Friday, 14 February 2014



केजरीवालजी, “आप” कही बाबाजी का ठुल्लु न कहलाये...??? 
केजरीवालजी “आप” क्रिकेट के खिलाड़ियों के अनाड़ीपना से, मिस शीला दीक्षित के मिस फील्ड से तो चौकेजी बन गए...???, अब छक्के लगाने के चक्कर में छब्बे जी बनने के चक्कर में हिट विकेट कर, अब दुबके जी बनकर ....., अपने आऊट होने के श्रेय के लिए , अपने जनता की संवेदना लेकर , दूसरी पारी का इन्तजार कर रहे हो, आपने ५० ओवर की पारी में ४९ दिन की ४९वें ओवर में आऊट होने का श्रेय ले रहें हैं.... याद रहें एक दिवसीय मैच में दूसरी पारी नहीं आती है...
फेस बुक व वेबसाईट की के पेज की December 31, 2013 की पोस्ट जो आज सार्थक हुई है..., केजरीवालजी कांटो भरी राह से .. बड़े रोड़े हैं...., आपको १८ स्टम्प बचाने है , हर विकेट बचाने के लिए कांग्रेस के हथौड़े खाने है..????, अपनी गददी बचाने के लिए, हर कदम पर फुल टॉस बाँल (गेंद) है... , मैदान में बिछाया जाल व पिंजरा है , कही इस जाल के झोल से, “आप” अपने वादों के चक्रव्यूह के पिंजरे में फंस न जाओ..., कही, शपथ.., अब अग्निपथ बन कर न रह जाए.. “आप” कही बाबाजी का ठुल्लु न कहलाये...???