Saturday 17 February 2024

क्या.., मॉर्य अब राहुल गांधी की “न्याय यात्रा “ टोली में शामिल होकर अपनी बोली से कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ कर देंगे



 स्वामी प्रसाद मौर्य ने स्वन्यभू से दलित के मसीहा कहकर भाजपा को आँखें दिखाने का स्वांग  भारी पड़ गया 




अखिलेश यादव ने दलित वर्ग के वोट हथियाने स्वामी प्रसाद को अपने कंधे पर बिठाकर “साइकिल”का हैंडल उनकी जूती से चलाने के खेल में पार्टी को ले डूबी


 

अब “रामचरितमानस” जलाकर हिंदू समाज को स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा निष्कृष्ठ बताकर समाजवादी पार्टी को भस्म करने से, पार्टी से निकाले गये 



क्या.., अब वे राहुल गांधी की “न्याय यात्रा “ टोली में शामिल होकर  अपनी बोली से कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ कर देंगे 


Saturday 10 February 2024

आने वाला है चुनावी त्योंहार .., भारतरत्न की बौछार.., बन रही मोदी सरकार के गले की हार ..

 आने वाला है चुनावी  त्योंहार ..,  भारतरत्न की बौछार.., बन रही मोदी सरकार के गले की हार .. 



—————————




क्रांतिकारियों को दुत्कार - राजनेताओं की जय- जय -कार , यही है सत्ता में रहकर स्वन्य का, करने का उपकार 

———————-



विश्व के एकमेव महान क्रांतिकारी वीर परमवीर विनायक दामोदर सावरकर जिनके दोनों भाई , एक अंडमान जेल व दूसरा पंजाब जेल में क़ैद थे जिनके बारे में विनायक सावरकर को जेल में अंतिम दिनों में पता चला जो ७७ साल पहिले से भारतरत्न के अधिकारी थे 


सन् १९४८, गांधी हत्या में इन्हें कांग्रेसीयों द्वारा अपराधी कहकर जब कोर्ट के लताड़ने के बावजूद की सावरकर का नाम इस हत्याकांड में ज़बरदस्ती घसीटने व उनके छवि धूमिल का खेल बताया 


तब जवाहरलाल नेहरू ने सन् १९५५ में अपने को मोहनदास गांधी का दास कहकर अपने नाम भारत रत्न “हड़प व गड़प” लिया 


मित्रों.., 

ये देश की ७७ सालों के इतिहास 

में पहले बार चुनावी खेला के समीकरण से विरोधी पार्टियों को वशीकरण से वैतरणी नदी पार करने का सत्ता से सार्थक मंत्र का उदाहरण है 



Tuesday 6 February 2024

आदरांजली “आनंद मठ” की कोकिला को ६ फ़रवरी २०२४ .., लता दीदी .., द्वितीय पुण्य तिथि.., अद्वितीय संस्मरण..,


 

आदरांजली “आनंद मठ” की कोकिला को




६ फ़रवरी २०२४ .., 


लता दीदी .., द्वितीय पुण्य तिथि.., अद्वितीय संस्मरण.., रहें ना रहे “आप” महाका करेंगी, 




आपकी अवाज “पायोजी मैंने राम रतन धन पायो “ से प्रभु राम भी लता चौक को निहारते “एक आभाष” से महसूस कर रहें है की “स्वर साम्राज्ञी” की आज भी “तड़फ” है की जिसने अपना जीवन का गीत  “मरणोंपरांत”  से इस ब्रह्मांड के हर कणों को राममय से विभूतित कर धन्य कर दिया है



लता चौक का लोकार्पण: 

जब तक सूरज चाँद रहेगा… सूरज व चाँद की निहारती रौशनी से देश व दुनिया के वासी के कर्ण में लता दीदी के स्वर में उमंग की तरंग से जीवन में ख़ुशहाली रहेगी 






Wednesday 31 January 2024

विदेशी हवाओं से किसी देश का झंडा फहराता है तो वह देश अपने संस्कृति के साथ उड़कर डूब जाता है ..




 

(तीन भागों में)

मोदीजी.., राम -राम..

३० जनवरी के मेरा काल दिवस से नथूँराम ने दिया मुझे पूर्ण कालिक विश्राम 

ऐसे भी . सत्ता परिवर्तन को आज का ढकोसला से देश के टुकड़े करकर , मेरी ऐसे भी कोई  नही सुनता था व हर कांग्रेसी जो सत्ता को अय्याशी की कुर्सी से हो रहा था बेलगाम ..

जनता भी इस आबू हवा से थी परेशान ..

और मुझे “राष्ट्रपिता” का तमग़ा कहकर , विगत ७५ वर्षों से जनता को धोखा देकर .., 

“गांधी” नाम के भ्रष्टाचार की नैया से २१ वी शताब्दी के सन् २००४ से २०१४ तक की इटली की वैतरणा  नदी पार करने की एक “कसौटी” भी सार्थक हो गयी..







“मोदीजी” मैं अब और ऊँचीई नहीं छूँ सकता है 

“मुझे इस नोटों के खेल में और मत खींचो”

अभी मेरे काल दिवस ३० जनवरी २०२४ को मेरा पाँव फिसलने से शेयर बाज़ार का सूचकांक ८०१ अंकों की गिरावट से देशवासियों को ३ लाख करोड़ रुपये से अधिक का चूना लगाने से अब गरीब जनता में सुगबुगाहट है की कृत्रिम तेज़ी व माखनबाज़ी कराकर गांधी नाम की मार्केटिंग हो रही है 

मेरा स्वदेशी का नारा हो गया “हराम .., हे राम..

अब अयोध्या में आ गये  हैं “श्रीराम.., “

अब देश के युवाओं में शक्ति संचार से राष्ट्र में शक्ति डालने के लिए अब वे “देशी हाथ, साथ, विचार व संस्कार से बेताब हैं । अब देश का भविष्य सुसज्जित है 

अब देश को सरताज बनाने से कोई नही रोक सकता है 

“मोदीजी” .., “विदेशी हवाओं से किसी देश का झंडा फहराता है तो वह देश अपने संस्कृति के साथ उड़कर डूब जाता है ..”

कृपया , नोटों से मेरा चित्र हटाकर मुझे मुक्ति दो..

मोदीजी राम -राम..
३० जनवरी के मेरा क

ऐसे भी . सत्ता परिवर्तन को आज का ढकोसला से देश के टुकड़े करकर , मेरी ऐसे भी मेरी कोई  नही सुनता था व हर कांग्रेसी जो सत्ता को अय्याशी की कुर्सी से हो रहा था बेलगाम ..

जनता भी इस आबू हवा से थी परेशान ..

और मुझे “राष्ट्रपिता” का तमग़ा कहकर , 

विगत ७५ वर्षों से जनता को धोखा देकर .., गांधी नाम के भ्रष्टाचार की नैया से सन् २००४ से २०१४ की इटली तक की वैतरणा  की नदी पार करने की एक “कसौटी” भी सार्थक हो गयी..

“मोदीजी” मैं अब और ऊँचीई नहीं छूँ सकता है 

“मुझे इस नोटों के खेल में मत खींचो”

अभी मेरे काल दिवस पर मेरा पाँव फिसलने से शेयर बाज़ार का सूचकांक ८०१ अंकों की गिरावट से ३ लाख करोड़ रुपये से अधिक के गिरावट से अब गरीब जनता में सुगबुगाहट है की कृत्रिम तहत कराकर गांधी नाम की मार्केटिंग को रही है 

मेरा स्वदेशी का नारा “हो गया , हराम .., हे राम..

अब अयोध्या में आ गये श्रीराम.., 

देश के युवाओं को राष्ट्र में शक्ति डालने के लिए “देशी हाथ, साथ, विचार व संस्कार से बेताब हैं 

अब देश को सरताज बनाने से कोई नही रोक सकता है


Friday 26 January 2024

गणतंत्र को गुणतंत्र से विश्वगुरु बनाना हो तो यह स्लोगन देश के काले माफ़ियाओ को तेजगन से नष्ट करेगा ———————- जो देश से करे “प्यार”, वह कभी नही करे “भ्रष्टाचार”

 



गणतंत्र को गुणतंत्र से विश्वगुरु बनाना हो तो यह स्लोगन देश के काले माफ़ियाओ को तेजगन से नष्ट करेगा 

———————-

जो देश से करे “प्यार”, वह कभी नही करे “भ्रष्टाचार”

————————-

आओ “पार्टी” नही देश का “पार्ट” बने, मै “ मैं देश के लिए बना हूँ ,देश की माटी बिकने नही दूँगा”


“वेतन लेकर वतन बेचने वालों का हिसाब हॉगा”

“क़ानून में गिद्धों का नक़ाब उतरेगा”


One who loves the country should never do corruption.


Come.., let's not be a "party" but become a "part" of the country, I am "made for the country, I will not let the soil of the country be sold"


“Those who sell their country by taking salary will be held to account”

“Vultures will be unmasked through law”


प्रयत्न व साभार 

www.watankerakhwale.com


Under construction


Promoted by 2012 old running web www.meradeshdoooba.com

Monday 22 January 2024

अब यह शुभ घड़ी ५०० साल बाद आ गई है 🕍🕍🕍


अब यह शुभ घड़ी ५०० साल बाद आ गई है 

🕍🕍🕍





————

२२ जनवरी, अयोध्या में श्रीराम के आगमन से भारतवर्ष में सनातन के उत्थान से दुनिया को एक नये प्राण की अनुभूति



———-




Sunday 31 December 2023

शिक्षा,स्वास्थ्य,धर्म पर आतंकवाद के सुरंग में हथियार से मानवता पर कलंक ..,


 २६/११ हमलो के बाद यह नारा और जोरों से गूंजता रहा - आतंकवाद का कोई धर्म नही होता - कांग्रेस से कम्युनिस्टों की मूक सहमति से देश दहलता रहा 


और राहुल गांधी द्वारा विकिलीक्स से दुनिया को संदेश दिया कि “भगवा आतंकवाद सीमा पार के आतंकवादियों से देश को बड़ा ख़तरा है 


इसी आड़ से तुष्टिकरण से अल्पसंख्यक वोटबैंक पर अपना अधिकार जताकर कांग्रेस पार्टी ने देश को लूटा ..,



अब हमास “आतंकवाद” से अपने ही देश के धर्म , शिक्षा संस्थानों व चिकित्सालयों को ढाल बनाकर अपने ही देश के नागरिकों की हत्या का पर्दाफ़ाश होने से जो विश्व बिरादरी द्वारा  इज़राइल के विरोध का स्वर बुलंद कर रही थी , अब वास्तविकता सामने आने पर बोलती लगभग बंद हो चुकी है 


विश्व आज आधुनिक हत्यारों से ज़्यादा आतंकवाद के प्यादा से ग्रसित है और यह बीमारी अब महामारी बनकर दुनिया को ले डूबेगी..

—————-

शिक्षा स्वास्थ्य धर्म पर आतंकवाद के सुरंग में हथियार से मानवता पर कलंक ..,


अब बेंजामिन नेतन्याहू का विध्वंस ..


A stigma on humanity with weapons in the tunnel of terrorism on education, health and religion..,


Now the destruction of Netanhu..