Thursday, 10 October 2013

फिर वही घोटाले के शौचालय की बदबू ... रक्षा मंत्रालय बना, “घोटाले के मंत्र का आलय” और “माफियाओ का देवालय...???”



फिर वही घोटाले के शौचालय की बदबू ... रक्षा मंत्रालय बना, “घोटाले के मंत्र का आलयऔर माफियाओ का देवालय...???” 

दोस्तों चित्र में, जो मंत्री प्रफुल पटेल, दिखाई दे रहा है, वह शरद पवार मंडली का खरबपति मंत्रीहै, याद रहे.. विमानन मंत्री रहते हुए, एयर इंडिया को डूबाने में इसका बड़ा हाथ है, याद रहे ३ साल पहले, IPL मैच के समय अपने परिवार को यात्रा कराने का लिए, यात्रियों की नियमित उडान को रद्द करवाया अब यह चुनावी माहोल में सत्ता की छींटा कस्सी है , काश... हर मंत्री राष्ट्रवादी धारा में रहकर, शुरू (१९४७) से उंगली उठाता, तो घोटाला आज देश का शौचालय नहीं बनता..

आज पक्ष से विपक्ष का मंत्री, दागी मंत्री बनकर, वह भी भ्रष्टाचार की होड़ में है, यदि दाग में हिस्सा नहीं मिले तो, वह हो हल्ला करता है, इसलिए विपक्षी दलों में भी भ्रष्टाचार के प्रति मुर्दागनी छाई हुई है...जनता भी भ्रम मे है कि हमारा सांसद , जिसने धर्मवाद, जातिवाद व झूठे विकास के वायदे से हमसे वोट लिए है, वह तो भ्रष्टाचार के खर्राटे से मदहोश है... , तो जनता के सामने क्यों आयेगा...???, नवजोत सिंग सिध्हू जैसे सांसद भी टी.वी प्रोग्रामों में झूठे ठहाके लगाकर, नोट कमाकर कह रहें है , विकास छोडो ... गरीबों मेरे ठहाके से हसों , आपकी सेहत मजबूत होगी.... ५ साल बाद, फिर, एक लोक लुभावन नारों के साथ. चुनावी मेढक की तरह टर्रा कर.... फिर से एक नया झांसा दूंगा ...???, याद रहे धर्मंद्र से गोविंदा तक की फ़िल्मी हस्ती संसद से गायब रही थी ....जबकि वे सांसदों का वेतन व अन्य सुविधाए ले रहे थे ...., पिछले लोकसभा के कार्यकाल में तो मुंबई में पोस्टर लगाए गये थे की गोविंदा को मुंबई में ढूढ़ने वाले को ५० हजार का पुरूस्कार दिया जाएगा...जागो दोस्तों....देश के हर लुटेरे ने , भ्रष्टाचार के मोह से, देश की जनता से मुंह फेरा है ...