Thursday, 25 June 2015

यदि,काले धन को राष्ट्रीय सम्पत्ती घोषित होकर, विशेष कानून नहीं बनेगा .., अब ये, भ्रष्टाचार के बरगदी पेड़ के, देश के पत्ते बनकर.., अब, गरीबों को चाय की पत्ती से भी मुंहताज रखेंगें ..



१.       मोदीजी तुस्सी ग्रेट है. लेकिन REGRET  के साथ, दिल की बात से कहना पड़ रहा है.., शायद..,  यह जनता के दिल का दर्द भी हो सकता है .. देश के राष्ट्रवाद नीती से, कोई भी सत्ता का चेहारा, राष्ट्र से सर्वोपरी नहीं हो सकता है...., उखाड़ फेंकों..,  ऐसे भ्रष्ट, “वजीरी व जी हजूरी” मोहरों को.
२.        आपकी पार्टी के लोग,अब  कांग्रेस व अन्य  दलों की तरह भ्रष्टाचार से RE – GREAT बनने की होड़ में, दौड़ लगा रहें है..
३.       राजीव गांधी की तरह मिस्टर CLEAN के झांसे से भ्रष्टाचार के गुर्गों को CLEAR – IN की नीती से, “मेरा भारत महान” से  सभी बेईमान “महान” हो गए थे.
४.        आपके कर्म योग को आज भी आपकी पार्टी ही नहीं, देश के नेता, सत्ता को “भोग-योग” मान  रहें हैं .
५.       आपके, तीन “स” , सुषमा , स्मृती, सिंधिया से  विपक्ष का बवाल है, जनता काले धन के इन्तजार में बेहाल है..
६.       अभी महाराष्ट्र में एक नयी देवी अवतरित हो गई है.., जो पहिले तो, महाराष्ट्र सरकार को डगमगाने में बयान दे रही थी.., पंकजा मुंडे ने तो,  मुख्यमंती पर शिकंजा डालकर उनका मुंड मांगते हुए कह  रही थी..,  जनता उन्हें, स्वर्गीय  पिता गोपीनाथ मुंडे की आत्मा कह, “मुख्यमंत्री” के रूप में देख रही है.., और उसके, इस मंत्र से डरकर, मुख्यमंती ने उन्हें बाल-विकास का पद देकर.., लूट में खुली छूट का अधिकार दे दिया..,   देखते ही देखते,  २२० करोड़ का घोटाला कर ..,गरीबों के मुंड काटने के खेल के बावजूद .., अब भी, ताल ठोक कर, भ्रष्टाचार के तालाब से माल कमा रही है.., मुख्यमंत्री फडणवीस भी, कहीं पार्टी, दो गुटों में  बंट कर उनका बंटाधार न कर दे , इस हेतु से सेतु बनाने आपसे मिलें है.
७.      मुख्यमंत्री.., फड़नवीस ने भुजाएं फड़फडाने के बजाय, मंत्रालय के भ्रष्ट  नौकरशाही को  भ्रष्टाचारी कबूतर बनाकर,  दाना डालकर, दावत देकर बगावत ने करें , भ्रष्टाचार के इस दावानल से  सत्ता के रंग में भंग न पड़े.., इस हेतु...,   महाराष्ट्र के नौकरशाही के कालेधन के १० हजार करोड़ की  वसूली का मुकदमा चलाने का “भ्रष्टाचार निरोधक दस्ते” को लताड़ लगाकर, इसे ख़ारिज कर .., उन्हें “ताड़ के पेड़” की ऊंचाई पर पहुंचा दिया है
८.      देश में, फर्जी मंत्री, अपनी भाग्य की जंत्री से.., मैं, तुम,आप पार्टी से “खाप पार्टी” बनकर.., जनता इस “पाप  का श्राप” भोग रही है.., मंत्री, अब देश के तंत्री बनकर “सम्मोहन विद्या” से अपने को  “सरस्वती” से महान ज्ञानी समझ रहें है.
९.       व्यापम के शिक्षा घोटालों व नक़ल में अक्कल से, मीडिया-माफिया-सत्ताशाही से देश के युवकों की प्रतिभा को माफिया कछुवे.., खरगोश की खाल पहनकर..,  आगोश से, मदहोश  घोंघा चाल से, देश को चला कर प्रतिभाओं का भक्षण कर रहें हैं.
१०.  आप तो कह रहें हैं.., पिछली सरकारों पर प्रतिशोध की राजनीती नहीं कर.., क्या..?,  देश के राजनैतिक-कॉर्पोरेट –मीडिया  माफियाओं के २५ सालों के  २०० लाख करोड़ से अधिक घोटालों को दफ़न कर.., देश के करोड़ों लोगों के भुखमरी के कफ़न का हिसाब नहीं मांगेंगे
११.  यदि,काले धन को राष्ट्रीय सम्पत्ती घोषित होकर, विशेष कानून नहीं बनेगा .., अब ये, भ्रष्टाचार के बरगदी पेड़ के,  देश के पत्ते बनकर.., अब, गरीबों को चाय की पत्ती से भी मुंहताज रखेंगें ..
१२.  आज देशवासी  नकली भोजन, नकली दावा विदेशी हाथ,विदेशी साथ, विचार संस्कार से, देश के दवा व खाद्य अधिकारियों  व माफियाओं की मिलीभगत से  ५० साल की उम्र  में बूढा होकर.., तनाव व अवसाद से ग्रसित है...
१३.   देशवासी  आतुरता से, १३ महीने से आपके ५६ इंच के सीने को देख रहें है.., “अच्छे दिनों” की आस में.., जनता भी असमंजस में है, लेकिन असमझदार नहीं.., देश की राष्ट्रवाद नीती से आतुरता की प्रतीक्षा कर..,  कही, सब्र का बांध तोड़कर,  एक नए बिगुल से देश के छद्म भक्त बगुलों के बंगले का हिसाब न ले  लें.

१४.   आपके चुनावी वादों व देश  के चौकीदार से ११ महीने में दागी मंत्री से संतरी को विशेष क़ानून बनाकर, सत्ता से बाहर करने का कानून बनाने का दावा किया था.., अब भी सत्ताखोर इसे अमृती दवा समझकर ऐश कर रहें हैं.