Videos

Loading...

Tuesday, 28 July 2015

शास्त्री के “जवान-किसान” के “शास्त्र” व तुम्हारे “कलम के कमाल” से, विज्ञान के “शस्त्र” से गौरान्वीत हुआ हिन्दुस्तान.., भारतमाता के इन लालों को हमारा सलाम.. “कलाम” हमारा “सलाम..” आपकी मुस्कान है “राष्ट्रवाद” की पहचान


१.    अब्दुल.., अब दुलारे बनकर, भारतमाता के.., व लाल बहादुर शास्त्री देश के लाल से  .., इन दोनों ने, देश के राख तले चिंगारी की ज्वाला से देश को प्रजज्वित कर दुनिया को दिखा दिया कि  एक गरीब में राष्ट्रवाद की चमक के सामने अमीरी भी फीकी है ..
२.    इन दो हस्तीयों ने दिखा दिया कि “गरीब ही गरीब का दर्द” जानकर “जय जवान-जय किसान –जय विज्ञान” के  कर्मठ कार्य से देश को बुलंदी में  पहुंचा सकता है..
३.    दोनों की जिन्दगी सामान..., फटा हाल बाल्य -जीवन.., कलाम के  पिता नाविक व शास्त्री के  पिता शिक्षक.., शास्त्री तो स्कूल से नाव में जाने के लिए पैसे न होने से तैर कर जाते थे.., और प्रधानमंत्री से,  देश के नाविक बनकर देश की नैय्या पार करा  दी.., कलाम तो नाविक के पुत्र से, देश के  शिक्षक बनकर,गाँव-शहर के २ लाख से ज्यादा बच्चों में उमंग की अलख जगा दी..,
४.    लाल बहादुर शास्त्री की ह्त्या के बाद, उन्हें बदनाम करने के उद्देश्य से  कांग्रेसियों ने उनके घर छापा मारकर जांच की, तो कोई चल-अचल सम्पती न मिलने से, वे हाथ मलते वापस आये..., वही कलामजी ने अपना पूरा धन राष्ट्र के गरीबों व अनाथों को दान कर, एक मिशाल देकर .., आज के सत्ताखोरों की अकूत सम्पती को चुनौती दी कि कालेधन की कला से  नहीं .., “सफ़ेद मन” से ही, देश को राष्ट्रवाद की धारा से  उन्नत बनाया जा सकता

५.    कलामजी, आपने तो, राष्ट्रनीती  के समक्ष  सत्ताखोरों की राजनीती को पटखनी दी है.., संयोग से “मुस्लिम वोट बैंक” का मोहरा बनाकर.सत्ता आपको  महामहीम राष्टपति बनाया .., लेकिन जो भी हुआ .., आप तो एक  निर्वीवादित/निर्विरोध  , बिना राजनेताओ की बैसाखी की याचना से आप महामहीमबने
६.  अब्दुल कमाल जी आपने, अपने वैज्ञानिक कार्यकाल में अग्नि मिसाईल के निर्माण  से दुशमनों की नीद हराम कर दी थी.., और राष्ट्रपति के पद पर आसीन होने के बाद दिखा दिया कि, अपनी वैज्ञानिकता के अनुभव  से, केंद्र  सरकार के, राज्य में विरोधी पक्ष की सत्ता हथियाने के “भ्रष्टाचार के मिसाईल” को धवस्त कर,  “राजनेताओं” की नींद हराम हो गई थी.., इस लिए राजेंद्र प्रसाद की तरह दुबारा राष्ट्रपति नहीं बनाया गया ..
७.  आपके सेवानिर्वित होने के बाद, माफिया-सत्ताखोर-भ्रष्टाचार का  गठबंधन तो देश को फूंक  कर ज्वाला से, देश की प्रतिभा को राख बनाकर.., देश को डुबो रहे है
८.  देश की जीवित पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल  सेवा में आने के पहिले बैंक घोटालों / गबन की रानी थी, उसे सत्ता के भ्रष्टाचारियों ने  राष्ट्र की रानी बनाकर , कांग्रेस के सत्ता गढ़बंधन के A-Z राजाओं ने बंदरबांट से पाहिले आओ.., लूट का माल पाओ के बंदर बाट से देश में लूट का निर्माण कर रहे थे ,
९.  वहीं, वर्तमान राष्ट्रपति भी जादुई छड़ी न होने से देश की चौपट अर्थव्यस्था को ठीक करनेमें अपनी लाचारी जताकर, व इटली के हथियार घोटालों से मलाई बनाकर, जो बचपन में अगला जन्म राष्ट्रपति के घोड़े का चाहते थे.., वे जादुई तरीके से,राष्ट्रपति के घोड़े (पद) पर बैठ गए..,और तो और पिछले लोकसभा चुनाव में अपने पुत्र को कांग्रेस के चुनावी टिकट दिलाकर.., हारकर. उसकी व अपनी लुटिया डुबो दी ..,
१०.                   याद रहे ..,  पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल  सेवानिर्वित होने के बाद पुणे में नेवी की जमीन हड़पकर उसमे बंगला बनाने से विवादों में आ गई, और तो और तो २० ट्रकों में अपना सामान व देश के सम्मान में दिए  गए..,विदेशी देशों के  उपहार भी अपनी माल-मत्ता समझ कर अपने घर पुणे  ले गयी थी ..., बाद में बेशर्मी से उन्हें वह पुरूस्कार ९ ट्रक भरें लौटाना पड़ा .., और अब  पेंशन व अन्य सुविधाओं से ऐश कर रही है..

११.                   एक निर्वादित , बिना राजनेताओ की बैसाखी की याचना से महामहीमबने अब्दुल कलाम , अपनी कलम की ताकत व आवाज से,  आवाम को जागृत कर रहें थे ..., देश भर के स्कूल में छोटे-छोटे बच्चों के बीच जाकर .., अपने अनुभव..., जूनून .., दृण संकल्प का सन्देश शिक्षक बन कर, गाँव शहर में दे रहें थे ....,  बच्चों में भी स्फूर्ती आती थी ..., क्या बात है ..हमारे पूर्व राष्ट्रपति हमारा उत्साह बढ़ाने के लिए , हमारे साथ घुल मिल कर बात कर रहें है... 
स्वर्गीय कलाम साहब का यह कर्म ..., आने वाले कल के बच्चों को नया हिन्दुस्तान के नवनिर्माण की शिलाका आधार बना गयी  है...
१२.                   दोस्तों..,  पिछले जितने भी लोगों को “भारत रत्न” मिला है. वे अपने ही घरों में.., इसकी चमक बनाकर, गुमनामी में खो गए .., वही वोट बैंक की बंदरबाट में,हॉकी के जादूगर को अँधेरे में रखकर , सचिन तेदुलकर को “भारत रत्न” दे दिया जो आज भी एक दुकानदार की तरह विज्ञापन की भागीदारी से देशी विदेशी उत्पादों की बिक्री से देश को कलंकित कर रहें हैं , लकिन कलामजी ने तो भारत रत्न की चमक गांवों व स्कूली बच्चों में फैलाकर, शिक्षा की प्रेरणा से, जूनून से अपने संघर्ष की गाथा से लड़ने का मंत्र दिया कि पिछली  बैंच (गरीब) का  बच्चा भी देश को, अपने आत्मविश्वास के बल से देश का अनोखा हीरा बन सकता है
१३.                   अब सवाल उठाता है कि कलाम को  श्रदांजली  देते समय, राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी.., क्या उनके गुणों से प्रेरणा लेकर..,क्या वे निर्वित होने के बाद अब्दुल कलाम के जीवन का अनुसरण करेंगे
१४.                    दोस्तों याद रहें .. कलाम के इस गौरान्वित कार्यों से देश की भावी पीढी करे राष्ट्रवाद से जागृत होकर, राजनेताओं के भ्रष्टाचार का खेल ख़त्म न कर दे इस डर से  प्रधानमंत्री मनमोहन के कार्यकाल में अब्दुल कलाम को धमकी मिली थी कि आपके इस दौरे का राजकीय खर्च जो करींब दिन के ५० हजार रूपये है, भारत गरीब देश होने से यह खर्च बर्दास्त  नहीं कर सकता है.... इसे बंद करो...
१५.                   वही देश में  जल-थल- नभ आकाश से कोयला चोर के घोटालों जो अरबों खरबों की लूट के बावजूद,देश का  खजाना खाली होकर देश को गर्त  में ले जाने,  व देश की अर्थ व्यस्था को चौपट करने वालों  को शिल्पकार के रूप में “लूटेरों के निर्माण” से  .भारत निर्माण’ के मसीहा से सम्मानित कर, देशवासियों को भरमाया जा रहा था .
१६.                   कलामजी.., आपकी ८३ वर्ष की कर्म शक्ति व देश की संसद में बंदरों की लूट नीती के विरोध में.., संसद ठप..,  के ४ दिनों  का देश का गुजरा काल बर्बाद होने से , व पंजाब में आतकवाद की  घटना से आप आहत थे.., अपने “श्वास  के अंतिम स्वर”, देश के लिए समर्पीत थे ..,यह सदमा आप सहन न कर सके..,
१७.                    आपकी मृत्यू के सदमे से,देशवासी बुरी तरह आहत होकर, आँखों में आंसू भरकर कह रहा है, ऐसे कलाम कहाँ खो गए  है.., अब, देशवासी आपकी प्रेरणा से अभिभूत होकर ही देश को २०२० के “विश्व गुरू”  बनाने के  आपके मिशन को पूरा करने में  संकलिप्त होगा.
=============================================
कलाम के कहने का सार है..,
Let's not make a party but become part of the country. I'm made for the country and will not let the soil of the country be sold. के संकल्प से गरीबी हटकर, भारत निर्माण से, इंडिया शायनिंग से, हमारे LONG – INNING से, “FEEL GOOD FACTOR” से देश के अच्छे दिन आयेंगें..,