Wednesday, 10 October 2018

याद रहे.., जून 1971 में, मुजफ्फरपुर बिहार में नक्सलियों की धमकी में जयप्रकाश नारायण Top Hitlist में थे. वे जानते थे नक्सलवाद का उभार व विकास की जड़ गरीबी और बेरोजगारी के अलावा सरकार द्वारा उत्पीड़न है ,इस समस्या के निदान के लिए प्यार और सहानुभूति के साथ उनकी पीड़ा व अनुभूति से ही सशस्त्र नक्सलवाद का खात्मा किया जा सकता है , वह कई महीनों के लिए Musahari ब्लॉक में रहे थे और नक्सलियों की समस्याओं को दूर करने के लिए प्रयोग किया. इसके अलावा जयप्रकाश चंबल घाटी में डकैतों का आत्मसमर्पण प्राप्त करने में वे एक प्रमुख व्यक्तित्व का प्रतिनिधित्व किया था.


11 October  V/s 2 October..,  अहिंसा के छद्म भेष में बापू को चमकाकर हर पार्टी ने ७२ सालों  तक मलाई  खाई है.., लेकिन ११ अक्टूबर के जन्मदाता जयप्रकाश नारायण जो सरकार व मंत्रीमंडल  मंडल का कभी हिस्सा नहीं रहे
इसके बावजूद इस नायक ने समाज वाद को रूबरू क्रांति में परिवर्तित कर सबका विकास सबका साथ के दांवों के नारों से आज की राजनीती चमकाने को आयना दिखा दिया है कि  “जनता ही सत्ता की मालिक है..”, सिंहासन खाली करो जनता आती है के राष्ट्रीय कवि रामधारी सिंह दिनकर उद्घोष से..,  जयप्रकाश नारायण ने देश से जातिवाद का सफाया कर , नै पीढी को एकत्रित कर देश में लूट तंत्र से राजनीति करने वालों को सबक सिखाया था..   

जयप्रकाश नारायण से सम्पूर्ण क्रांती के उद्घोष से २५ जून १९७५ को देश के संविधान को व्यवधान मानकर आपातकाल से इंदिरा गांधी ने स्वंय विधान के दरवाजे में बंद कर दिया ..

याद रहे.., जून 1971 में, मुजफ्फरपुर बिहार में नक्सलियों की धमकी में जयप्रकाश नारायण Top Hitlist में थे. वे जानते थे नक्सलवाद का उभार व विकास की जड़ गरीबी और बेरोजगारी के अलावा सरकार द्वारा उत्पीड़न है ,इस समस्या के निदान के लिए प्यार और सहानुभूति के साथ उनकी पीड़ा व अनुभूति से ही सशस्त्र नक्सलवाद का खात्मा किया जा सकता है , वह कई महीनों के लिए Musahari ब्लॉक में रहे थे और नक्सलियों की समस्याओं को दूर करने के लिए प्रयोग किया. इसके अलावा जयप्रकाश चंबल घाटी में डकैतों का आत्मसमर्पण प्राप्त करने में वे एक प्रमुख व्यक्तित्व का प्रतिनिधित्व किया था.
.
जयप्रकाश नारायण के सम्पूर्ण भारत उदय के १००० से अधिक डाकुओं के आत्म समर्पण करने के बाद .., लोकतंत्र से रखवालों के नाम से १० हजार से अधिक लोग जेल जाने की आड़ में आज एक खिचड़ी खाकर..., सत्ता को अपना अधिकार मानकर, अब लोकतंत्र को लूट तंत्र का हथियार बनाकर.., अब १९४७ के बाद की नयी पीढी के स्वतन्त्रता सेनानी की नयी पंक्ति कह सम्मान का अभिमान मान रही है.

हमारे राजनेताओं से हर समस्या सुलझाई नही बल्कि सुलगाई गयी है .., सुकमा बीजापुर गढ़चिरोली व देश के अन्य इलाकों में नक्सलवाद व राजनेताओं से खान खदान नभ जलाकाश ईमान को बेचने का एक गठबंधन का संघठन के सुनियोजन खेल है.

जयप्रकाश नारायण व राम मनोहर लोहिया की औलादें बनी जल्लादें .., चारा घोटालों से A-Z घोटालों की सूची लम्बी है .., देश घोटालों से बौना होते जा रहा है....


वेबस्थल की पुरानी WEDNESDAY, 16 SEPTEMBER 2015 की पोस्ट

इस लोकतंत्र में आप और हम वोट बैंक के मोहरे हैं.., ५साल के रोते हुए चेहरे हैं.. राममनोहर लोहिया ने सही कहा था ..., जिंदा कौमे ५ साल का इन्तजार नहीं करती है.

1. बिहार में ७२ सालों से जातिवाद की बहार है.., घोटालों की बयार है.., अफीमी नारों के आस से विकास का निकाश..,नीतीश की जातिवाद की कोशिश से अब भी बिहार कोशों मील दूर है..,

2. लालू जैसे लाल से लाखों नेता अपने को माई का लाल कहकर, भ्रष्टाचार के कटार से वोट बैंक के इंक (INK) से गरीबों के हाथ बदरंग है.., यही सत्ता का रंग है .., बिहार के साथ, देश में जातिवाद, भाषावाद, धर्मवाद, अलगाववाद से तिरंगा बदरंग है.

3. जहां.., बिहार में. शिक्षा से तक्षशिला की शीला से देश,विश्वगुरू कहलाता था.., आज जातिवाद की विष शीला से बिहार..,बीमार प्रदेश बन गया है.

4. अफीमी नारों व विदेश के कर्ज की हवा से तिरगा फड़फड़ाकर विकासके नाम से जनता को भरमाया जा रहा है..

5. अब मोदी के अच्छे दिनोंके द्वन्द का एक नए रंग से..,आपस में सीटों की लड़ाई है.., राजनीती दबंगता से जनता दबते जा रही है ...,

6. अब यह चुनावी तलवार से सत्ता के म्यानों की लड़ाई है..

7. महंगाई के भार से, जवानों के जवानी के कंधे थकते जा रहें हैं .., माफिया, इस गोरखधंधे से चंगे होते जा रहें है.., इनकी ५ साल के बच्चे राणा सांगा की औलादे लगती है .., और गरीब का पांच साल का बच्चा ५० साल का लगता है...

8. दिवंगत महान व्यंगकार लेखक श्री हरीशंकर परसाई के १० हजार से अधिक राजनितिक लेख आज भी जीवंत हैं. १९६० के दशक में.., उन्होंने बिहार के बारे में लिखा था, श्रीकृष्ण भगवान् मुझे मिले थे. उन्होंने, कहा मैं बिहार में चुनाव लडूंगा और लोगो को कहूँगा में श्रीकृष्ण भगवान् हूं , मैं आसानी से जीत जाऊंगा .., तब मैंने उनसे कहा आप जब तक यह नहीं कहोगे मैं श्रीकृष्ण यादवहूँ , तब तक आप चुनाव नहीं जीत सकोगे. भगवान् और मेरी शर्त लगी भगवान् श्री कृष्णा के विरोध में यादव नाम का उम्मीदवार खड़ा था और वह जीत गया और भगवान् श्री कृष्ण हार गए

9. जयप्रकाश नारायण ने तो कहा था, देश में सबसे अधिक खनिज होने के बावजूद बिहार गरीब क्यों.???, इस जीत का रहस्य तो..., खनिज से ज्यादा बिहार में नेताओं के लिए जातिवाद,धर्मवाद के उत्प्रेरक खनिज से.., बिहार भ्रष्टाचार के बहार से गाय भैसों व अन्य जानवरों के चारे से, मुस्लिम यादव के भाई- चारे नारे के आड़ में, २५ सालों तक चारे को डकारकर, प्रदेश के गरीबों को बहाकर.., एकछत्र राज्य करते रहे...,

10. दोस्तों.., देश का सबसे बड़ा जहर अशिक्षाहै.., जिसकी वजह से जनता गरीब होते जा रही है.., खोखले वादों के अफीमी नारों का शिकार हो जाती है.., और वोट बैंक की राजनीती करने वाले अपने को देश का मसीहा कहकर काले धन से अमीरतम बनकर अपने को अप्रतिम कहकर सत्ता को जातिवाद, भाषावाद,धर्मवाद व घुसपैठीयों के कोड़े से जनता को पीटकर,अधमरा कर, महंगाई बढ़ा कर कर्ज के गर्त से देश को डूबा रहें है.

11. इस लोकतंत्र में आप और हम वोट बैंक के मोहरे हैं.., ५साल के रोते हुए चेहरे हैं.. राममनोहर लोहिया ने सही कहा था ...,जिंदा कौमे ५ साल का इन्तजार नहीं करती है.

पिछली सरकार तो, ऐसी ख़बरों के सम्मान से सत्ता का अभिमान की से माल-माल होकर, खुले आम संविधान को चुनौती देकर लताड़ लगा रहें थी , हम संविधान के ५ साल के रक्षक है..., जनता ने हमें चुना है.., ऐसा कहकर देश को चुना लगा रहें थे.., अब यह रणनीती हमें ले डूबेगी..


महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री व शरद पवार के भतीजे ने एक लाख करोड़ का सिचाई घोटाला कर..., ताल ठोककर, महाराष्ट्र की जनता का उपहास कर कहा.., इस सूखे छेत्र में मेरे पेशाब करने से यदि बाढ़ आती है, तो..., मैं पेशाब करता हूँ .., खाद्यान घोटाले से १० लाख से अधिक से किसान आत्महत्या व इस योजना से धन डकारने की योजना को मीडिया से शरद पवार भी एक सामान्य घटना मान रही है...

पिछले महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में , राज ठाकरे के भाषावाद के युध्ह में मराठी माणूस (आदमी) अपनी ही कुलहाड़ी से अपाहिज हो गया है, इस भाषावाद के जहर से.., कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी केसत्ता पर काब्ज होने के बाद..., सुपर पावर के शरद पवार के नेतृत्व में महाराष्ट्र से देश तक में घोटाले की बौछार हो गयी.., मोहल्ले के नेता तो इस फव्वारे के पानी पीने से मला-माल हो गए. बाल ठाकरे भी बार-बार पुकार कर रहें थे बेटा आ अब लौट आओ , मेरी बोतल में शराब डालकर, सत्ता का नशा मत करों, नशा उतरने के बाद तुमको अपनी अवकाद मालूम पड़ेगी.., क्योंकि ४० साल पहले मैंने भी यह शराब पी थी, और ३० साल तक मेरी अवकाद नगरपालिका चुनाव जीतने तक ही थी ..., और भतीजे के इस रवैये से मरते समय तक उनकी आत्मा तड़फती रही .., और लोकसभा चुनाव में राज ठाकरे को जनता ने इतने जोर से पटका कि अब आनेवाले विधानसभा चुनाव से हाय-तौबा कर ली है... हे, हुडदंग., हुडदंग.., हुडदंग..., से धर्मवाद के जंग से वोट बैंक के सौदागर दंग और हडकंप ,

पिछले चुनाव में भाषावाद के जंग से सत्ता का रंग.., महाराष्ट्र में मोदी के विरोधी नेताओं को, लोकसभा चुनाव में, मोदी के चोट से जो घाव हो गए है..., अब इस घाव में असदुद्दीन ओवैसी की हरी मिर्च लगने के हडकंप से सतारूढ़ पार्टी को रोड में आने का खौफ सता रहा है..

Tuesday, 2 October 2018

नेहरू के १८ वर्षों के अय्याशी के सोच के शौच को मात्र १८ महीने में साफ़ कर व पाकिस्तान को धूल चटाकर ...., विश्व ने प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को अब्राहम लिंकन के समक्ष खडा कर हिन्दुस्तान का लोहा माना कि देश की शक्ती "जवानों व किसानों" के बल से ही बढ़ती है ना की/कि विदेश से कर्ज लेकर ..., ब्याज देकर नेताओं की अय्याशी से जनता को ब्याज से प्याज के तरह आंसू निकाल कर, जो आज के परिपेक्ष्य में लोक तंत्र को लूट तंत्र का खेल खेला जा रहा है ..., इसे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने समाप्त कर दिया था इसी का तोड़ ..., “जय जवान –जय किसान “के नारे से निकल कर सभी भ्रष्ट नेता मजबूर होकर मजदूर हो गए थे ....



यह गांधी जयन्ती नहीं.., लाला बहादुर शास्त्री के जन्म दिवस से , जवानों में वीर रस से किसानों की क्रांती की गाथा है.., 



व देश के," जय जवान जय किसान" के प्रणेता से देश को एक नई लहर देने वाले : २अक्टूबर के जन्मदाता, १८ महीनों के शासन में देश के सही मानों में भाग्य विधाता की भूमिका के सफल प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के दिन को गांधी जयन्ती नहीं देश का "शौर्य दिवस" के रूप में स्कूल में नव विद्यार्थियो को यह पढ़ाया जाय...कि कैसे एक निम्न वर्ग के प्रधानमंत्री ने निम्न श्रेणी को अपना जीवन व आदर्श मानकर, सभी सरकारी सुविधा का अपने परिवार के लिए त्याग कर .., मेरे घर से मेरी देश की तस्वीर से ही देश में राष्ट्रवाद की लकीर खीची जा सकती है... यह सिद्ध किया


नेहरू के १८ वर्षों के अय्याशी के सोच के शौच को मात्र १८ महीने में साफ़ कर व पाकिस्तान को धूल चटाकर ...., विश्व ने प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को अब्राहम लिंकन के समक्ष खडा कर हिन्दुस्तान का लोहा माना कि देश की शक्ती "जवानों व किसानों" के बल से ही बढ़ती है ना की/कि विदेश से कर्ज लेकर ..., ब्याज देकर नेताओं की अय्याशी से जनता को ब्याज से प्याज के तरह आंसू निकाल कर, जो आज के परिपेक्ष्य में लोक तंत्र को लूट तंत्र का खेल खेला जा रहा है ..., इसे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने समाप्त कर दिया था
इसी का तोड़ ..., “जय जवान जय किसान के नारे से निकल कर सभी भ्रष्ट नेता मजबूर होकर मजदूर हो गए थे ....

दोस्तों एक कटु सच्चाई ...!!!!, देशी राजनैतिक कलमुहों ने विदेशी ताकतों के साथ मिलकर इस महान अद्वितीय ७० साल के सत्ता परिवर्तन के इतिहास में जो आज भी सर्वश्रेष्ठ प्रधानमंत्री हैं.., की ह्त्या कर ..., “राजनैतिक कलमुहोंने देश का कल अन्धकारमय बना दिया,,

२ अक्टूबर के जन्मदाता, १८ महीनों के शासन में देश के सही मानों में भाग्य विधाता की भूमिका के सफल प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के दिन को गांधी जयन्ती नहीं देश का "शौर्य दिवस" के रूप में स्कूल में नव विद्यार्थियो को यह पढ़ाया जाय.. तो देश की फसल लह-लहराकर  तस्वीर बदल जायेगी

Monday, 1 October 2018

स्वच्छ भारत स्वचालित का नारा तब तक बेईमानी साबित होगी जब तक हिन्दुस्तान से जातिवाद साम्प्रयवाद का सूपड़ा साफ़ नहीं होगा.., बापू के चाल व चरित्र के चित्र के ढाल से देश का राजनैतिक चरित्र गर्त में जा रहा है..



२ अक्टूबर ...!!!!, बापू की जातिवाद के सिद्धांत को कायम कर , साम्प्रयवाद की छांव में, देश के तुकडे कर, १० लाख से अधिक हिन्दुस्तानियों की ह्त्या करवाकर, अहिंसावाद के छद्म बटवृक्ष में वह तो चन्दन की पेड़ में सांप की तरह लिपटा एक विषैला जहर समाज में फैला कर, वह बापू जिसकी नाथूराम गोडसे ने भले  ह्त्या कर देश को मुक्ती दिला दी थी.

लेकिन आज भी ७२ सालों बाद सत्ता परिवर्तन को आजादी कह, देश जातिवाद के कुरूप रूप से वोट बैंक में परिवर्तित.., व आरक्षण के ताले से देश की  तरक्की  बंद हो चुकी है.., देश की प्रतिभा विदेशों  में पलायन कर रही है...

स्वच्छ भारत स्वचालित का नारा तब तक  बेईमानी साबित होगी जब तक हिन्दुस्तान से जातिवाद साम्प्रयवाद का सूपड़ा साफ़ नहीं होगा.., बापू के चाल व चरित्र के चित्र के ढाल से देश का राजनैतिक चरित्र गर्त में जा रहा है..

Thursday, 20 September 2018

चेतो मोदी सरकार.., अब चरमोत्कर्ष (CLIMAX) से सत्ता में दुबारा CLIMB होने का समय आ गया.., मोदीजी.., आपको खोने के लिए कुछ नहीं.., अब देश शेयर,बुलियन खाद्यान बाजार व डॉलर के विदेशी हाथ,साथ,विचार संस्कार से नहीं चल सकता है,अब बचे छ: महीने के कार्यकाल में देश की गरीबी को क्षय मुक्त करने के लिए यदि आपको 542+ सीटें चाहिए...!!!!!!! तो शासन के अधिकतर भ्रष्ट माफिया-नौकशाही – जजशाही से दो -दो हाथ कर.., नोटबंदी से देश में कालाधन व विदेश भागने वालों से पंजा लड़ाकर उन्हें बता देना चाहिए की मोदी से पंगा लेने का अंजाम क्या है..,


चेतो मोदी सरकार.., अब चरमोत्कर्ष (CLIMAX) से सत्ता में दुबारा CLIMB होने का समय आ गया..,


मोदीजी.., आपको खोने के लिए कुछ नहीं.., अब देश शेयर,बुलियन खाद्यान बाजार व डॉलर के विदेशी हाथ,साथ,विचार संस्कार से नहीं चल सकता है,अब बचे छ: महीने के कार्यकाल में देश की गरीबी को क्षय मुक्त करने के लिए यदि आपको 542+ सीटें चाहिए...!!!!!!! तो शासन के अधिकतर भ्रष्ट माफिया-नौकशाही जजशाही से दो -दो हाथ कर.., नोटबंदी से देश में कालाधन व विदेश भागने वालों से पंजा लड़ाकर उन्हें बता देना चाहिए की मोदी से पंगा लेने का अंजाम क्या है..,


अगला लोकसभा कार्यकाल के सत्र से देश गद्दारों से भय, मुक्त, लूट मुक्त, अपराध मुक्त से एक नए विकास की तरफ उन्मुक्त होकर.. देश सुजलाम सुफलाम से विश्व गुरू की सफलता प्राप्त करेगा.

फेस बुक व वेबस्थल की पुरानी पोस्ट.., October 15, 2015

१.    जवाहरलाल नेहरू के कपड़ों के घने काले दाग, उस समय में देशी साबुन से साफ़ न होने की वजह से धुलाने कपडे पेरिस जाते थे.., आज माफियाओं के काले नोट धुलने हांगकांग, मॉरिसस व अन्य देशों की सफेदी के स्वच्छ इंडिया से देश विदेशी हाथों से जकडते जा रहा है.

२.   इस सफेदी की दाग धुलाने में बैंक ऑफ़ बड़ौदा.., सरपट दौड़ा ..., ६००० करोड़ रूपये के देशी कपड़ों को विदेश भेजकर, गरीबों के कपड़े उतरवाए..,


३. रियल इस्टेट , खाद्यान बाजार , शेयर बाजार व अन्य सटोरियों के बाजार में २०० लाख करोड़ से अधिक का काला धन मौजूद है..., सरकार आँखें मूदे बैठी , विदेश से काले धन लाने का हुंकार भर रही है.
.
४. जब तक कालेधन को राष्ट्रीय सम्पती से राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानूनन बनाया जाय तो यह सरकार का एक डफली बजाकर , जनता को बह्काने का खेल है.
.
५. देश का माफिया काले धन के पुलिंदों के गद्दे पर सोया है.., और हमारी सरकार विधव विश्व में ढिंढोरा पीट रही है.., कहावत है बच्चा पड़ोस में व ढिंढोरा शहर में .., लेकिन घर (देश) के काले माफियाओं के पास विदेश के बैंकों में जमा.., ७२ लाख करोड़ से 100 गुना से ज्यादा धन है.

६. मीडिया-माफिया-नौकरशाही-जजशाही के गठबंधन से राजशाही का महामंडन.., काले धन की बौछार से जीवन का उद्धार से देश के प्रत्येक गरीबों पर विश्व बैंक का ७५ हजार का कर्ज ...
७. जमीनी हकीकत .., भूखा नंगा हिन्दुस्तान , महलों में रहने वाले बढ़ा रहे है इंडिया की शान, अच्छे दिनों से मेरा भारत महान , अब भी इंडिया शाईनिग से फील गुड फैक्टर के फील्डिंग से गरीबों की जा रही है जान ...

८. अस्पतालों में डॉक्टर व दवाएं नही , देश में झोला छाप डॉक्टर व शिक्षकों की बहार , मुर्दों को पेंशन.., यह है राजनीती का PASSION ...

९. मीडिया की TRP के बहार है..,राधे माँ के खबर से, व इंद्रायणी मुखर्जी की खबर को TRP की लहर बनाने के खेल में इस खबर के परतों से मुंबई के पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया के नार्को टेस्ट की घोषणा से मीडिया-माफिया-नौकरशाही-जजशाही की पोल खुलने व देश विदेश में काले धन का संगठित गिरोहों के गठबंधन के डर से पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया का तबादला कर इन खबरों को पर्दाफ़ाश करने के पहिले पर्दा डाल दिया है ..

१०. बिहार के चुनाव में गौ मांस के तड़के से, अब जनता के विकास व योजनाओं के मुद्दे गायब है.., एक माह तक मीडिया के पास में TRP का चटपटा मसला है.., यों कहें देश का दिवाला है...

११. दोस्तों..., सरकार दावा करती है कि देश में 100 करोड़ मोबाईल उपभोक्ता है .., यदि देशवासी अपने मोबाईल से.., मोहल्ले से शहर, नगर की घटनाओं व समस्याओं की फोटो व विडियो खीचकर अपने २४ खबरिया चैनलों से.., २४ घंटे प्रसारित कर, , देश में राष्ट्र की ज्वलंत समस्याओं का चित्रण कर, आज की वर्तमान पेट भरी मीडिया को ललकार कर देश में जागृती की लहर पैदा कर देंगी



Thursday, 13 September 2018

क्या आप रूपये के प्राजूद प्रारूप से सहमत हैं..,रूपया के बहुरूपिया..., जोकर (जनता से महंगाई का मजाकर ),विदूषक..., अधिकतर नौकरशाहों की मिलीभगत के भ्रष्टाचार से प्रदूषक बनाकर... एक नए अमीरी की पहचान पाई है..., जब से इस चिन्ह को मान्यता मिली है, देशी विदेशी माफिया व डॉलर से रूपये को कुचलने की खुली छूट मिली है... गरीबों का पसीना अमीरों का अन्न है..,रूपये से डॉलर अब राहू बनकर, देश का अमृत पी रहा है...क्या आप रूपये के प्राजूद प्रारूप से सहमत हैं.. आज रूपया कर लो दुनिया मुट्ठी के नारों से , मुट्ठी भर अमीरों ने गरीबों को मुट्ठी से निचोड़कर ,, आज इंडिया भ्रष्टाचार का डांडिया खेल रहा है..दोस्तों क्या आप सहमत कि रूपये के चिन्ह में अंतिम छोर पर जब तक समानता का चिन्ह न हो, तब तक देश का गरीब तबका और गरीब होते जाएगा.., और देश के अमीर.., गरीबी रेखा का मूल्य कम कर ..देश का उपहास उडातें रहेंगे.... .




डॉलर ,रूपये की कॉलर खिच कर, देश त्राहिमान, फिर भी नेता कह रहा रहें हैं “मेरा देश महान” से “अच्छे दिन” आने वाले हैं..,  “मन की बात” से रेडियो व  दूरदर्शन पर नगाड़ा बजा, रूपये का स्वरुप बिगाड़ा..,

बुलेट ट्रेन की आड़ में (Bull – ate)  देश के बड़े सांड रूपये को खाकर.., डॉलर की डकार निकाल रहें हैं .. अबकी बार नए ऊंचाई में मोदी सरकार.., मनमोहन सरकार के ७० रूपये प्रति डॉलर को पार कर ७३ रूपये के नए प्रारूप में मोदी सरकार.., क्या अब काले धन वालों अपने  हुंकार से जनता को कर रहें हैं ललकार...!!!!.

बॉम्बे आईआईटी स्नातकोत्तर डी उदय कुमार द्वारा डिजाइन किया गया नया प्रतीक जो  कैबिनेट द्वारा अनुमोदित किया गया था व उदय कुमार को २.५० लाख का इनाम दिया गया - यह दर्शाता है कि भारतीय मुद्रा, जो ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था से समर्थित है, अंत में अंतरराष्ट्रीय दृश्य पर अपनी उपस्थिति में अस्थमा के मरीज की तरह हाँफते दिख रही है.., हर हफ्ते के शुरूवात में उसे कृत्रिम ऑक्सीजन देकर महसूस कराया जा रहा है.., रूपया होगा कामयाब एक दिन ..!!!, हम हममें हैं विश्वास.., हम देते रहेंगें कृत्रिम श्वास हर दिन ..., से भरमाया जा रहा है.


 July 8, 2014 · की फेसबुक  व website की पोस्ट

क्या आप रूपये के प्राजूद प्रारूप से सहमत हैं..,रूपया के बहुरूपिया..., जोकर (जनता से महंगाई का मजाकर ),विदूषक...,

अधिकतर नौकरशाहों की मिलीभगत के भ्रष्टाचार से प्रदूषक बनाकर...
एक नए अमीरी की पहचान पाई है...,

जब से इस चिन्ह को मान्यता मिली है, देशी विदेशी माफिया व डॉलर से रूपये को कुचलने की खुली छूट मिली है...

गरीबों का पसीना अमीरों का अन्न है..,रूपये से डॉलर अब राहू बनकर, देश का अमृत पी रहा है...क्या आप रूपये के प्राजूद प्रारूप से सहमत हैं..

आज रूपया कर लो दुनिया मुट्ठी के नारों से , मुट्ठी भर अमीरों ने गरीबों को मुट्ठी से निचोड़कर ,, आज इंडिया भ्रष्टाचार का डांडिया खेल रहा है...

देश का अन्नदाता किसान आत्महत्या कर रहा है..., भार-रत , भारतीय , इन भ्रष्टाचारियों माफियाओं के भार से रत होकर, पैसे कमाने का जुगाड़ में लगा है...

इंडिया, INDIA= IN-DIG-GO , आओ देश को खोदों और चले जाऊं (जो टाटा की कार का भी नाम है) ,

और देश के धरती लाल आकाश, खान खदान ,ईमान बेचकर इनाम पा रहा है...,
अब अपने मुट्ठी बल से बलवान हो कर , “भारत निर्माणके नारों में अपनी सहभागी से देश के गरीबों को भरमा रहा है... 

दोस्तों क्या आप सहमत कि रूपये के चिन्ह में अंतिम छोर पर जब तक समानता का चिन्ह न हो, तब तक देश का गरीब तबका और गरीब होते जाएगा.., और देश के अमीर.., गरीबी रेखा का मूल्य कम कर ..देश का उपहास उडातें रहेंगे.... 


Monday, 10 September 2018

जिस देश में पेट्रोल व शराब की अर्थव्यस्था से देश संभल रहा है तो उस देश का आलम क्या होगा.., जहां अमीरों की रात हो रंगीली व दिन में हों तारों की चमक..., उस देश में गरीबों को ७२ सालों से सूरज नहीं दिखा उस बुढ़ापे के लोकतन्त्र का हश्र क्या होगा..., जब विदेशी हाथ.., विदेशी साथ..., विदेशी विचार.., विदेशी संस्कार की पतवार से देश की नाव / नांव चले तो उस देश का आलम क्या होगा..,



भारत, भार- रत.., बंद बंद बंद .., दूकान बंद , कान बंद – दोनों कान बंद.., मकान .., दोनों कानों के मध्ये.., नाक से जुबान बंद है..,


शासक से विरोधी दल जब तक सत्ता में रहा चूसक है.., गरीबों के अरमानों के घरों को महंगे disel से  दिल को जला कर .., देश वासियों मुफ्त में घर देने की झांसे से देश एक अंधेरी लोकतंत्र की गुफा में प्रवेश कर रहा है ..


जिस देश में पेट्रोल व शराब की अर्थव्यस्था से देश संभल रहा है तो उस देश का आलम क्या होगा.., जहां अमीरों की रात हो रंगीली व दिन में हों तारों की चमक...,


उस देश में गरीबों को ७२ सालों से सूरज नहीं दिखा उस बुढ़ापे के लोकतन्त्र का हश्र क्या होगा...,

जब विदेशी हाथ.., विदेशी साथ...,  विदेशी विचार.., विदेशी संस्कार की पतवार से देश की नाव / नांव  चले तो उस देश का आलम क्या होगा..,


भारत बंद के ७२ सालों के आलाप से हे देश तेरा क्या होगा.., क्रांती /इन्कलाब के छद्म नारों से देश के गरीबों को उनके पसीनों से गरीब का दिल पसीज कर उसे ही अब भी क्या ...!!!!, तड़फा ...,तड़फाकर..., निचोड़े हुए  कपड़े की तरह, तार-तार कर .., लोहे की तारों की कतार में सुखा-सुखा कर मारोगे..!!!..., 

क्या अब सु-राज के कृत्रिम घास से अन्न उगाने का खेल बदस्तूर जारी रखोगें.. जनता जवाब चाहती है .......


२८ मई २०१८ के फेसबुक व वेबसाइट की रिपोस्ट..!!!!!  
 चेतो मोदी सरकार..बजट... तो दूर की कौड़ी..,  अभी तेल कंपनियो की राजनेताओं के चुनावी खेल की तिकड़मबाजी के बाद  !!!गरीबों के लिए बाजू हट…, अभी तक...सभी सत्ताधारियों का एक और एक ही ध्येययों कहें..., PET –ROLE प्रिय खेलऔर DIESEL के भाव बढ़ा कर जनता का दिल जला रहा रहें है...,

भ्रष्टाचार के exercise से एक्साइज ड्यूटी न हटाने की जिद्द से जनता को कंगाल बनाने की राज्य सरकार मालामाल होकर .., एक सोची समझी  नियति से जनता के पैसे डकारने का खेल खेला जा रहा ... विकास के नाम से धन का निकास का यह छुपा खेल है ..

यदि मनोहर पर्रीकर  की गोवा सरकार पिचले ३ सालों से १५ रूपये लीटर कम कीमत  तेल से विकास कर सकते हैं तो देश के शेष राज्य क्यों नहीं...!!!,


१२ वीं बार पेट्रोल - डीजल में बिना रुके बारम्बार बढ़ोतरी से राज्य सरकारों में धन का अम्बार .., जनता करे गुहार.., मत बनाओं हमें महंगाई का अचार.., से जीवन में अत्याचार ..,


पेट्रोल डीजल अब तक के उच्च स्तर से ऊंचाई से ७२ सालों के रिकार्ड स्तर से दिन में बना स्टार.., डॉलर देश के रूपये का महंगाई से खिचे कॉलर..  


किसान आत्महत्या कर रहा है... सीमाओं  पर जवानों को मोहरा बनाकरउनकी हत्या की जा रही है....????,


नोट बंदी से माफिया विदेशों में भागकर, देश की प्रगती के दरवाजे बंद कर, अब ..., विदेशी लूटेरों का देश मे स्वागत है,विदेशीयो के धन सेअतिथी विकास भव: के नारो से, “हो रहा है... भारत निर्माण” / अच्छे दिनों के राग आलापी नारो मे परिवर्तित करसत्ताधारी मदमस्त हो कर , देशवासियों को भरमा रहे है...


विदेशी पूँजी लेकर भाग रहे है... विदेशी मुद्रा का भंडारइन नारो के खर्च सेदेश कर्ज के गर्त मे जा रहा है... हम 1991 से मुन्ना मन मोहन की सरकार से भी बदहाल स्थिति मे आ रहे है...???? पेट्रोल के PETROL (PET + ROLE) भाव बढ़ाना,इनका प्रिय खेल .... व डीजल (DISEL- DIL + JAL) के भाव,जनता केदिल जले से महंगाई की आग भड़काई जा रही है,जागों देशवासीयो डूबते देश को बचाओ ....

साभार
www.meradeshdoooba.com (a mirror of india) स्थापना २६ दिसम्बर २०११ कृपया वेबसाइट की ७०० से अधिक प्रवाष्ठियों की यात्रा करें

Wednesday, 5 September 2018

आरक्षण की आग., देश रहा है.., हांफ..., महंगाई निकाल रही है जनता का भाप.., आरक्षण के मसीहा, इस दंश के पाप से, अपने को कह रहें हैं, देश का बाप.., आप ..बाप.., पाप..खाप .., पार्टियों के श्राप से देश लहुलूहान.., फिर भी सत्ताखोरों के अपने “अच्छे दिनों” के झांसे से “मेरा देश महान”..., प्रतिभाओं के कच्छे पहिनने के दिन आ रहें हैं..,








(Teachers day) - आरक्षण की आग., देश रहा है.., हांफ..., महंगाई निकाल रही है जनता का भाप.., आरक्षण के मसीहा, इस दंश के पाप से, अपने को कह रहें हैं, देश का बाप.., आप ..बाप.., पाप..खाप .., पार्टियों के श्राप से देश लहुलूहान.., फिर भी सत्ताखोरों के अपने अच्छे दिनोंके झांसे से मेरा देश महान”..., प्रतिभाओं के कच्छे पहिनने के दिन आ रहें हैं..,
१. छुवा-छुत/आरक्षण को कछुवा बनाकर संविधान की आड़ से हमारे सत्ताखोरों ने १० सालों के 22.५% प्रायोगिक तौर के परप्रयोजन से , इन कछुओं की मोटी खालों को अपना ढाल बनाकर सुरक्षता पूवर्क वोट बैंक से खरगोशी प्रतिभाओं की खाल निकालकर लहूलुहान कर संविधान का गुण गान कर, पंगु बनाकर, देश को विदेशी हाथ विदेशी साथ विदेशी विचार विदेशी संस्कार से देश को कछुआ चाल से चलाकर, विदेशी कर्ज को मर्ज मानकर , देश को गर्त में डालकर, अब भी गर्वित हैं.
२. अब आरक्षण की तलवार से प्रतिभा के भक्षण की , एक नई धार से, नेताओं के वोट बैंक की दांत की चमक के पैने पन की तस्वीर से, आज देश ऊंचाई को छूने की बजाय बौनाहोते जा रहा है..,
३. अब पटेल आरक्षण की आग पुरे देश में पेटने की तैयारी .., क्या..??, सरकार घुटने टेक देगी.., या देश गुर्जर आन्दोलन की तरह सुलगते, गुजरे जमाने में रहेगा.., सत्ताखोरों की रोटी सेकते रहेगा.., देशवासी अब सकते में है..!!!
४. दोस्तों सत्ता परिवर्तन को आजादी कह.., देश को अशिक्षा से अंधापन कर .., अंग्रेजों के संविधान का अनुसरण कर ०.१% अंग्रेजी बाबुओं की औलादें जो विलायती शिक्षा से अंग्रेजों के संविधान में आस्था की प्रतिज्ञा से खाओ अंग्रेजी , पियों अंग्रेजी सोओ अंग्रेजी , जागो अंग्रेजी, थोपो अंग्रेजी ने विदेशी भाषा से गोरे अंग्रेजों के काले बादल की गुलामी को प्रतीक बनाकर, इस बादल से काले धन की बरसात से मालामाल हो गयें और आम हिन्दुस्तानी अवसाद से बेहाल हो गया है.
५. राख तले चिंगारी के प्रतिभा में पानी फेर कर शिक्षा को कीचड़ बनाकर, देश बदबूदार हो गया है
.
६. सत्ता का एक फंडा है, देश में सत्ताखोरों का एक गोरख़ धंधा है ..,५०% आरक्षण से देश की आधी प्रतिभा गायब, और व्यापम के इस नए प्रकार के तड़के से इस आग में हजारों प्रकार के घोटालों के उत्प्रेरकों देश के ऊतक 30-४०% शिक्षा, अकर्मण्य छात्रों को पिछले दरवाजे से प्रवेश.., जो बचे शेष १०-२०% प्रतिभावान छात्र वे देश के इस मकड़जाल से, अपने अगली पीढी का भविष्य संवारने विदेशों में पलायन कर, अपनी प्रतिभा से विश्व को गौरान्वीत कर रहें हैं
.
७. १९४७ में विश्व के 100 से अधिक देश हमसे पिछड़े थे..,लेकिन अपनी मजबूत इच्छा बल से बिना आरक्षण के, घोंघा चाल से एक दृण मंजिल पाने से, उन्नत देशों की कतार में शामिल हो गयें है..
८. देश के खरगोश आज आरक्षण के जहर से, बेहोश होकर मर रहें हैं., देश का मर्ज, आरक्षण व कर्ज से नहीं, देश के १२५ करोड़ जनता को सम्मान व प्रतिभा के आंकलन से, आगे बढ़ने से ही.., देश आगे बढेगा
Let's not make a party but become part of the country. I'm made for the country and will not let the soil of the country be sold.
कैलाश तिवारी.. कृपया गूगल सर्च में meradeshdoooba टाइप कर ४७४६ पोस्टों व स्वंय निर्मीत कार्टून के लिए वेबस्थल की यात्रा करे