Monday, 7 October 2013

आज सत्ता... देश के भ्रष्टाचारी..., नशेड़ी गर्दुल्ले, सडक छाप लोगों के हाथ आ गई है ,



आज सत्ता... देश के भ्रष्टाचारी..., नशेड़ी गर्दुल्ले, सडक छाप लोगों के हाथ आ गई है , जो अशोक चक्र को , भ्रष्टाचार के चक्र से बुलेट ट्रेन से भी तेज दौड़ा रहे हैं, अपने को संविधान का शेर समझ रहे है,. खुफिया विभाग भी अपनी रोजी रोटी छीनने के डर से सोया है, पुलिस तो रिश्वत की पेटी है... भ्रष्टाचार की गर्मी से कोर्ट का जज भी, आम आदमी की तरह अपनी कोट उतार कर बैठा है...???, ताज्जुब की बात है की २६ जनवरी की घटना.अखबार में प्रकाशित होने के ९ महीनो बाद कानूनी कारवाई की गई है, वह भी हल्की- फुल्की, राष्ट्रवादी देशों में ऐसे लोगों को सूली में चढ़ाया जाता है, हमारे देश में इन्हें फूली (फूल) की तरह सम्मान दिया जाता है.


दोस्तों , यह कहानी मुंबई जैसे महानगरों की ही नहीं , देश भर में झंडे का अपमान. के बहुत सारे प्रकरणों को देखकर भी सरकार की कानों में जू नहीं रेंगती है क्योंकि , सरकार के कानों मे भ्रष्टाचार का तेल व आँखों मे काली (कोयला) काजल लगी है, आतंकवाद ,अलगाव वाद ,घुसपैठीयों की रोक के जरिये.... भ्रष्टाचार का समीकरण बदल न जाए” , इसलिए देश की सुरक्षा को अनदेखा कर , देश की सीमा के साथ-साथ जवानों ली जिन्दगी से भी खिलवाड़ किया जा रहा है, वह दिन दूर नहीं, जब सडक छाप नेता .जिन्हें जनता से नहीं है सरोकार” . वे भ्रष्टाचार के हत्यार को पैनापन कर... बनायेंगे सरकार”,, भले देश कितने भी टुकड़ों में बटे. और मीडिया तो अब तलवे चाटू नहीं ,ये देश के तिलचट्टे बनकर सरकार में अप्रत्यक्ष रूप से आज भी भागेदार बने हुए है, अरबों की संम्पती का जुगाड़ कर लिया है , मीडिया भी खान खदान व देश का ईमान बेचने वालों का भी आगे-आगे और भी करेंगी , इनका गुणगान ....