Saturday, 13 August 2022

विन्सटन चर्चिल, इंग्लँड के दूरदर्शी प्रधानमंत्री जिनकी भारत को सत्ता सौंपने की भविष्यवाणी ७५ सालों बाद और भी जीवंत हो रही हैं “अब ये सत्ता दुष्टों, बदमाशो और लुटेरो के हाथों में चली जाएगी. भारत के सभी नेता ओछी क्षमता वाले और भूसा किस्म के व्यक्ति होंगे. उनकी ज़बान मीठी होगी लेकिन दिल निकम्मे होंगे. वे सत्ता के लिए एक दुसरे से लड़ेंगे और इन राजनितिक झड़पों में भारत का खातमा हो जाएगा. एक दिन आएगा जब भारत में हवा और पानी पर भी टैक्स लगा दिया जाएगा.”

 


विन्सटन चर्चिल, इंग्लँड के दूरदर्शी प्रधानमंत्री जिनकी भारत को सत्ता सौंपने की भविष्यवाणी ७५ सालों बाद और भी जीवंत हो रही हैं

 

 अब ये सत्ता दुष्टों, बदमाशो और लुटेरो के हाथों में चली जाएगी. भारत के सभी नेता ओछी क्षमता वाले और भूसा किस्म के व्यक्ति होंगे. उनकी ज़बान मीठी होगी लेकिन दिल निकम्मे होंगे. वे सत्ता के लिए एक दुसरे से लड़ेंगे और इन राजनितिक झड़पों में भारत का खातमा हो जाएगा. एक दिन आएगा जब भारत में हवा और पानी पर भी टैक्स लगा दिया जाएगा.


 “Now this power will go into the hands of rascals, miscreants and robbers. All the leaders of India will be people of low caliber and straw type. His tongue will be sweet but his heart will be useless. They will fight each other for power and India will end in these political clashes. A day will come when air and water will also be taxed in India."

 

मेरे वेबस्थल का स्लोगन इस युक्ति से गहन रूप से जुड़ा है जो निम्न है

 

मेरा संविधान महान.., यंहा हर माफिया पहलवान..

 

और इस चीज़ की सजीवता को देखकर मेरे वेबस्थल का नाम रखा है।

 

www.meradeshdoooba.com

 

Twitter Account है

Deshdrohi Urf pagal (@DeshdrohiGhulam) / Twitter

इसकी हर पोस्ट PMO office व प्रधानमंत्री को भेजी जाती है ,,

 

देश के सभी नारे अफ़ीमों की थैली है और इसे बांटने वाले राजनैतिक देशप्रेमिओं  की भरमार से अकूत धन कमाकर देश को बांटने की साजिस से माचिस ( देश जलाने वाले ) जेब मैं लेकर घूम रहें हैं

 

देश का  ७५वी सत्ता परिवर्तन के बाद देश को डूबाने से बचाने के लिए निम्न है

 

जो करे देश से प्यार…, वह कभी नही करे भ्रष्टाचार…,

 

मैं देश के लिए बना हूँ ….

 

मैं देश को कितना और अधिक , अतिरिक्त श्रम व बुद्धि बल से योगदान { योग-दान ) निस्वार्थ रूप से दूं तो …,

 

जैसे बरसात के पूरे में बादल एक छोटे गड्डे से तालाब नदी व समुंदर से उसके क्षमता के अनुसार पानी खिचता है लेकिन जब व पानी बरसाता है तो सभी को समान रूप से पानी बरसाता है उसी तरह से देश के मेहनत से  सभी संसाधन छलक के हर देशवासी धन - धान्य से सुख शांति से प्रकृति के यापन से प्रतिभूत व आनंदित रहेगा

 

यदि देश की नौकरशाही, जजशाही व वर्तमान देश की आदमखोर राजनीति..., अब भी,  व जनता के दर्द को अपना दर्द समझ कर सकारात्मक/ ईमानदारी से जी जान से इसका निवारण करें तो हम एक साल के भीतर सफलता से देश में सुजलाम सुफ़लाम से विश्व गुरू से राम महावीर व बुद्ध से शुद्ध रूप से शांति दूत का पैग़ाम जीयो और जीने दो..को चरितार्थ कर मानव जीवन को एहसास करा देंगे की इस धरा पर जीवन स्वर्णिम व स्वर्ग से भी सुंदर है

 

साभार www.meradeshdoooba.com (स्थापना 26 दिसम्बर 2011)

Friday, 12 August 2022

पटेलजी आप देश की ५०० से अधिक रियासतों को जोड़ने की पहेली सुलझाते रहों .., मेरा खंडित भारत का प्रधानमंत्री पद पर कब्जा प्रमुख मुद्धहा है

 

पटेलजी आप देश की ५०० से अधिक रियासतों को जोड़ने की पहेली सुलझाते रहों .., मेरा  खंडित भारत का प्रधानमंत्री पद पर कब्जा प्रमुख मुद्धहा है

 


Patelji, you keep solving the puzzle of connecting more than 500 princely states of the country.., the capture of the Prime Minister's post of my fragmented India is the main issue.

------------------------------------------

सरदार पटेल ग़ुलाम हिंदुस्तान में भी कोंग्रेस प्रदेश अध्यक्षों के चहेते थे व सत्ता परिवर्तन के साथ हिंदुस्तान में प्रधानमंत्री पद के लिए चुन लिए गए थे

लेकिन…!!!

गांधी की गंदी राजनीति व जवाहर के प्रधानमंत्री पद पर गांधी के कहने पर नियुक्ति से  जवाहर के ज़हर का क़हर से आधा कश्मीर हिंदुस्तान के हाथों से छीन लिया गया

 


इतिहास का अवलोकन किया जाय तो सरदार पटेल का 1947 से बचा सम्पूर्ण जीवन देश की ५६० रियासतों को मिलाने व युद्धस्तर से हैदराबादव जूनागढ़ व अन्य रियासतों व मुख्य रूप से कश्मीर को पूर्णरूपेण देश में मिलाने का सपना जवाहर के ज़हर ने क़हर फैला कर सरदार पटेल के मंसूबोंमें पानी फेर ददिया

 

दोस्तों बड़े दुःख के साथ लिखना पड़ रहा है की आज भी ९५ प्रतिशत संस्थानों के नाम इन देश के लुटेरों व ५० लाख सनातनी के खून की नदी बहानेवालों के जवाहर की चौथी पीढ़ी व गांधी नाम पर है

पटेल व अन्य क्रांतिकारियों का नाम नेपथ्य में गुमसूदा कर  ७५ सालों से हमें झूठा इतिहास पढ़ा कर देशवासियों / हमें बूज़दिल कौंम  दर्शा कर देश के प्रति लड़ने का जोश ख़त्म करने का एक सुनियोजित षड्यंत्र से देश में अलगाववाद व घुसपैठियों को वोट बैंक बनाकर आज  ७५ सालों बाद भी देश को तोड़ने का यह खेल बदस्तूर जारी है ….

सोचो  .. सोचो.. सोचो

यह समस्या देश को निगल जाएगी

यदि  प्रधानमंत्री मोदी के लिए एक छोटे समय में  इस समस्या का निदान का कदम ना उठाया गया तो देश में  छुपे टुकड़े  गैग  हावी होकर देश की बरबादी का खेल बदस्तूर जारी रहेगा

 


Thursday, 11 August 2022

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के एक सच्चे उपासक के रूप में उन्होंने जीवनभर देश व जनता की सेवा की.'' · कल्याण सिंह: वो दिग्गज जो आज बुलंदी पर पहुंच चुकी बीजेपी की बुनियाद था


 

·        

·         UP: राममंदिर आंदोलन के नायक कल्याण सिंह ही है भले कोई इसका झूठा श्रेय लेकर अपनी सत्ता चमकाने का स्वांग करे  

·          

राम सीता को 14 साल का वनवास मिला लेकिन उनके  जन्म  के अवशेष को 1527 -  1992 के लगभग 400 सालों से कब्र में अवशेष बनाकर रखा व टेंट में मर्यादा पुरुषोत्तम को एक चुसपैठीया के समान व्यवहार कर एक  उपहास कर वर्षों तक  टेंट में रखकर देश की अस्मिता से खिलवाड़ किया  

·         कल्याण सिंह उतरप्रदेश के राजनीति में हिन्दुत्व के एक ऐसे  चेहरे थे

·          

इनके मुख्यमंत्री रहते 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद विध्वस की घटना हुयी थी. घटना के बाद कल्याण सिंह को  इस्तीफा देना पड़ा था. और इसमें कोई संकोच नही किया

 

उत्तरप्रदेश के राजनीति में हिन्दुत्व की चमक पूरे देश मैं फैली व ध्वस्त बाबरी मंदिर की 25 वर्षों से अधिक की अदालत में लड़ाई लड़कर मंदिर की खुदाई से  स्पष्ट हो गया की इसकी नीव को तोड़कर राम व उनकी परिवार की मूर्तिया डालकर उसके ऊपर बाबर ने मस्जिद का रूप देकर निर्माण किया फलवरूप मुस्लिम पक्ष ही नही विश्व को भी अचंभित होकर मानना पड़ा की इस देश में धर्मवाद की आड़ मे  इस्लाम की क्रूरता का संदेश विश्व ने समझा  

 

·         गत वर्ष 2021 में कल्याण सिंह की 89 वर्षो में मृत्यु हुयी व रक्षा बंधन के दिन वे पंचत्व में विलीन हुये थे ..., माँ  सीता को भी मानना पड़ा की उनकी रक्षा की सूत्रधार व राम मंदिर की नींव का कर्ण धार केवल व केवल कल्याण सिंह ही थे इस उपलक्ष्य में उन्हे रक्षा बंधन का धागा  बांधकर स्वर्ग के द्वार की सुगम सीढ़ी प्रदान की है...

                      

·         कल्याण सिंह का जन्म 5 जनवरी 1932 को हुआ था.

·         1991 में पहली बार उतरप्रदेश के मुख्यमंत्री बने.

·         कल्याण सिंह दूसरी बार 1997-99 दूसरी बार मुख्यमंत्री बने.

उतरप्रदेश के राजनीति में हिन्दुत्व के चेहरे थे कल्याण सिंह.

·         इनके मुख्यमंत्री रहते 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद विध्वस की घटना हुयी थी. घटना के बाद इस्तीफा देना पड़ा था.

·         कल्याण सिंह जी एक स्टेट्समैन, वरिष्ठ प्रशासक, ज़मीनी नेता और एक महान इंसान थे. उत्तर प्रदेश के विकास में उनका अमिट योगदान है.

·         वे दो बार यूपी के सीएम रहे और राजस्थान के राज्यपाल भी रहे. वे ऐसे नेता थे जिन्होंने बीजेपी को हाशिए से फलक तक पहुंचाने का काम किया

·         सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के एक सच्चे उपासक के रूप में उन्होंने जीवनभर देश व जनता की सेवा की.''

·         कल्याण सिंह: वो दिग्गज जो आज बुलंदी पर पहुंच चुकी बीजेपी की बुनियाद था ,



Sunday, 31 July 2022

सब कुछ लुटा के होश में आये तो क्या किया… दिन में अगर भ्रष्टाचार व तुष्टिकरण का चराग़ जलाये तो क्या किया,,,!!!!!!


 

तीन अनाथ  vs एक (चालीस) नाथ

—————————

 

 

( सब कुछ लुटा के होश

में आये तो क्या किया

 

दिन में अगर भ्रष्टाचार व तुष्टिकरण का चराग़

जलाये तो क्या किया )

 

पिताजी.., संजय राऊत द्वारा हमारी राजनैतिक  जीवन को तहस नहस करवाने के पहिले इस मर्सेडीज़ कार से कूद पड़ें




 

(Dad.., jump out of  this Mercedes Car before Sanjay  Raut destroys our political career )

 



Monday, 25 July 2022

आदिवासी माटी के मर्म की तितली द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति भवन के आगमन से, प्रांगण के बगीचे से देश भर के फूलों में आई एक नयी महक व रौनक़


 

With the arrival of Draupadi Murmu, the butterfly of the heart of the tribal soil, a new fragrance and radiance came from the garden of the courtyard to the flowers across the country''


आदिवासी माटी के मर्म की तितली द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति भवन के आगमन से, प्रांगण के बगीचे  से देश भर के फूलों में आई एक नयी महक व रौनक़


Tuesday, 21 June 2022

योग दिवस – विश्व का सबसे योग्य दिवस, योग भगाये रोग…, कोरोना को भगाना का एक सार्थक मार्ग .., स्वस्थ भारत ने विश्व को दिया एक योग के मंत्र से योग्य जीवन जीने का तरीक़ा

 


योग दिवस – विश्व का सबसे योग्य दिवस,  योग भगाये रोग…, कोरोना को भगाना का एक सार्थक मार्ग .., स्वस्थ भारत ने विश्व को दिया एक योग के मंत्र से योग्य जीवन जीने का तरीक़ा


Saturday, 28 May 2022

वीर सावरकर को जिसने नही जाना..?, उसने हिन्दुस्थान को नही पहचाना? भाग -1 (२८ मई , वीर सावरकर की जन्म तिथि पर विशेष)

 


वीर सावरकर को जिसने नही जाना..?, उसने हिन्दुस्थान को नही पहचाना?  भाग -1

 

(२८ मई , वीर सावरकर की जन्म तिथि पर विशेष)