Videos

Loading...

Thursday, 18 April 2013



राजनीती और कूटनीती...... सत्ता परिवर्तन (1947) के बाद से ही... देश मे राजनीती, लाश नीती से अप्रत्यक्ष रूप से चल रही थी...... अब तो खुले आम , आतंक-नीति और लाश-नीति पर देश की सत्ता चल रही है, मरी लाशो पर पर पाँव रखकर , देश के मुसतंडे नेता अपनी 100 पीढी के लिए रोटी सेक रहे है , खिलाओ-खिलाओ.... आतंकवादियो को चिकन बिरयानी..., और जनता को चिकने बयान से कहो......, कडी से कडी कारवाई करेंगें, और जेल मे आतंकवादियो को दाल-कडी खिला कर अपनी रूतबा बनाओ और सत्ता सुरक्षित करो- यह नेता का कर्म नही, देश शर्म है....???????