Wednesday, 1 April 2015

अब मैं यह सब नौटंकी देखकर...., यही कहना चाहता हूं कि आज तक चुनावी नारों में लोगों ने जनता पर जितने अफीमी फूल फेंके है.., वह उतना सफल हुआ है...,


बोलू: अरे देखू, आज अप्रैल फूल दिवस है, क्या देख रहा है...

(https://www.facebook.com/BapuKeTinaBandaraAbaBanaGayeHaiMastaKalandara?ref=bookmarks)
देखू: हाँ ,असल में आज देश के नेताओं का APRON (चोला) बदल कर, जनता को FOOL (बेवकूफ) बनाने का दिवस है, दिल्ली में भगत सिंग सेना का पोस्टर वार चालू है..., वह उसे APRON (चोला) ARVIND (अरविंद) PARTY (पार्टी) –AAP कह रही है . 
सोनू: हाँ ,चुनाव के पहिले नौटंकीवाल ने नारा दिया था “'इंसान का इंसान से हो भाईचार..,यही पैगाम हमारा..,,का नारा की शराफतका खेल से जनता को भरमा रहा था और सफल भी हो गया, अब उसने अपना APRON (चोला) फेंक कह रहा..., मुझे सिर्फ सत्ता है प्यारा, और मैं ही खाऊँ इसका चारा,
बोलू : इस अंदरूनी झगड़े में , सफाई कर्मचारियों के वेतन ने मिलने पर , अपना पल्ला झाड़कर .., केजरीवाल ...कचरावाल बनकर, अपनी दबंगी से दिल्ली को गन्दगी का बढ़ावा दे रहा है..
देखू: हाँ.., मैं देख रहा था , चुनाव के पहिले वह अपनी पार्टी में व्यवस्ता परिवर्तने से भगत सिंग के नारे में युवकों में एक नए खून के संचार का दावा कर.., देश में एक क्रांती का दंभ भर रहा था
बोलू: चोले का बेवकूफ दिवस तो १९४७ से ही मनाया जा रहा था “आराम हराम है” से नेहरू ने अय्यासी दिवस से अपने को शांती के मसीहा से विदेशी विचारों से.., कश्मीर की समस्या जो देश आज भी भुगत रहा है.., उसके बाद उनको भारत रत्न का पुरूस्कार देकर, जनता को भरमाया गया , चीन ने भारतमाता के अंग को काट डाला..., जबभी संसद में उनका कांग्रेसियों द्वारा विरोध होता था तो वे कहते थे.., मैं राजीनामा दे दूंगा,, सभी सांसद.., सांसत में पड़ जाते थे कि लोकसभा के सदस्यता को लाटरी का टिकट मानकर खोना नहीं चाहते थे
सुनू : हाँ , मैं भी सुन रहा हूं.., अब वह गिरगिट वाल की तरह रंग बदल कर कह रहा है..., मैं ६७ विधायक लेकर नई पार्टी बनाऊंगा.., और मेरे दल के विरोधी देखते रह जायेंगे...,इसी तरह “आप” पार्टी के विधानसभा सदस्य भी, जिसमें कई सदस्यों ने टिकट खरीद कर, भरमाए नारों से चुनाव जीता है.., उन्हें भी सत्ता से मंत्री पद व सदस्यता खोने से भारी वित्तीय नुकसान का भय लगा हुआ है
बोलू: हाँ, नौटंकी वाल ने तो जो रंग बदला उससे तो गिरगिट भी दंग है.., वह इस रंग से अब वह अपने को पार्टी का दबंग कहता है.., ADMIRAL रामदास को लोकपाल बनाकर, जनता को भरमाकर, नौटंकी वाल अपने को ADMIRABLE कर, इस बल से जनता में अपने जीवन को समर्पित कर, सड़क का आम आदमी के जीवन से देश में एक लहर लाऊंगा के झासें से अब अपने पार्टी के नेताओं को फांसे का खेल , खेल रहा है
देखू: मे देख रहा हूँ कि अब नौटंकी वाल कह रहा है कि मेरी मर्जी.., मैं जो करू.., अब पार्टी में लोकपाल को ठोकपाल बनाऊ..., अभी ३० से ज्यादा लोगों को मंत्री का दर्जा देकर , खुद व अपने बाए हाथ के मंत्रियों ने भारी संपत्ती से कर व बंगलों से मालामाल बन गए हैं.., और जनता इस द्व्यंद युद्द से अपने को ठगी पा रही है...
सुनू : मे अभी सुन रहा हूं कि एक नेता कहा रहा है कि “आप” का यह विरोध अब आप के बेड रूम में जाएगा..,
देखू: हाँ , पार्टी के एक नेता ने लोकसभा चुनाव में अपना ध्यान चुनाव छेत्र में न लगाकर.., किसी युवती के साथ बेड रूम में बेड तोड़ी थी.., अब वह भी नौटंकी वाल के चरणदास बनकर, आप पार्टी के बचाव में अपनी पूरी ऊर्जा झोंक रहा है..
सूनू: अभी मैं सून रहा हूं.., पार्टी के बचे ,संस्थापक सदस्यों में भारी विरोध चल रहा है..., वे अब नौटंकीवाल को नई चुनौती दे रहें है...
बोलू : जनता भी “फेकू” के अच्छे दिन व “पप्पू के गायब” होने की चर्चा कर रही है , नौटंकी वाल के इस नवीनतम चर्चे से, दूसरे दलों के चर्चों की आवाज नेपथ्य में चली गई है..,
देखू: अब मैं यह सब नौटंकी देखकर...., यही कहना चाहता हूं कि आज तक चुनावी नारों में लोगों ने जनता पर जितने अफीमी फूल फेंके है.., वह उतना सफल हुआ है..., यदि जनता में राष्ट्रवादी भावना जागृत होगी..तो इस अफीमी फूल के ईट का जबाब , जनता पत्थर मारकर , सत्ताखोरों को थर्रा सकती है...