Wednesday, 24 July 2013



किराये का घर, किराए की कोख, किराए से भारत निर्माण... भ्रष्टाचार के मुस्टंडो अब भी, गरीब जनता को मारो डंडे...??? , आज इंडियन लोग किराए से हर चीज खरीदकर अपना सेहत सुधार रहे है/ figure बना रहे है ....??, जगदीश राठी, तुम तो महान हो…??? आज के महान गांधी की तुम तो... आधुनिक काठी हो, देश की लाठी हो..., देश इसी काठी के सहारे, रेंग-रेंग कर चल रहा है...?? घबराने की बात नही है… आप साबूत छूट जाओगे, तुम्हारा भविष्य अभी भी उज्ज्वल है... आगे भी कमाने का भरापूर अवसर है ...?????
सीमा पर जान गवाने (ह्त्या) वाले जवानों व किसान आत्महत्या (कृषी घोटाला) करने वालो के ताबूत घोटाले मे आज तक किसी को भी सजा नही हुई है...? किसी भी सरकारी जमाई / नेता को उनके बारे मे सोचने का भी समय नही है... मेरे देश का सरकारी दामाद बन रहा है, भ्रष्टाचार से, पहलवान बनकर, महान ....?? तभी तो हो रहा है ना ... किराये के विदेशी पैसे से, भारत निर्माण...???? 

Saturday, 20 July 2013




...मेरे मित्र श्री मानवेद्र सिग का लेख पढे.. इस लेख का सार है....??? अमीर का बच्चा पिजा व फास्ट फूड से ... भ्रष्टाचार के दौड मे तेजी से दौड रहा है... जबकि गरीब का बच्चा , सरकारी राजनैतिक आतंकवादियो की खिचडी खा कर ... भ्रष्टाचार से अपना बलिदान कर रहा है... मुआवजे की घोषणा तो देश्वासियो को चुप कराने के लिए होती है.... भुखे नंगो का हिन्दुस्तान, पेट भरो का भार-रत ... भारत... और इंडिया शाईनीग का है इंडिया.. संविधान है मेरे हाथ ... तो आम गरीब आदमी की मौत है... मेरे लिए सौगात 

Friday, 19 July 2013







जागो देश्वासियो.... डूबते देश व मासूम बच्चो की प्रतिभाए इन राजनैतिक आतंकवादियो के हाथों मे जाने से बचाओ.... 
आज की दो बडी खबर है...नई मुंबई मे लगभग 800 टन, दाल .. सरकारी व निजी मुनाफाखोरो की आपसी लडाई मे, गोदामों मे सड रहा है.... ताकि कृत्रिम तेजी कर, दाल का भाव 100 रूपये के पार पहुँचाया जाए...क्या आप, इन गोदामो मे सडी दाल, खा कर , अपने आप को कोसते रहेंगें... दूसरी खबर मिड मिल की (दोपहर का भोजन) , जो, इस्कोन, देशभर मे दो लाख 75 हजार बच्चो को पोषक भोजन दे रही , बिना किसी मुनाफे से.. आज तक कोई भी बच्चा बीमार नही हुआ है.... लेकिन वोट बैक के तुष्टीकरण की नीती से... फतवे जारी होने...व राजनैतिक आतंकवादियो को मुनाफा न मिलने की वजह से .. इस्काँन का प्रवेश आगे वर्जित कर मर्यादित कर रखा है...
याद रहे अभी 2 दिन पहिले ही....बिहार मे 35 से ज्यादा बच्चे मरे व तमिलनाडु मे 100 बच्चे बीमारे का... राजनैतिक आतंकवादियो के शिकार बने.... जागो देश्वासियो.... डूबते देश व मासूम बच्चो की प्रतिभाए इन राजनैतिक आतंकवादियो के हाथों मे जाने से बचाओ.

Wednesday, 17 July 2013






क्या आप मीडियाओ के.. कौन भारत चुसियाओ से अपना मनोरंजन, कर....????, केबल टी.वी. वालो को प्रतिमाह 150 से हजार रूपये देकर अपना समय बरबाद कर, प्रतिमा (पुतले) की तरह देख कर ,अपना जीवन प्रतिमाओ की तरह बनाना चाहते है.. या राष्ट्रवादी विचारधाओ से ज़ुडना चाहते हो...ताकि हम दुनिया मे सर्वश्रेष्ट से भी 100 गुना श्रेष्ट बने..?? तो, पढे,, यह आलेख.. 1985 की बात है छिदवाडा से 50 कि,मी, दूर एक ढाबे मे, भोजन के बाद हम दस बारह मित्र , आपस मे बात कर रहे थे , इतने मे एक मित्र जो सामने के डाक घर से अपने परिवार के हाल जानने के , बम्बई फोन कर वापस लौटा तो, उसने कहा .. बम्बई के मित्रो, आपके लिए खुशखबरी लाया हूँ... कल से बम्बई मे दूरदर्शन के मेट्रो चैनल प्रयोगात्मक रूप से एक घंटे के लिए चालू हो गया है... हमसे एक मित्र ने उसे टोकते हुए कहा, अब लोगो के समय की बरबादी का खेल शुरू हो गया है.. लोग टी.वी. से चिपके रहेगे, सब मित्रो ने उसका उपहास उडाया.. लेकिन मैने उसका समर्थन करते हुए कहा.. यह मित्र सही है. आज एक परिवार, साल भर मे केबल टी.वी.से प्रति साल 1500 से 12हजार रूपये बरबाद कर, 90% फूहड कार्यक्रम देखकर , अपना समय, धन देकर, बरबाद करता है..???, उदाहरण है..एक धारावाहिक ..क्योकि? सास भी कभी बहू थी , इस कार्यक्रम की महिलाए इतनी दिवानी हो गई .. कि माँ भी बच्चो को दूध पिलाना भूल जाती थी..बडे बच्चो को को माँ कहती थी... बेटा, यह धारावाहिक खत्म होने के बाद ही तुम्हारे लिए खाना बनाऊगी..यह धारावाहिक, इतना लम्बा चला कि बहू, सास बन गई..?? और सास, नानी , दादी बनकर, उनकी कद्र कम होने से , उनके चिल्लम चिल्ली से धारावाहिक की टी.आर.पी कम हो जाने की वजह से यह धारावाहिक बन्द करना पडा, आईए जनिये कुछ और सच्चाई..???
1.इसी तरह से कौन बनगा करोड्पति धारावाहिक से, करोडो रूपये की कमाई तो मोबाईल फोन के काँल से ही, हो जाती है...बाकी लूट.., विज्ञापनो से कमाई जाती है.. समय व्यतित करने के लिए, प्रतियोगी का घर का पता..शौक... इत्यादि पूछने के बाद पूरे एक घंटे के धारावाहिक मे मुश्किल से 25 सवाल पूछे जाते है...? सवाल गलत होने पर कहा जाता है ,,लाँक किया ..एक बार वापस सोच लो...का संकेत देकर कही धारावाहिक की गरीमा खत्म न हो जाए... घिसपिट कर 10 हजार से 10 लाख तक की रकम जीतने तक.. व कार्यक्रम को 1 घंटे तक खीचा जाता है.. यह धारावाहिक ब्रिटेन मे चलने टी.वी. शो की नकल है, जहाँ प्रतियोगी को सवाल के जवाब मे सिर्फ,, 1 मिनट का समय मिलता है...इसी की देखा देखी मे गोविन्दा ने छप्पर फाड के.. व शाहरूख खान के क्या आप पाचवी पास से तेज है... भी प्रायोजित हो चुके है...? और इसके निदेशक प्यार मे पाँचवी क्लास मे फेल होने से...उनके शरीर के सौ से ज्यादा टुकडे कर देने से, यह धारावाहिक बन्द हो गया..
2. पहचान कौन..??? इसकी लूट की शुरूवात, सबसे पहले.. इंडिया टी,वी, ने की दो प्रसिद्ध चेहरो को मिलाकर .. एक चेहरे बनाकर .. पहचानने होते है.... पहचान, ये दो चेहरे कौन..??? इस पर 50 हजार का इनाम रख कर, दर्शकों को उकसाया जाता है, जनता,जब लालच मे आकर 6 अंको का नम्बर दबाती है... तो सामन से जवाब आता है..??? , आप {लूटने की} कतार मे हो..जब उनका मोबाईल का बैलेस खत्म हो जाता है.. तो उन्हे आश्चर्य होता है कि मेरे 100-400 रूपये कैसे लूट गये है...क्योकि इसकी काँल रेट 10 रूपय् /मिनट है..असली सच्चाई तो यह है कि कार्यक्रम पहने से बनाकर , मीडिया के लूटेरे जानबूझकर गलत जवाब देकर..अंत मे कार्यक्रम समाप्त होने से कुछ मिनट पहले सही जवाब देकर,रकम आपस मे बाँट लेते है.. दूरसंचार विभाग भी इस लूट की कमाई मे अपना हिस्सा गड्प लेता है..
2 वही.., रात को 12 बजे के बाद जवानो के जोश के लिए पलंग तोड गोली का विज्ञापने आता है, इस विज्ञापन के झाँसे मे आज तक किसी की पलंग तो नही टूटी है...लकिन..हाँ जरूर.. लोगो के पलंग के साथ घर बार भी बिक गया है...
3.एक है...?? मुनीरखान जो टी.वी.मे विज्ञापन जगत का भेडिया खान साबित हुआ..जो दुनिया की हर नालाज बीमारी को , 100 ग्राम शहद् के शीशी को 16 हजार रूपये मे बेचकर कर निदान का दाँवा करता था.. टी.वी. की पूर्व प्रसिद्ध आयोजिका तब्बसुम , अपनी जीविका को चमकाने के लिए. गिरगिट की तरह अपना चेहरा व आँखो की पुतलीओ को नये-नये ढंग से बदल कर कहती थी, नास्त्रोदामस की भविष्यवाणि आज सार्थक हुई है जिन्होने कहा था- दुनिया मे एक ऐसा व्यक्ति, चिकिस्ता जगत मे पैदा होगा ..एक साधारण व्यक्ति, कम पढा, जो न डाँक्टर होगा, लेकिन वैज्ञानिक बनेगा.. और चिकिस्ता जगत मे दुनिया को हर बीमारी से मुक्ति से क्रांति ला देगा... और उसकी तुलना भेडिया खान से कर कहती ..इस दुनिया मे यह वही वैज्ञानिक है.. जो पहले गैरेज मे, मेकेनिक से, कम्पाउंडर बन कर है.. जो धरती पर चमत्कारित व्यक्ति है जो ये दवा ले आए है...?? याद रहे 2002 मे इनके पास से आबकारी विभाग को भेडिया खान से 50करोड से भी ज्यादा की सम्पत्ती बरामद की थी , बाद मे मामला रफा दफा कर दिया गया..??? 2010 मे इनकी आय 1करोड रूपये प्रति घंटा होने से, हर वाहिनी पर उनका 30 मिनट का विज्ञापन आता था,, सभी वाहिनियो का खर्च तो उनके विज्ञापन से वसूल हो जाता था..और टी.आर.पी से आय तो उनके लिए एक अतिरिक्त बोनस था.. लाखो घरो के उजडने के बाद , पुलिस छापे मे , उनके घर व दुकान मे करोडो रूपये बरामद हुए, मुनीर खान तो लापता हो गये.. 3 महिने बाद 13 मई 2010 मे, पुलिस द्वारा पकडे जाने पर , पुलिस पर रिश्वत लेने का आरोप लगाने लगे...जेल जाते समय अपने बेटो को फोन करते हुए कहा ,, बेटे.. मेरे सर मे दर्द हो रहा है..तुम क्रोसिन (दर्द निवारक दवा) ले आना...
वही तब्बसुम टो.वी पर घडयाली आँसू बहाकार, अपना छुडाने के लिए , अदालत मे याचिका दायर कर कह रही थी..?? यह इतना बडा भेडिया था ..इसमे लाखो लोगो की जिंदगी उजाडी है.. इसकी मुझे भनक तक नही लगी... और इसकी जालसाजी से... मुझे विज्ञापन का मेहताना भी नही मिला..?? आज मुनीर खान जेल से आजाद हो गये है...?? फिर से एक नया खेल होगा... दोस्तो मेरे वेब्स्थल का स्लोगन है... मेरा सविधान महान ... क्योकि यहाँ हर माफिया पहलवान..विस्तात से पढे..मेरे वेबस्थल मे. कैलाश तिवारी...meradeshdoooba.com से
 — with Midhun DBVinu UtekarPushkar Ranjan and 39 others.

Tuesday, 16 July 2013

\





आज दोपहर को बिहार मे दो आतंकवादी घटना...एक सरकारी आतंकवाद, शिक्षा के मंदिर मे की मिड डे मिल मे , 2 बच्चो की मौत.. अब आकाँडा 6 पहुँचा... और दूसरी सरकारी परिसर मे... 2 बम धमाके... राष्टीय धमाका... रोक सके तो रोको की आवाज से..
बोधगया मे तमाम धमाको के बाद , मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ-साफ कहा था... आगे धमाका नही होगा ...इसकी कोई गारंटी नही है... लेकिन आगे होगा इसकी गारंटी जरूर है


  • Sunil Kumar Jitne bhartachar netA h unko ek ek karke mar do fir dekho nhi hoga jara socho ajtk koe neta ke ghr pr hamla kyo nhi hota
  • Umesh Joshi Omi Bped कहीं बम धमाका होता है, तो उसमें गरीब ही मारा जाता है।
    अब छपरा में मिड-डे के भोजन से बच्चों की मौत हो गई है, ये भी गरीबों के ही बच्चे होंगे, क्योंकि अमीरों के बच्चे तो convent स्कूलों में पढ़ रहे होंगे!
    देश में महंगाई बढ़ती है, तो गरीब मारा जाता है, ब
    म धमाके होते हैं, तो गरीब मारा जाता है, स्कूलों में सड़ा-गला अनाज खाने से गरीब मारा जाता है!

  • जिन्दा रहने का हक तो अमीरों का है, गरीब तो पैदा ही मरने के लिए होता है। कभी अमीरों के पैरों तले रौंदा जाता है, तो कभी महंगाई, भूख, धमाकों और दूषित खाने से मारा जाता है। 
    इस देश में गरीब को चैन से जीने का हक नहीं है, वो तो सिर्फ मरने के लिए पैदा हुआ है।
  • Deshdoooba Community जागो देश्वासियो हमारे टैक्स के पैसे से ये... सत्ताखोर, देश मे मातम फैला रहे है...
  • Umesh Joshi Omi Bped देश में भले ही मातम मनाया जाए, पर इनके लिए तो हर एक रात जश्न की रात ही होती है।




Deshdoooba Community जागो देश्वासियो हमारे टैक्स के पैसे से ये... सत्ताखोर, देश मे मातम फैला रहे है... कैलाश तिवारी... meradeshdoooba.com से





Monday, 15 July 2013


Deshdoooba Community मेरी प्रतिज्ञा:
देश के भेडियें, देशप्रेमी का चोला पहनकर देश को लूट कर आदमखोर बन गये हैं,, जिस दिन देश का भ्रष्टाचार खत्म होगा. तो मैं, देशद्रोही का चोला फेंककर देश का पहिला देशप्रेमी बनूँगा ….
मै इन देशप्रेमीयों का गुलाम नही रहना चाहता हूँ.. इसलिए, म
ैं बेबाक हूँ.. और बेबाक रहूँगा....

मेरे वेबस्थल का नाम मेरा देश डूबा, काँम , रखने के पहले मैने मेरे दिल के टिस (दर्द) को दबाते हुए कहा, मै दिल के दर्द को सहन कर सकता हु , लेकिन देश के दर्द को नही...???.

Saturday, 13 July 2013



एक लडकी जो खोल दे ... इस्लामिक जगत के कट्टर पंथियो की आँखो की पट्टी ... जब हो अन्याय से लडने का जज्बा , तब गोली भी सलाम करती है... जय..जय.. मलाला.... तुम्ही ... तुम तो हो..... लडकियो की ममता की माला हो ... एक मिसाल , बेमिसाल,, कभी न बुझने वाली मसाल हो.. सभी बखान फीके है.... 
शिक्षा, ज्ञान है... आँखो के साथ, देश की भी शान है... 

Friday, 12 July 2013



दोस्तो, बापू को.. भारत निर्माण की भनक लग चुकी है... गाँधी को महात्मा बनाकर,, आज भी उनको 66 सालो से भटकती आत्मा बनाकर, देशी बापू को तो, स्वदेशीकरण को विकासीकरण से विलासीकरण के नाम से विदेशे बैकों मे कैद कर रखा है...???? वे अब... बापू , जागकर... देश के रूपये को सठिययाने वाले... असली पुतले को लताड रहे है... 
उत्तराखंड का विकास तो बह गया है... भ्रष्टाचार की सुनामी से... जागो,... देश्वाशियो..., डूबते देश के साथ-साथ, बापू को भी विदेशी बैकों से भी मुक्त करा कर देश को बचाओ...

Thursday, 11 July 2013


सुप्रीम कोर्ट को बधाई.... नेतागीरीओ के कुकर्मो पर हंटर चलाने के लिये....राजनैतिक अपराधी पंटरों का सूपडा साफ करने का .. 
काश यह भी बेहतर होता कि उंनके परिवार वालो को भी चुनाव लडने से अयोग्य घोषित किया जाता...??? ताकि आज, जो वंशवाद.... देश के लिए, दंशवाद साबित हुआ है... इससे देश्वासिओ को मुक्ति मिलती..????
दूसरा पहलू .. यह भी नही देखा कि आय से ज्यादा सम्पति का भी प्रावधान रखा होता तो.....???? 90% से ज्यादा सत्तासाही, शाही जीवन से ऐश कर.. जो अपने को संविधान का रक्षक कहती है ... ऐसे , देश के कचरे की सफाई होकर... जनता भी, इनके सांसत से राहत की सास लेती..


सुप्रीम कोर्ट को बधाई.... नेतागीरीओ के कुकर्मो पर हंटर चलाने के लिये....राजनैतिक अपराधी पंटरों का सूपडा साफ करने का .. 
काश यह भी बेहतर होता कि उंनके परिवार वालो को भी चुनाव लडने से अयोग्य घोषित किया जाता...??? ताकि आज, जो वंशवाद.... देश के लिए, दंशवाद साबित हुआ है... इससे देश्वासिओ को मुक्ति मिलती..????
दूसरा पहलू .. यह भी नही देखा कि आय से ज्यादा सम्पति का भी प्रावधान रखा होता तो.....???? 90% से ज्यादा सत्तासाही, शाही जीवन से ऐश कर.. जो अपने को संविधान का रक्षक कहती है ... ऐसे , देश के कचरे की सफाई होकर... जनता भी, इनके सांसत से राहत की सास लेती..

सुप्रीम कोर्ट को बधाई.... नेतागीरीओ के कुकर्मो पर हंटर चलाने के लिये....राजनैतिक अपराधी पंटरों का सूपडा साफ करने का .. 
काश यह भी बेहतर होता कि उंनके परिवार वालो को भी चुनाव लडने से अयोग्य घोषित किया जाता...??? ताकि आज, जो वंशवाद.... देश के लिए, दंशवाद साबित हुआ है... इससे देश्वासिओ को मुक्ति मिलती..????
दूसरा पहलू .. यह भी नही देखा कि आय से ज्यादा सम्पति का भी प्रावधान रखा होता तो.....???? 90% से ज्यादा सत्तासाही, शाही जीवन से ऐश कर.. जो अपने को संविधान का रक्षक कहती है ... ऐसे , देश के कचरे की सफाई होकर... जनता भी, इनके सांसत से राहत की सास लेती...

दिग्विजयजी आप ट्विट कर काँग्रेस का टट्टू बनकर, कही काँग्रेस को ही, अपनी पीठ से न गिरा दो... मध्य प्रदेश से सबक ले कर, केन्द्र मे अपनी पार्टी का चना खाने से ज्यादा मत उछलो... बेतुका बयान, ओसामाजी.. भगवा आतंकवाद..इशरत जहान को काँग्रेस का जहान बनाकर, बौद्ध गया मे विपक्ष के पार्टी के बयान से धमाका, कहकर, अब आपके ही बयान से मध्य प्रदेश मे काँग्रेस पार्टी मे धमाके से, चीथडे उडने शुरू हो रहे है.. देश की काँग्रेस पार्टी के चीथडे उडने से अब, तुम्हारे, दुम दबाकर भागने मै ही आपकी भलाई कम व काग्रेस पार्टी की ज्यादा है...पार्टी डूबानी है तो अपने बयानो की जमकर उछलबाजी करो. अपनी डिग डिगी बजाकर .. यह नारा.. सार्थक न हो जाए... हम तो डूबे सनम .. अपनी पार्टी को भी ले डूबेंगे... 



मध्यप्रदेश विधानसभा में प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस द्वारा बीजेपी की शिवराज सरकार के खिलाफ पेश अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा शुरू होने से पहले सदन में विपक्ष के उप नेता चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी ने अपने दल द्वारा पेश अविश्वास प्रस्ताव पर ही अविश्वास प्रकट कर सबको चौंका दिया.
चतुर्वेदी के कहने पर सत्ता पक्ष ने तर्क दिया कि जब विपक्ष के उप नेता को ही अपने दल द्वारा पेश अविश्वास प्रस्ताव पर विश्वास नहीं है, तो यह प्रस्ताव अपने आप शून्य हो गया है. इस पर हुए शोर-शराबे की वजह से अध्यक्ष ईश्वरदास रोहाणी ने सदन की कार्यवाही पहले आधा घंटा और फिर संसदीय कार्य मंत्री डा. नरोत्तम मिश्र के प्रस्ताव पर ‘अनिश्चितकाल के लिए स्थगित’ कर दी.

इससे पूर्व अध्यक्ष रोहाणी ने जैसे ही विपक्ष के नेता अजय सिंह 'राहुल' को अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा शुरू करने के लिए पुकारा, विपक्ष के उप नेता चतुर्वेदी खड़े हो गए और उन्होंने कहा कि इस अविश्वास प्रस्ताव में कुछ बिन्दु ऐसे हैं, जिसका वह विरोध करते हैं. उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव में उत्तराखण्ड की प्राकृतिक आपदा में लापता प्रदेश के उन 721 तीर्थ यात्रियों के बारे में कुछ नहीं कहा गया है. इस बारे में लोगों का कहना है आपदा में अपने प्रदेश के लोगों की सुध लेने के लिए विपक्ष के नेता अजय एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सांसद कांतिलाल भूरिया वहां नहीं गए.

विपक्ष के उप नेता ने कहा कि प्रस्ताव में वित्त मंत्री पद पर रहते हुए राघवजी द्वारा किए गए दुराचरण का भी जिक्र नहीं है. उन्होंने कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का नाम लिए बिना कहा कि यह कहना कि 'बच्चा-बच्चा राम का, राघवजी के काम का', पर उन्हें घोर आपत्ति है तथा यह देश के अस्सी प्रतिशत हिन्दुओं का अपमान है. हर हिन्दू अपने को भगवान राम का बच्चा मानता है और ऐसा कहकर रामपुत्र लव-कुश ही नहीं, सारे हिन्दुओं को वोट की राजनीति के लिए अपमानित किया गया है.

चतुर्वेदी ने कहा कि यह अविश्वास प्रस्ताव, कांग्रेस पक्ष ने पूरे मन से नहीं लाया है. वह तीन दिन से दल में इन विषयों को शामिल करने पर जोर दे रहे हैं, लेकिन उस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया. इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि चतुर्वेदी ने सच्चाई बताकर अपना 'राजनीतिक कैरियर' दांव पर लगाया है.

काँग्रेस को डुबाने के लिए किसी दिग्गी की जरूरत नहीं है, वो खुद ही डूबने वाली है। आने दो 2014....!! तब पता चलेगा काँग्रेस को कि उसके जहाज में कितना बड़ा छेद है। सरकार चाहे किसी की भी बने पर इस सरकार का तो ये लगभग अन्तिम पड़ाव लग रहा है।साथियो! इस विषय पर आप की क्या राय है? कृपया व्यक्त जरूर कीजिएगा।

Wednesday, 10 July 2013



मुन्ना जी...रूपया सठिया गया है... इसको थामने के लिए आपके पास क्या उपाय है..?? 

Monday, 8 July 2013




हम हो रहे बरबाद हर दिन..भारत निर्माण के नारो से.. यह भारत निर्माण नही... देश मे माफिया (माफ+किया) निर्माण है....?
आम आदमी के हाथ काटने के बाद हो रहा है.. भारत निर्माण, इस नारे के आड मे डाँलर की नई-नई उँचाई का हो रहा है.. निर्माण??

इसके आड मे अलगाववाद , भाषावाद धर्मवाद, घुसपैठ की आड मे देश का वोट बैक बनाकर.. गरीबी की बीमारी , महामारी मे तब्दील हो रही है.. 
याद रहे 1947 मे सत्ता परिवर्तन के बाद के बाद, हमारे बापू ने पापू बनकर 55 हजार करोड पाकिस्तान को नही दिए होते तो .. रूपया और मजबूत होता... 1947-1970 तक..हमे लगभग शून्य के बराबर, विदेशी मे रोजगार करने वालो से विदेशी मुद्रा प्राप्त होती थी .. वही आज देश मे विदेशी भारतीयो के रोजगार से अरबों डाँलर नही मिलते तो हमारा रूपया 100 के पार चला गया होता..
सता परिवर्तन के बाद देश की जंनसंख्या से 3 गुना दुधारू पशु थे... आज हमारी सरकार विदेशी मुद्रा कमाने के लालच मे, देश के कत्लखाने को आर्थिक सहायता कर कत्लखाने उध्धोगो को बढावा दे रही है .. काश हम इन दुधारू पशु का समुचित उपयोग कर... देश के जवानो को हम और बलवान बनाते वही हाल, हम अपने अपने खान, खदाने चीन को बेच रहे है ..वही, चीन उससे दुगना निर्यात कर हमे लघु व गृह उध्धोगो कसे आधारित, सामान सस्ती दरो मे बेच कर हमारे मजदूरो के हाथ तो काट ही काट रहा है.. साथ-साथ ही हमारी मुद्रा को भी डकार कर हमे धमका रहा है..बेहतर होता (अभी भी समय है..) इन खदानो से हम कल कारखाने बनाकर, हम रोजगार व आधुनिक वैज्ञानिक से अस्त्रो का निर्माण कर देश मे खुशहाली पैदा करते...दुनिया मे अपनी धाक जमाते.. देश दो चीजो से दिन पर दिन पिछड रहा है.. प्रतिभाओ को,मार पड रही है, सरकार के आरक्षण से व देश की जनता को विदेशीयो की बैसाखी से मार पड रही है..
हमारे प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू, जिनका जीवन अय्याशी से भरा था,जो अपने को कहते थे.. मै इस देश का अंतिम अंग्रेज प्रधानमंत्री हूँ? और उन्होने देश को, ये झूठा नारा दिया “आराम हराम है”
जिनका दिन का खर्च 25हजार रूपये था , राम मनोहर लोहिया ने कहा देश की जनता,की आय रोज 2 आना (12 पैसे)..और प्रधानमंत्री का रोज के खर्च से देश का 25 हजार रूपये गँवाना कमाती? और उन्होने देश को, एक झूठा नारा दिया “आराम हराम है”
देश के सच्चे सपूत प्रधानमत्री -लाल बहादुर शास्त्री, जो महिने के 300 रूपये वेतन से अपना गुजारा करते थे.. जिन्होने नेहरू की 17 साल , कहे.. देश की गन्दगी साफ कर दी थी ,जब देश.. विदेशी जकडन मे बँधा था, देश मे अन्न व धन नेहरू की अय्यासी से खत्म हो गया था.. विदेशी सहायता के मुद्दे पर , काँग्रेसियो की माँग का विरोध करते हुए.. शास्त्री ने संसद मे कहा.. हम 200 साल बाद फिरंगीयों के मकड्जाल से निकले है.. अब दुबारा फिरंगीयों के आगे हाथ फैलाने का प्रश्न की नही उठता है.. जय जवान..जय किसान के नारो को सार्थक कर, देश मे एक नयी जान फूँककर , पाकिस्तान को धूल चटा दी... उसके बाद फिल्म अभिनेता को एक दिन, अपने किराये के घर मे चाय पिलाने के आमंत्रण मे कहा.. मनोज साहब, मेरी काया न तो जवान जैसी है, न किसान जैसी है.. आप एक ऐसी फिल्म बनाओ, जिससे देश के जवानो व किसानो का जज्बा दुगना हो जाए,
मनोज कुमार को भी जोश आ गया..?? उन्होने.. 24 घंटे मे दिल्ली से बंबई आते समय ट्रेन मे उपकार फिल्म का पूरे संवाद लिख दिए..??,
तब लाल बहादुर शास्त्री की जहर देने से संदेहास्मक मौत होने के बाद, मनोज कुमार ने रोते हुए कहा... जो देश का नौजवान (शास्त्री) था , वह मेरी फिल्म नही देख पाया..इससे बडा दुख कोई मेरे लिए कोई नही है..
इंदिरा गाँधी के गरीबी हटाओ के अफीमी नारो से जब जनता त्रस्त हुई तो , जयप्रकाश नारायण के शंखनाद से इंदिरा गाँधी को हटना पडा.. राजीव गाँधी के -मेरा भारत महान- के नारो से, नेताओ के बेईमान बनाने के बाद मे वे,कहने लगे, देश के योजनाओ का धन, 1 रूपये मे सिर्फ 15 पैसा जनता तक पहुँचता है..और देश का खजाना खाली होने से.. 1991 मे देश मे फिरंगियो को अपना तंबू बाँधने के लिए बुलाया गया..और हमारे रूपये का मूल्य 20% गिराकर, उन्हे प्रोत्साहित किया गया.. आज वही राहुल गाँधी माफियाओ द्वारा देश का धन लूट्ने के बाद कहते है, 1 रूपये मे सिर्फ 5 पैसा जनता तक पहुँचता है
हाल ही मे सुप्रीम कोर्ट ने माथे पर हाथ हुए कहा ... अब इस देश को कौन बचायेगा देश के योजनाओ के धन का 1 रूपये मे सिर्फ एक पैसा जनता तक पहुँचता है
इंडिया शाईनिग के नारो से तो भारतीय जनता पार्टी से तो नेताओ की चमक गायब हो कर मुरझाए चेहरे से, प्रधानमंत्री कतार मे है..का नारा दिया , और आज तक कतार मे खडे रहने के लिए योद्धाओ की लडाई जारी है
बडे दु:ख के साथ लिखना पड रहा है कि, देश के वंशवाद जो देश के लिए दंशवाद ही सिध्ह हुए है.. उन्हे. महाविभूति से महामंडित कर आज देश मे सैकडो नगर , हजारो सडके व सस्थान व नाम से योजनाओ का शिलान्यास किया है...इसकी आड मे घोटाले का खेल खेला जा रहा है.. और एक फकीर प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को पर्दे मे रखकर ,उनकी किर्ती को भुला दिया गया है..