Wednesday, 3 April 2013



हमे अलगाववाद, भाषावाद, जातिवाद का हिन्दुस्थान नही,चाहिए?

हमे 24 घटे, 24 मुठ्ठी बल का राष्ट्रवादी हिन्दुस्तान चाहिए... 

राष्ट्रवाद की सरल परिभाषा:

1. पहले मेरा देश खुशहाल रहे

2 फिर मेरा शहर व मुहल्ला खुशहाल रहे

3. मेरा पडोसी खुशहाल रहे

4. मेरा परिवार व मै खुशहाल रहूँ

1.राष्ट्रवाद का सरल समीकरण है:

दुनिया को 0 का आविष्कार हमने दिया है यही राष्ट्रवाद का समीकरण है

जातिवाद, भषावाद, अलगाववाद, क्षेत्रवाद, आतन्कवादx 0 = राष्ट्रवाद

यदि हन 5 साल राष्ट्रवाद के धारा से जुडे तो हुम पचास साल आगे बढेगे

ऍक़ 47 x 5 = 235 गुना हमे आतन्कवाद व दुशमनो से लडने के क्षमता बढेगी

2 राष्ट्रवाद का दूसरा समीकरण है:

समय हानि+धन हानि +प्राण हानि= राष्ट हानि

यदि इन दोनो धाराओ से राष्ट्रवाद का अध्यन देश के विकास से देखेगे तो पता चलता है कि , हम विदेशो से कर्ज लेकर , उसे भ्रस्टाचार का तडका लगाकर , विकास के नाम पर देश कर्ज के गर्त मे डूबता जा रहा है, आज देश 2लाख करोड से ज्यादा रूपये तो ब्याज के रूप मे दे रहा है ,