Friday, 18 September 2020

विदेशी माफियाओं के इशारों से ड्रग, ब्लैकमनी. Money Launderings, हवाला के खेल से बॉलीवुड देश की संस्कृति का पतन कर, मादकता से मदहोश होकर विदेशी पताकाओं को लहराकर नशे में मशगूल है व नयी पीढी में राष्ट्रवाद की बत्ती गुल है.. राष्ट्रवाद को नशावाद से देश को तुकडे करने का खेल है .., देश को डूबोने की यह तकनीति है.., राष्ट्रनीती की दुर्गति है .. साभार : www.meradeshdoooba.com मेरे होंठों की लाली, बॉलीवुड की थाली, मेरी बेटी व परिवार की हरियाली से खुशहाली ... ============= अब इतने छेद हो गएँ हैं कि समझ में नहीं आ रहा है “कहाँ से साँस लें, कहाँ से पादे”


 

विदेशी माफियाओं के इशारों से ड्रग, ब्लैकमनी. Money Launderings, हवाला के खेल से बॉलीवुड देश की संस्कृति का पतन कर, मादकता से मदहोश होकर विदेशी पताकाओं को लहराकर नशे में मशगूल है   नयी पीढी में राष्ट्रवाद की बत्ती गुल है.. राष्ट्रवाद को नशावाद से देश को तुकडे करने का खेल है .., देश को डूबोने की यह तकनीति है..,  राष्ट्रनीती  की दुर्गति  है ..

साभार : www.meradeshdoooba.com

 

 मेरे होंठों की लाली, बॉलीवुड की थाली, मेरी बेटी व परिवार की हरियाली से खुशहाली ...

=============

अब इतने  छेद हो गएँ हैं कि समझ में नहीं आ रहा है “कहाँ से साँस लें, कहाँ से पादे”

No comments:

Post a comment