Saturday, 10 August 2013



अब देश के रूपये को चुग कर, डकार कर.. भारत निर्माण का नारा देना है..??? 
----- मुन्ना - उवाच ------
चल चुग जा रे पंछी ये देश है, भ्रष्टाचार का खजाना,
तुने देश का तिनका तिनका उजाडकर,अपनी हजारो नगरी बसाइ,
मजा कर जो किसानो के मेहनत तेरे काम आइ,
अच्छा है सब कुछ लूट कर, दौलत तुने कमाइ,
आज जग के आँख का तु है तारा, चाल तेरी मतवाली,
अब ना भूल इस बाग को, अब तू और तू ही है इसका माली,
तेरे किस्मत मे लिखा है, इस खेत ही नही, इस देश को लूट कर खाना,
चमक रहे है , पंख और टोपिया तुम्हारे और तुम्हारे धनों का मैखाना,
जिनके साथ तुने लगाए है भ्रष्टाचारीओ के मेले,
मेरी अखियो से आज तू मेरी दुवा ले ले,

किसको पता है इस इस देश मे मुझे हो..... कब तक रहना .........
कौन जाने, अब कब आये...., ऐसा मौका दुबारा... , अब नही है इसे गवाँना ..........
चल, अब जल्दी ... जल्दी.... चुग जा रे............ पंछी........