Thursday, 16 May 2013



साल का 250 करोड से कही ज्यादा कमाने वाला.. आतंकवादियो के साथ मस्ती की पाठशाला मे अव्वल आने के रेस मे , सफेद कोर्ट यो कहें, सुप्रीमकोर्ट मे बारम्बार अपील कर अपनी सजा कम कर , देश्द्रोही के आरोप से तो मुक्त हो गए, बेटा जैसे दिन तो 24 घंटों की होती है, , तुझे दिन मे धूप से अधिक छाँव मिली... उसी की छाँव मे अन्य कैदियो ने भी राहत ली, यदि कोई साधारण कैदी तुम्हारे जगह होता तो , उसे थर्ड डिग्री से भी ज्यादा पीट दिया जता था...??? आज साध्वी प्रज्ञा , सरकार के हिन्दु आतंकवाद के हौवे से मरणासन्न स्तिथी मै है, और तूम मुस्लिम आतंकवाद से कोर्ट को गच्चा देते रहा, और सजा भी कम हुई और मीडिया व राजनैतिक पडितों ने भी तेरे पीछे जोर लगा दिया था..??? कोई बात नही , अभी भी तुझे नही कोई गम , मुबंई विस्फोटको के परिवारों की अभी भी है आँखे नम....??? - –