Videos

Loading...

Friday, 21 July 2017

बेबाक पोस्ट.., भिंडरावाले जी टाइगर फ़ोर्स ऑफ़ खालिस्तान बनाओ– ज्ञानी जैल सिंह के उदगार, जिसके टेप खुफिया एजेंसी RAW के पास आज भी हैं , जैसे के राष्ट्रपति बनाने के बाद ऑपरेशन ब्लू स्टार से इंदिरा के देश का राजीव के साथ TWIKNKLE STAR से BIG STAR बनाए रखने ३ जून १९८४ का सपना था जो इंदिरा गांधी की ह्त्या से ३१ ओक्टोबर १९८४ को वह ख्वाब टूट गया और इस पर अपनी प्रतिक्रया व्यक्त कर पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसी देसाई ने बेबाकी से कहा “इंदिरा गांधी अपने कर्मों से मारी गई है”


बेबाक पोस्ट.., भिंडरावाले जी टाइगर फ़ोर्स ऑफ़ खालिस्तान बनाओ– ज्ञानी जैल सिंह के उदगार, जिसके टेप खुफिया एजेंसी RAW के पास आज भी  हैं , जैसे के राष्ट्रपति बनाने के बाद ऑपरेशन ब्लू स्टार से इंदिरा के देश का राजीव के साथ TWIKNKLE STAR से BIG STAR बनाए रखने ३ जून १९८४ का सपना था जो इंदिरा गांधी की  ह्त्या से ३१ ओक्टोबर १९८४ को वह   ख्वाब टूट गया और इस पर अपनी प्रतिक्रया व्यक्त कर  पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसी देसाई ने बेबाकी से कहा
“इंदिरा गांधी अपने कर्मों से मारी गई है”

हाँ, इस मौत के बाद TWIKNKLE STAR के इस समूह का दूसरा प्यादा राजीव गांधी , सहानुभूति की जनता की अनुभूति से ४१४ लोकसभा की सीटें जीतकर एक ऐसा BIG STAR बना कि आज तक इस स्टार का रिकॉर्ड मोदी सरकार भी नहीं तोड़ पाई है

प्रतिभा पाटिल जो इंदिरा गाँधी के घर  काम वाली बाई थी, झाडू पोछा से चूल्हा चोखा, करती थी जिसे राजस्थान के पंचायत और वक्फ राज्यमंत्री अमीन खां खुले आम कह दिया देश की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल किसी जमाने में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी के घर में रसोई संभालती थीं। इसी वफादारी के नतीजे में सोनिया गांधी ने उन्हें राष्ट्रपति बना दिया।' और तो और , इसके बाद ,एक.. से.. एक..,  इस काम वाली बाई ने राजैतिक संरक्षण से अरबों का महाराष्ट्र में को –ऑप  बैंकों का घोटाला कर , राष्ट्रपति बनने से सेवानिर्वित होने तक राष्ट्रपति के पुरूस्कारों से भरे २० ट्रक पूना शहर में अपने घर व सेना की जमीन पर घर बनाने से बवालों से जुड़ी रही.

 फखरुद्दीन अली अहमद जिसे लोकतंत्र का हत्यारा राष्ट्रपति कहा जाता है..,  जिनकी पृष्ठभूमि में आसाम में २५  लाख से अधिक बंगलादेशी घुसपैठियों को बसाकर कांग्रेस को धमकी और मंत्र की भाषा में कहा कि  मुस्लिम वोट बैंक की जनसंख्या तुष्टीकरण से ही कांग्रेस की सत्ता में भागीदारी बनी रहेगी .., जो कांग्रेस ने सन २०१४ तक इसी नीती से राज किया.

  राष्ट्रपति पद देश के धन की बर्बादी व राज्यसभा, एक चोर दरवाजे से अपने प्रिय व पार्टी के नेताओं की भर्ती से देश की संपदा को लूटने का खेल है,दोनों ख़त्म हों .

यदि राष्ट्रपति रबर स्टैम्प तो नगर पार्षद गुंडा क्यों..!!!,  नगर पार्षद मूल हथकंडा से लोकतंत्र के लूट तंत्र का गोरखधंदा से  गुंडा क्यों...


दोस्तों लिखने को बहुत है.., लोहिया जैसे समाजवादी की औलादें अब बनी जल्लादें.., लूट खसोट का नंगा नाच चल रहाहै.., मोदी सरकार कह रही है हम देश में सब चंगा कर देंगें..!!!.

देस की एक मार्मिक तस्वीर है.., देश के प्रथम व महामहीम व्यक्ति (राष्ट्रपति) के पास ३५० कमरों वाला घर है है जिसमें हजारों नौकर चाकरों की फ़ौज से मौज है..,

वही संक्षेप में ....!!!!, आज से ४० साल पहिले एक शख्स ने पहचाना कि हिन्दुस्तान में राजनेताओं को मुट्ठी में किये बगर देश पर आर्थिक रूप से कब्जा नहीं किया जा सकता है...., वह शख्सहै..., धीरुभाई अम्बानी जिनकी नीती पर चलकर मुकेश अम्बानी ने वक्फ बोर्ड की जमीन हड़पकर अन्तालिया जैसे १० हजार करोड़ के लागत से लोकतंत्र को लानत से गगनचुम्बी इमारत में मात्र परिवार के ४-६ लोगों के परिवार की आतिर खातिर के लिए ४०० से अधिक नौकर .., ऐश कर रहें हैं...

दोस्तों / मित्रों एक बार फिर बेबाकी से..,इस पेज पर , यह चित्र/CARTOON नहीं है..., देश का चलचित्र है..., देश को चुनाव के नाम से चुन – चुन कर भ्रष्टाचार से जनता को घुट – घुट कर धीमें जहर से मारने का खुला खेल है...,

मंत्रालय –मूत्रालय,
सचिवालय – शौचालय,
लोकसभा – लूट सभा ,
राज्य सभा – रिश्वत सभा
से देश में लाखों माल्या विजय बनकर अपने को गौरान्वित कर कह रहें हैं.., हमें भ्रष्टाचार से उकसा कर इस तंत्र को नहीं जनता के टैक्स के पैसे को डकारकर जीने का मंत्र है...,

अब तक  इंग्लैंड में  ५६ से ज्यादा विजय माल्या के रूप में भाजपा , कांग्रेस व अन्य पार्टियों के  सहयोग / सहमती से,  सुरक्षा से छिपे हैं...,CBI ने भी (C)चोर बनाया (B) इंडिया (I)के नाम से देश को कलंकित ही किया है  


 अंत में एक सवाल उठाता है .., वित्त मंत्री से राष्ट्रपति बने प्रणव मुखजी मुखर्जी  जो कांग्रेस के संयुक्त घोटालों में  ऑगस्टा वायु सेना के इटली कोर्ट में मुज्लिम हैं व देश के जल थल पाताल घोटालों के बंदरबांट के भी चहरे हैं .., क्या अब वे का प्रायश्चित करेंगें .., जैसे अब्दुल कलाम जैसे बेदाग़ मूर्ती ने अपना ज्ञान , विज्ञान से विशेष ज्ञान व अपना जीवन बल से छोटे से गांवों में  छोटे-छोटे बच्चों की उंगलियाँ छूकर उन्हें ऊंचे  उड़ान भरने की प्रेरणा दी है