Monday, 31 October 2016

देश का दबा काले धन की दवा किये बिना इस का एक परिहास है.., भले ही देश में मोदी सरकार द्वारा बड़े घोटालों का पर्दाफास नहीं हुआ है ..., लेकिन देश की १३० करोड़ जनता हर पार्टी के सत्ताजोड़ से माफियाओं का हौसला अब भी बुलंद है .


जन्म  दिवस पर आदरणायजली ..,  सरदार पटेल..., पाटीदार समाज  का बिना आरक्षण से असरदार नायक, हिन्दुस्तान की टूटी रियासितों को एक पटल बनाकर देश की  ६६२  रियासतों का विलय कर , राजाओं का काला धन जब्तकर राष्ट के एकीकरण से स्वर्णयुग के और प्रस्थान किया था..

आज देश युद्ध के मुहाने पर खडा है , देश के जवान चौकन्ने हैं.. सरदार पटेल का सपना आगे बढ़ाना  ...,  

देश का दबा काले धन की दवा किये बिना इस का एक परिहास है.., भले ही देश में मोदी सरकार द्वारा बड़े घोटालों का पर्दाफास नहीं हुआ है ..., लेकिन देश की १३० करोड़ जनता हर पार्टी के सत्ताजोड़ से माफियाओं का हौसला अब भी बुलंद है .


आज सत्ता परिवर्तन के ७० सालों बाद ..., हर मोहल्ले से नगर  शहर , प्रदेश से देश के सरपंच से २० हजार से अधिक शासक अपने को इसकी जागीर (रियासत) समझकर, इसे प्रधानमंत्री के सन्देश से गाँव शहर को गोद लेने को बजाय शायरी समझकर  , लूटने का खेल बदस्तूर जारी देश के किसानो के दाल से  अन्य फसलों से माल बनाने से महंगाई को डायन बनाकर अपनी तोंद का DIAMETER बढ़ा रहें हैं .., जबकि बच्चे से बूढों का पेट सिकुड़ता ही जा रहा है.. किसानों को फसल की उचित कीमत न मिलाने से उनका जीवन भी फिसलता जा रहा है.

देश के प्रदेश की हर सरकार व विरोधी मैं  टकराव है ..,  एक दूसरे को पटखनी देने का दांव से दानवी खेल है .., जनता त्रस्त है .., सत्ताखोर मस्त है .., इनकी नंगई के खेल का तमाशा से प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक  मीडिया में TRP के खेल से मालामाल होने का खेल है.

राष्ट्रीय मुद्दे गायब है .., जातिवाद के मुद्दे से वोट बैंक पर काबिज होकर बना रहें हैं एक जादुई ताबीज.., मुल्ला - यम के धिका चौकड़ी से अखिल प्रदेश बन रहा उतारू प्रदेश ..., पंजाब के पंजापना से पनप रहा नशे का व्यापार.., महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण व गुजरात पटेल के पाटीदार आरक्षण के एक नई पार्टी आन्दोलन से त्रस्त व ग्रस्त


  
July 7, 2014  की फेस बुक व वेबस्थल की पुरानी पोस्ट
र्स्स्सी जल गई बल नहीं गया..., कभी आरक्षण के भक्षण से,कभी शिवाजी की प्रतिमा के झांसे से प्रदेश जीतने का हौवा खडा कर. महाभ्रष्ट प्रदेश के काले कौवों के संगठित दलों की कविता है....

पहले मिलाप व आलाप की..., यह देश के ६७ सालों की राजनीती से भ्रष्टाचार की ROCK-NITI, चट्टानी नीती के प्रतिस्पर्धा से देश को लूटने की कहानी है...,
 

इस आड़ में सभी थाली के चट्टे ..., बट्टे , देश के पट्टे (खान खदान,ईमान
 ) बेचकर , देश की साख को बट्टा लगाने की कसाईपना की कोई कसर नहीं छोड़ रहें है...,

अब आदर्श मंजिला महाघोटालों के अपने आदर्शों से छत्रपति शिवाजी महाराज की दुनिया में सबसे ऊंची मूर्ती १०  हजार करोड़ रूपये से अधिक खर्च कर बनायेंगे.. क्योंकि नरेंद मोदी ने ६ माह पहले इस तरह की घोषणा की थी कि 
मैं,गुजरात में, देश के जवानों व किसानों की माटी के लोहे से एफिल टावर से ऊंची व मजबूत सरदार पटेल की मूर्ती बनवाऊंगा .

दोस्तों.., इस छत्रपति शिवाजी के पुतले के पीछे २१ शताब्दी के महा भ्रष्टाचार का पुतला छुपा है...

देश के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की पुस्तक भारत एक खोज से..., साईकिल घोटाले की खोज हुई थी,
प्रधानमंत्री ने तो डॉक्टर बनकर ..., नेहरू की पुस्तक को पढ़ाकर व अनुसंधान करवाकर, इसे अपने कार्यकाल में भ्रष्टाचार की नयी नयी खोजों में परिवर्त्तीत कर अपने विधार्थीयों को देश की अर्थी बनाने की कल्पनाएं दी ...

इस २१वी सदी के महाभ्रष्ट पुतले ने शिवाजी के विचारों को क्षीर्ण कर दिया है..

आज महाराष्ट्र देश का महाभ्रष्ट राज्य की सूची में अव्वल है......, नरेन्द्र मोदी ने गुजरात में सरदार पटेलके पुतले बनाने की क्या घोषणा कर दी ..

महाराष्ट्र के आदर्श भ्रष्टाचारी नेता , भ्रष्टाचार के तिल में समाते.., तिलमिलाये गए, और अब भ्रष्टाचार को आपस में गले लगाकर, ताल और ताली ठोककर , अपने गालों की लाली से, भारत निर्माण के नारों से नारों से अब पुतले निर्माण के आड़ में , मराठा आरक्षण के पराठे से ७२% की सीमा लांघ दी है..., इनका वश चले तो ये १००% की आरक्षण नीती से देश को बर्बादी में झोंकने में भी कसर नहीं रखेंगें 

जागो मित्रों.., अब यह राष्ट्रवाद की लहर.., कहीं वोट बैंक की कहर के बलि न चढ़ जायें..
एक प्रतिज्ञा लें
आओं, पार्टी नहीं देश का पार्ट बने, “मैं देश के लिए बना हूँ””, देश की माटी बिकने नहीं दूंगा , “राष्ट्रवाद की खादसे भारतमाता के वैभव से, हम देश को गौरव से भव्यशाली बनाएं
Let's not make a party but become part of the country. I'm made for the country and will not let the soil of the country be sold.

 भ्रष्टाचारीयों के महाकुंभ की महान-डायरी