, व महिला आयोग, धिक्कार आयोग बनकर , बापू के तीन बंदर बन आँख, कान व मुंह पर पट्टी बांधकर अपना हिस्सा ले लेती है.


देखू: एक देखी बात बताता हूं मनमोहन सिंग के कार्यकाल में अन्ना आन्दोलन के, पहिले कनाडा इंग्लैंड व यूरोपीय देशों में नारी सशक्तीकरण में वहां की महिलाओं ने दलील दी थी कि पुरूष सड़कों पर अपना ऊपरी बदन नंगा कर, चल सकते हैं तो महिलाए क्यों नहीं..,, इसके प्रतिरोध में महिलाओं ने उपरी बदन दिखाकर सडकों में SLEDGE SHOW का प्रदर्शन किया..,  इसके समर्थन में इन्डियन वर्ग के खाते पीते घर की धनाड्य महिलाओं को सरकार ने जंतर मंतर से संसद भवन तक इसी तरह के प्रदर्शन की अनुमति दी ., जबकि इसके २ दिन बाद अन्ना को जंतर मंतर मे, अपनी कुर्सी हिलने के डर से  अनशन की अनुमति नहीं दी.


बोलू: देश में दो तरह का वर्ग है.., एक आदिवासे वर्ग जो भुखमरी से अपने वस्त्र नहीं खरीद पाने से नग्न रहता है  ... दूसरा  धनाड्य महिलाओं का , जो अपनी नग्नता से धन ही नहीं, ख्याति भी प्राप्त करता है.

बोलू: बिग बॉस की एक विदेशी महिला, ब्लू फिल्मो की नायिका, सन्नी लियोंन..., SUN+LION .के अंग प्रदर्शन से, युवाओं के सूर्य रूपी ऊर्जा व बाघ की शक्ती को अपने सेक्स सिंबल से के आज की आधुनिक सीता से रामलीलाका अभिनय कर,आज देश की महा से महानायिका बना दिया, वही MY CHOICE  की दीपीका ने अपने दीपक की लौसे युवको के चरित्र को कीट पतंगे बनाकर कर जला दिया है...

   

देखू: इस फ़िल्मी बाजार की BLUE FILM से, इन धनाड्य वर्गों के जीवन में धन की हरियाली फ़ैल रही है.., और देश के युवाओं में चरित्र हनन से देश में सूखापन बढ़ रहा है...

बोलू: इससे पश्चाताप करने के बजाय ,हताश युवा वर्ग सुगम तरीके से धन कमाने के लालच में  अपना जीवन अपराध व धोकाघड़ी में झोंक देता है..., सामान्य निर्दोष लोगों को अपना मोहरा बनाता है..


देखू: आज देश में नग्नता का भयावह दृश्य देख रहा हूं ,, अब इस देश का क्या होगा.


बोलू: इसकी शुरूवात तो घर के छोटे परदे से हो रही है, यदि सरकार टेलीविजन से अश्लीलता की रास लीला में रोक लगा दे तो यह रोग 90% ख़त्म हो जाएगा ...देश में संस्कारी व हमारे गौरवशाली अतीत के  सीरियल से तरूण युवकों को एक स्वस्थ सन्देश से राष्ट्र के गौरव का सम्मान बढ़ाने की भागीदारी से अहम् भूमिका बनेगी.., सोया राष्ट्रवाद जाग उठेगा


साभार :  meradeshdooob.com से , कृपया ८00 पोस्टों के लिए वेबस्थल की यात्रा करें..



Sunday, 27 September 2020

ड्रग - ए – आजम.., प्यार के झांसे से ड्रग के कारोबार से पीठ में खंजर, भोंकने का नहीं कोई पब्लिक डिमांड अब देता हूँ तुम्हें जेल का रिमाण्ड...


 


ड्रग - ए – आजम..,

प्यार के झांसे से ड्रग के कारोबार से पीठ में खंजर, भोंकने का नहीं कोई पब्लिक डिमांड अब देता हूँ तुम्हें जेल का रिमाण्ड...