Friday, 14 February 2014



दोस्तों.., देश के ४० करोड़ से कहीं ज्यादा अन्नदाता का नहीं सम्मान..???, माफियाओं को मिले ऊँचे दाम..., ऊँचे लोग . ऊँची मंजिल , और अन्नदाता ऊँचाई से फंदा लगाकर दे रहा है, अपनी जान ... देश के २०लाख जवानों के जज्बे व सरहद की सीमा की ऊँचाई में जाकर ह्त्या होने पर, नहीं कोई सम्मान 
पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी ने अपनी कला से विदर्भ की विधवा कलावती के, हाल का खुबसूरत बखान कर .. वादों से अपनी सत्ता को फलफूलित किया ...कलावती को कोई सहायता न मिलने से वह दिल्ली आ धमकी... वही कलावती के दामाद द्वारा कर्ज से आत्महत्या का भी कोई दाम नहीं मिला ... क्योकिं सत्ताखोंर भ्रष्टाचार में आमाद थे..
N.G.O. बना नो जियो आर्गेनाईजेशन, ३ करोड़ की भारी भरकम माफिया + सत्ताखोरों के मिलीभगत की माला , जिसने भारी रकम डकारकर देश को बेच डाला, और संविधान को पूछने का भी अधिकार नहीं
सूखा हो या बरसात ...इनके लिए है.., एक नई सौगात
वहीं फ्रीडम फाईटर की औलादें बनी , FREE+DRUM मुफ्त में ड्रम बजाने की आवाज से पेंशन व आरक्षण से देश के संस्थानों से संसाधनों पर पहला अधिकार हो गया है..
उपर से सरकारी बाबूओं की १५ करोड़ से ज्यादा की फ़ौज ... जिसमे अधिकांश कर्मचारी अपने को राष्ट्र का जमाई समझ कर देश की मलाई खा रहें हैं, चपरासी भी चप –चप कर चपलता से, करोड़ों की सम्पत्ती जमा कर रहा है ...
गद्दार बने गद्दीदार, से तलवार..जनता पर करें वार,सफ़ेद धोती कुर्ता की औलादें बनी काले कोट व भ्रष्टाचार के पेंट (Paint- बदरंग ) से बनाया देश का भुरता , २० लाख किसानों की आत्महत्या व २० लाख जवानों का नहीं सम्मान