Thursday, 22 October 2015

अब इसी कीचड़ से डेंगू के मच्छर पैदा हो गए हैं .., अस्पताल अब जनता का खून चूसकर एक धन बैंक बन गएँ हैं


१.  मैं १८ घंटे काम करता रहा, १३  सालों से अवकाश नहीं लिया.., लेकिन केजरीवाल प्रदेश की जनता की आँखों में लेजर वाल के  काजल से अपने को ६७ विधायको का बादशाह समझकर..,    ऊंगलीवाल बनकर..., २४ घंटे नौटंकी करता रहा...

२.   मैंने रक्षा बजट दुगना कर.., पिछली सरकार से  सेना के जवानों के बंधे हाथ खोलकर, उनके  बुझे जज्बों को जगाकर, सेना को  खुले हाथ देकर दुश्मन व दुनिया को अपनी ताकत दिखा दी है

३  जी हाँ.., मोदी को नीचा  दिखाने के लिए विदेशी से देशी मीडिया की  एक खोज में अब केजरीवाल नौटंकीवाल बनकर..,

मच्छर की बीन बजाते हुए घोषणा की  कि ...,दिल्ली का स्वास्थ्य बजट दुगना कर अब अपनी स्तुती में पिछले साल के २४ करोड़ की तुलना में ५२६ करोड़ के पब्लिसिटी स्टंट से चुनाव से, पहिले  दहाड़कर कहा था..,  मैं न सरकारी कार लूंगा, बंगला लूगा राजनीती में एक आम  आदमी से “आप” (जनता) को सन्देश दूंगा और राजनीती का कीचड़ साफ कर दूंगा.

अब इसी कीचड़  से डेंगू  के मच्छर पैदा हो गए हैं .., अस्पताल अब जनता का खून चूसकर एक धन बैंक बन गएँ हैं   

४. अब आम आदमी पार्टी अब “अपने आदमी पार्टी” कहकर , आमाद होकर अपने विधायकों को कह रहा सरकारी दामाद.., मेरे विधायक की  तनख्वाह  से हो उनकी तन के  ख्वाहिश .., अब मेरे  विधायक तो  सांसद से भी बलवान इसलिए उनका भत्ता हो चार गुना.., यह है मेरे सत्ता का भाग- गुणा   

५. सरकार बनाने पर कचरा कर्मचारियों के ३ महीने  के वेतन न मिलने पर दिल्ली को कचरे की बू से कचरावाल बनकर आरोप प्रत्यारोप में राजनैतिक दबंगता से सडकों पर १५  दिनों तक बनाया महामारी को निमंत्रण का खेल..

५.  अब स्वास्थ्य योजनाओं  के चादर से, मेडिकल माफियाओं ने छीनी गरीबों की गुदड़ी,  गरीबों की नीजी अस्पतालों ने  लाखों का बिल बनाकर गरीबों के घर को बर्बाग बर्बाद कर , दिया देश को एक दाग..,
६.  मुझे स्वराज के नाम से मेरा राज कहकर,तानाशाही के नाम पर अपने तन को शाही ठाट- बाट से अब अन्य सरकारी योजनाओं की हो रही है बंदरबांट .., अपने पार्टी के संस्थापक से व्यस्थापको को मार दी लात.., पुराने चुनावी मुद्दे हो गए गायब..,  अब नौटंकीवाल भी रंगरंगीले गिरगिटी वाल बनकर अपने दिल के गुब्बारे के गुबार को फोड़ कर रहे गुहार.., मुझे दिल्ली की, A .C.B. पुलिस, L.G. के पद पर हो मेरा अधिकार  कह.., मचा रहे शोर..

७. अब पार्टी फण्ड के नाम पर दे रहे जनता को दंड.., कह रहे मेरा खजाना  हो गया है खाली.., अब लगाता हूं अपना कटोरा हर गले नुक्कड़ , गली-गली..,  मांगू जनता से पैसा की नौटकी से कहूं एक साल में बन गई है मेरी पार्टी गरीब.., अब जनता को इस झांसे से अब मैं देखूं सत्ता का एक नया ख्वाब..   

८.  केजरीवाल जी ...!!!!, यदि आपका मंत्र है कि मंत्रिमंडल में.., कानून  मंत्री फर्जी हो.., तो क्या  ख़ाक क़ानून बनेगा.., बोगस डिग्री के विधायकों से क्यों करवा रहे हो जनता की  दुर्गती ..!!!
९.  केजरीवालजी..., एक छोटा बच्चा भी माँ –बाप  से भी चोकलेट के लिए भी इतना जिद नहीं  करता जितना की आप और.., और...और.., की  जिद कर, लोटपोट हो  रहे हो, अब तो जमीनी हकीकत जानों.

१०. अब केजरीवाल एंड कंपनी की हालत उस लड़के जैसी हो गई है, जो अपनी पढ़ाई करने के बजाये 'सिलेबस' बदलवाने के लिये कभी टीचर से मिलता है , तो कभी प्रिंसीपल से और कभी शिक्षा मंत्री से. जबकि सभी उसे यही सलाह देते है, कि कुछ कठीन नहीं है.. तुम पढ़ने की कोशिश तो करो .....
लेकिन पढ़ाई इनसे होना नही है ये सबको समझ आ रहा है...

११ . केजरीवालजी अब गिरगिटी रंग से छद्म दबंगता छोड़ों.., राष्ट्रवादी रंग से प्रदेश में एक नया रंग भर दो.., यह सत्ता बार-बार नहीं मिलती.., यह पब्लिक है सब जानती है.., जन्नत का झांसा देने वाले व देश प्रदेश के सत्ता खोरों को सबक देकर जहन्नुम में डालना भी जाती है...


१२. दोस्तों.., आप और हम वोट बैंक का चेहरा हैं.., ५ साल का  रोता चेहरा है.., फिर होगी एक अफीमी नारों की बहार हम बह जायेंगे इस बयार ... राम मनोहर लोहिया ने की यह उक्ति .., जिन्दा कौमें पांच साल इन्तजार नहीं करती.., आज क्या सार्थेक होगी..,  जब तक न हो..., राष्ट्रवाद  का सार..., देशी विचार..,
Let's not make a party but become part of the country. I'm made for the country and will not let the soil of the country be sold. के संकल्प से गरीबी हटकर, भारत निर्माण से, इंडिया शायनिंग से, हमारे LONG – INNING से, “FEEL GOOD FACTOR” से देश के अच्छे दिन आयेंगें..