Thursday, 1 May 2014



दिग्विजय,ने अपने बडबोले पन से कांगेस को गड्डे में डालकर, अपने चरित्र से कांग्रेस की कब्र बनाने में लगे है... अब बुढापे में डींग के ढोंग से मर्यादा को ताक में रखकर किसी और के गड्डे में गिरकर दीवाने हो गए हैं ...