Tuesday, 21 October 2014



महाराष्ट्र की सत्ता .., भाजपा के लिए..
शिवसेना बनी गले की हड्डी.., व राकांपा बनी मछली के कांटे के चुभन...
राजनीती के भीष्म पितामह.., व पूर्व क्रिकेट मंत्री शहद पावर ने एक आसान गेंद फेंककर भाजपा को छक्का मारने के अवसर से..., शिवसेना रह गई, हक्का बक्का.., 
पहले हुक्का पानी बंद करने की धमकी से.., अब शिवसेना के हुक्का में पानी ख़त्म होने से..., 
वह पानी-पानी होकर, धमकाने की स्टाईल में बात कर रही है...

याद रहें... यू.पी.ए.१ और २ के कार्यकाल में सभी पार्टियों के नेता “सैया भये कोतवाल की भूमिका में थें.., कांग्रेस के मंद मौन मोहन सिंग के गोपिकाओं के भ्रष्टाचार के समुन्द्र में नग्न नृत्य से सभी ने आनंद लिया है..
और तो और स्वयं प्रधानमंत्री ने अपने मुंह में कोयले की कालिख लगाकर इन्हें प्रेरित किया है..,
अब, राकांपा जो अब आनन् फानन में इस नग्नता से बचने के लिए भाजपा को एक तुरूप का पत्ता फेंक दिया है...

इस खेल के बचाव के..., इन मुद्दों से, भाजपा की बुद्धी हरने का यह खेल है...

१. लवासा जो राकांपा-कांग्रेस की लव की आशा से ५ लाख करोड़ की महा लूट
२. १ लाख करोड़ का अजीत पवार का सिंचाई घोटाला, जिन्होंने क़ानून का मखौल उड़ाते हुए कहा था.., क्या यदि मेरे पेशाब करने से सिचाई हो तो मैं पेशाब करने को तैयार हूँ.., अब चुनावी नतीजो से उन्हें पेशाब आने के खौफ़ से भयभीत हैं...
३. सुनील तटकरे का फर्जी कंपनीयों से भ्रष्टाचार से जीवन में समुन्द्र के तट पर आनंद मुद्रित हैं
४. महाराष्ट्र के घर कुल घोटाले के पार्टी के कुल देवता बने गुलाबराव देवकर
५. महाराष्ट्र सदन के घोटाले के छगन भुजबल.., जो अपने बाहुबल से क़ानून को छकाते रहे...
६. वही बोइंग विमान घोटाले से खरबों रूपये के घोटाले से एयर इंडिया के पंख काटकर, भट्टा बिठाने वाले भ्रष्टाचार से प्रफुल्लित, प्रफूल.., FOOL बनाकर परफ्यूम वाले पटेल का पटाक्षेप का खेल
७. याद रहे.., कांग्रेस के कार्यकाल में १ लाख करोड़ के तेलगी के स्टेम्प घोटाले में, अब्दुल तेलगी के नार्को टेस्ट में शरद पवार व छगन भुजबल का नाम लेने के बावजूद, तेलगी को ही मुख्य मोहरा बनाकर अब जेल में कैद कर दिया है..., अब यह इस भ्रष्टाचार के पिटारे से, स्टेम्प पेपर का भूत, कही निकलकर, उठकर , इन पर नकेल खीचकर, इनकी राजनैतिक जीवन को बैठा न दें

उद्दव ठाकरे ==============
८. उद्दव ठाकरे, अब राजनीती में ठोकर लगकर, चवन्नी बन गएँ है..., कहीं अपना अस्तित्व समाप्त न हो जाए..., अब चौकन्ने होकर , चौतरफा मांग से सत्ता का तोहफा लेने की उतावली दिखा रहें हैं..
९. अब मोदी के शेरी दहाड़ से , भाजपा के चूहें बन , भाजपा को कुतरने का खेल, खेल संकें..
१०. शिवसेना, अब.., जैतापुर विद्युत प्रकल्प को रोककर..., अपनी जीत का पुर से पावरफुल शरद पवार व भाजपा को पटखनी दे सकें..
११. विदर्भ जो पृथक राज्य के समर्थन में ४४ सीट , भाजपा की झोली में डालें है..., इस मुद्दे पर, शिवसेना अपने विविध गर्भ के दंभ से भाजपा को एक PLAY से प्लेग लगाने का स्वप्न देख रही है...