Monday, 11 May 2015

१४. आओं, पार्टी नहीं देश का पार्ट बने, “मैं देश के लिए बना हूँ””, देश की माटी बिकने नहीं दूंगा , “राष्ट्रवाद की खाद” से भारतमाता के वैभव से, हम देश को गौरव से भव्यशाली बनाएं



१.    जज .., जिसके शुरू में ज और अंत में ज .., देश के कानून से , माफिया को जीजाजी बनाकर.., जी (जी) हजूरू कर.. जाने (जा).. की, जीने (जी) की एक नए जीवन की कला है .. अब घोटालेबांज बने जांबाज, क्योंकि काली व खाकी वर्दी भी हुई.., रिश्वत के धन से आबाद , आम  जनता की नहीं खुल रही आवाज
२.    खास आदमीयों  के लिए क़ानून की आवाज  -  हुकुम करो मेरे आका, मेरे दोनों हाथ से झुककर, क़ानून की छांव से पार करूं तुम्हारे जीवन की नांव
३.    आज जज तो कानून को , कान में ऊन डालकर करू प्रत्वादियों का तिरस्कार,, तुम्हारे सत्कार से आये हमारे भी जीवन में बहार
           माफिया अब तुम्हे माफ़ किया..,  आपने हमें, धन का दिल दिया   
४.     आज की ताजा खबर 100 करोड़ के भ्रष्टचार के आरोप में तमिलनाडु की जयललिता और उसके चार घनिष्ठ साथी व वंशजो को  विशेष कोर्ट द्वारा ४ साल की सजा को  कर्नाटक हाई कोर्ट ने एक नए नाटक से  विशेष कोर्ट को लताड़ लगाकर... जयललिता को विशेष ताड़ के,  पेड़ की ऊंचाई पर पहुंचाकर..., पूर्ण रूप से सजा रद्द कर,उसे आबाद कर दिया  है... अब वह पुन: तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनने जा रही है
५.    इसी संविधान को वापस याद करें, यदि देश मे सत्ता परिवर्तने (१९४७) के बाद एक रेल्वे के बुकिग कर्लक (बाबू) को 2 रूपये रिश्वत लेने पर 3 साल की सजा मिली , तो आप सोच सकते है कि ..,  1लाख करोड रूपये के गोलमाल मे देश के कलमाडी ( सत्ताधारिओ के,बलमा-डी) से जयललिता, लालू यादव व राजनीती के अनन्य घोटालेबाजों  को कितनी सजा मिलनी चाहिये थी
६.    देश के काले कोट ने देश  के  संविधान को काला कर दिया है , देश की खाकी वर्दी भी क़ानून को खाख कर, अपने साख बनाने में लगी है .., कानून  को अपने बाप की जागीर समझ रही है
७.    जहाँ भ्रष्ट पुलिस के चलते जहाँ शहर में तेजी से अपराध बढ़ रहें हैं , वही अपराधियों के हौसले बुलंद हैं. क्योंकि खुद पुलिस ही गुंडों के साथ  याराना निभा रही है , जिसमें रही सही कसर खाकी वर्दी वाले बलात्कारियों,  ड्रग तस्करों, वसूली बहादुरों ने पूरी कर दी है
८.    मुम्बई में तो पुलिस आयुक्त अपनी पुलिस की करतूतों को लेकर शर्मिन्दा हो रहें हैं जो बेवडे भ्रष्ट , औरतखोर , ड्रग एडिक्ट पुलिस वालों की ठाणे स्तर  पर लिस्ट बनवाने जुटे हुए हैं , यहाँ तो हालात ऐसे हैं कि आम  आदमी..,  पुलिस से भयंकर रूप से  परेशान है.
९.    याद रहे...,१५  साल पहिले,  हाई कोर्ट के जजों ने गरीब मजदूरों के भविष्य निधी  (PF) के  पेशन की ४०० करोड़ की रकम डकार कर.., क़ानून को मुर्दा बनाने का खेल शुरू किया था..., आज तक दोषियों को सजा तो दूर की कौड़ी है .., वे भी धने की पकौड़ी से आबाद हैं..., और तो और, अभी तो  इस मामले की सुनवाई को ठन्डे बस्ते  में डाल दिया है.
१०.                      ऐसे लाखों मामले है..!!,  जहां क़ानून , न्यायालय के बाहर भ्रष्टाचार  से बिक जाता है..., गरीब व्यक्ती तो अपना घर बार बेच कर , न्याय की आस में भगवान् को प्यारा हो जाता है...
११.                      मेरे वेबस्थल का स्लोगन है..., “मेरा संविधान महान, यहाँ, हर माफिया पहलवान, बिक रहा ईमान व जज धनवान. 
१२.                      दोस्तों..., डूबते देश की यही कहानी है..., आप और हम तो ५ साल के लुटते हुए चेहरें है..., नेताओं के चुनावी मोहरें है... , हर चुनाव ELECTION, जनता  को  ILL – ACTION कर, बीमार करने का खेल है....
१३.                      जब तक देश्वसियों मे राष्ट्रवाद की भावना नहीं आयेगी..., देश लूट से डूबते रहेगा..., इससे निजात पानी है तो एक कसम लें   ..,,,, Let's not make a party but become part of the country. I'm made for the country and will not let the soil of the country be sold.

१४.                      आओं, पार्टी नहीं देश का पार्ट बने, “मैं देश के लिए बना हूँ””, देश की माटी बिकने नहीं दूंगा , “राष्ट्रवाद की खादसे भारतमाता के वैभव से, हम देश को गौरव से भव्यशाली बनाएं