Sunday, 7 July 2013



हमारे नेता डुय्प लर (अंग्रेजी शब्द-धोखा) राडार है....????. इन्हे सब पता होता है कि चुनावी मौसम मे जनता को धोखा कैसे दिया जाता है..] आज से चार पाँच साल पहिले जोरो शोरो से खबरे आ रही थी... पूरे देश मे बाढ की तबाही व मौसम का अनुमान लगाने के लिए डाँप्लर राडार लगाये जाएगे ... सरकारी कछुआ चाल से 14 शहरो मे तो लग गये... जो हमेशा आशंकित इलाके थे ... वहाँ उनकी सुध नही ली गई... ऐसे भी, मौसम विभाग हमेशा अपने पर आँच न आये , नीद मे रहकर चेतावनी जारी करते रहता है..? और 90% भेडिया चेतावनी.. झूठी निकलती है.
उत्तराखंड के बारे मे अमेरिका के नाशा व भारत के इसरो की लिखित चेतावनी मिलने के वावजूद भी इस चेतावनी को अपने प्रदेश के मौसम विभाग के सोये हुए लोगो की चेतावनी के समान मान कर भ्रष्ट अधिकारी व नेताओ ने ... राज्य के पर्यटन विभाग के राजस्व का नुक्सान न हो, इसी कारण से इस चेतावनी को अनदेखा कर दिया और गोपनीय भी रखा...जनता जाए भाड मे..??, असल मे यह.. विकास के नाम से पहाडो को डायनामाइड् से उडाकर ..खोखला ढाँचा बनाकर स्थानीय जनता व पर्यटकों को लुभाने का खेल था... सडकें बनाने के खेल की भ्रष्टाचार की पोल तो, चंद घंटो मे ही खुल गई.. और 24 घंटो के भीतर.. विकास का ढोल फटने की पोल भी खुल गई... प्राकृतिक आपदा के बाद अब इनके नेताओ लिए, एक भ्रष्टाचार का जादुई पिटारा खुल गया है.. आपदा की सहायता की रकम मे अभी से ही बन्दर बाँट की लडाई चल रही है... अभी देखो.. आगे-आगे यह भ्रष्टाचार कितना भंयकर रूप लेता है... ??? उत्तराखंड वासियो व समस्त देश्वासिओ... अभी भी जागो .. हमारे नेता डुय्प लर (अंग्रेजी शब्द-धोका) राडार है....????. इन्हे सब पता होता है कि चुनावी मौसम मे जनता को धोखा कैसे दिया जाता है..