Tuesday, 30 April 2013



धरती लुटी, जल लुटा, पाताल लुटा, और लुटा आकाश.... अब और मत बनाओ, आम हिन्दुस्थानियों को जिंदा लाश.....
बाबूजी यहाँ सब कुछ बिकता है, लेकिन लूट मे तो हर माल मुफ्त मिलता है ...

अब आम आदमीयों पर लगाओ, टैक्स , और भोगों सत्ता का सेक्स ( लूट और शोषण से अय्याशी का जलवा)


क्या यह मेरा देश लुटा.... या मेरा देश डूबा 

Monday, 29 April 2013



नरेन्द्र मोदीजी अपनी एक राष्ट्रवादी पार्टी बनाओ, क्योंकि आपकी पार्टी मे बहुत सारे केकडा राम है..??, जो आपके पाँव खीचकर, आपको गिराने की कोशिश करेंगे...??? 

बाबू जी...??? इनके साथ सँभलकर चलना...??????, राह मे बडे धोखे है...??????, 
सत्ता के इंतजार के भावी प्रधानमंत्री लालकृष्ण अडवानी (WAITING LIST- PRIME MINISTER) के पीछे-पीछे स्वराज ऐक्सप्रेस, राजनाथ, जेटली, जोशी, शिवराज ऐक्सप्रेस व छोटी- मोटी माल गाडिया भी है, जिनकी आपस मे और आपसे भी टक्कर होने वाली है...????????

आपातकाल से बदनाम इंदिरा गाँधी, जो लगभग जीरो (शून्य) होकर, भी, काँग्रेस (आई) बनाकर प्रधानमंत्री बनी,लेकिन आप तो विकास के मसीहा हो... तो क्यो नही,स्वय की पार्टी बना कर छद्म धर्मनिरपेक्ष वालो को सबक सिका सकते हो ...???

कहते है सत्ता राम के बाद लक्ष्मण को मिलती है, लक्ष्मण (प्रमोद महाजन) के अंधविश्वास से राम (अटलबिहारी वाजपेयी) ने, चुनाव समय से पहले करा दिया, था, देश के धन की खुराक से सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी को इंडिया चमक रहा (INDIA IS SHINNING) का अहसाह दिख रहा रहा था, और लाल कृष्ण अडवानी को एक विदेश यात्रा मे एक जगह अच्छा लग रहा है (FEEL GOOD FACTOR) का बैनर दिखा तो उंन्होने इसे पार्टी का राष्टीय नारा बना दिया . इसी सत्ता की उतावली मे भारतीय जनता पार्टी की पाँवों के नीचे से जमीन कब खिसक गयी उसे भी पता नही चला...??? अब आइ यू.पी.ए-2 , के चुनाव की बारी के समय , तो लालकृष्ण अडवानी ,ने ताल ठोककर अपने को सत्ता के इंतजार का स्वंयभू भावी प्रधानमंत्री घोषीत किया...??? , कहते है..??? जो मजा इंतजार मे है वह प्यार मे नही, और अब प्रश्न यह है कि , कब तक वो सत्ता के प्यार मे इंतजार करेगें...????

जब चौधरी चरण सिंग (R.A.C. –RESERVATION CANCELLATION) - वाले प्रधानमंत्री नही बन सके..???, तो अडवानी सत्ता के इंतजार का भावी प्रधानमंत्री (WAITING LIST PRIME MINISTER) कैसे बन सकते है..??? मनमोहन सिंग तो दूर की कौडी वाला प्रधानमंत्री था, लेकिन लोकतंत्र की एक विंडवना है कि यू.पी.ए.-1 मे, लोकसभा मे हारने वाले ...??? , यू कहे, बिना टिकट वाले मनमोहन सिंग को प्रधानमंत्री का टिकट मिल गया., यू.पी.ए.-2 मे भी पिछले दरवाजे से घुसकर (राज्यसभा के कोटे से) प्रधानमंत्री बन गये, हाँ जरूर ,इसके पहिले भी, देवगौडा व गुजराल जैसे प्रधानमंत्री, आपसी सत्ता के लडाई के योद्धा की लडाई का फायदा उठाकर पिछले दरवाजे से घुसकर प्रधानमंत्री बन गये. जिनके जीवन मे प्रधानमंत्री पद का असतित्व तो छोडो सपना भी नही था. 

नरेन्द्र मोदीजी अपनी एक राष्ट्रवादी पार्टी बनाओ, क्योंकि आपकी पार्टी मे बहुत सारे केकडा राम है..??, जो आपके पाँव खीचकर, आपको गिराने की कोशिश करेंगे...??? 
बाबू जी...??? इनके साथ सँभलकर चलना...??????, राह मे बडे धोखे है...??????, 
सत्ता के इंतजार के भावी प्रधानमंत्री लालकृष्ण अडवानी (WAITING LIST- PRIME MINISTER) के पीछे-पीछे स्वराज ऐक्सप्रेस, राजनाथ, जेटली, जोशी, शिवराज ऐक्सप्रेस व छोटी- मोटी माल गाडिया भी है, जिनकी आपस मे और आपसे भी टक्कर होने वाली है...????????

आपातकाल से बदनाम इंदिरा गाँधी, जो लगभग जीरो (शून्य) होकर, भी, काँग्रेस (आई) बनाकर प्रधानमंत्री बनी,लेकिन आप तो विकास के मसीहा हो... तो क्यो नही,स्वय की पार्टी बना कर छद्म धर्मनिरपेक्ष वालो को सबक सिका सकते हो ...???

कहते है सत्ता राम के बाद लक्ष्मण को मिलती है, लक्ष्मण (प्रमोद महाजन) के अंधविश्वास से राम (अटलबिहारी वाजपेयी) ने, चुनाव समय से पहले करा दिया, था, देश के धन की खुराक से सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी को इंडिया चमक रहा (INDIA IS SHINNING) का अहसाह दिख रहा रहा था, और लाल कृष्ण अडवानी को एक विदेश यात्रा मे एक जगह अच्छा लग रहा है (FEEL GOOD FACTOR) का बैनर दिखा तो उंन्होने इसे पार्टी का राष्टीय नारा बना दिया . इसी सत्ता की उतावली मे भारतीय जनता पार्टी की पाँवों के नीचे से जमीन कब खिसक गयी उसे भी पता नही चला...??? अब आइ यू.पी.ए-2 , के चुनाव की बारी के समय , तो लालकृष्ण अडवानी ,ने ताल ठोककर अपने को सत्ता के इंतजार का स्वंयभू भावी प्रधानमंत्री घोषीत किया...??? , कहते है..??? जो मजा इंतजार मे है वह प्यार मे नही, और अब प्रश्न यह है कि , कब तक वो सत्ता के प्यार मे इंतजार करेगें...???? 
जब चौधरी चरण सिंग (R.A.C. –RESERVATION CANCELLATION) - वाले प्रधानमंत्री नही बन सके..???, तो अडवानी सत्ता के इंतजार का भावी प्रधानमंत्री (WAITING LIST PRIME MINISTER) कैसे बन सकते है..??? मनमोहन सिंग तो दूर की कौडी वाला प्रधानमंत्री था, लेकिन लोकतंत्र की एक विंडवना है कि यू.पी.ए.-1 मे, लोकसभा मे हारने वाले ...??? , यू कहे, बिना टिकट वाले मनमोहन सिंग को प्रधानमंत्री का टिकट मिल गया., यू.पी.ए.-2 मे भी पिछले दरवाजे से घुसकर (राज्यसभा के कोटे से) प्रधानमंत्री बन गये, हाँ जरूर ,इसके पहिले भी, देवगौडा व गुजराल जैसे प्रधानमंत्री, आपसी सत्ता के लडाई के योद्धा की लडाई का फायदा उठाकर पिछले दरवाजे से घुसकर प्रधानमंत्री बन गये. जिनके जीवन मे प्रधानमंत्री पद का असतित्व तो छोडो सपना भी नही था. 


Friday, 26 April 2013



छोटे निवेशको की गाडी कमाई, जो, देश के 20 हजार करोड रूपये, को राजनेताओ की साँठ - गाँठ से , राजनैतिक चुनावी खिचडी पकाने मे काले धुँए मे उडा दिया है. अब बंगाल की जनता को ममता बनर्जी कहती है, अब खुब सिगरेट फूँक - फूँक कर, फेफडे खराब कर , टैक्स दो ...?? हमारी काली करतूतो को सफेद धुँए से ढको...? क्या यह आम जनता के लिए स्वस्थ भारत , या मेरा देश डूबा

Thursday, 25 April 2013



चीन DRAGON –इंडिया के लिये DARE-GUN और हम अपनी सीमाओं पर FEAR-GUN (डरते) क्यो है..? और दुनिया के लिये DRAG-ON, दुनिया को अपने कदमों मे झुकाओ...?
चीनी देश का कहना है
दुनिया... झुकती है ?....... झुकाने वाला चाहिये ................??
चीन हमसे दो साल बाद आजाद होने के बाद ,हमसे पाच गुना से ज्यादा आगे क्यो ?? --- 17 जनवरी की वेब स्थलmeradeshdoooba.com पर पढें

1.देशी भाषा, देशी विचार, देशी संस्कार, देशी हत्यार, देशी हाथ, देशी बात.
Wednesday, 16 December 2009 की खबर
विदेश मंत्नी एस एम कृष्णा ने आज लोकसभा में एक लिखित उत्तर में बताया कि पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर में 78 हजार वर्ग किमी. तथा चीन ने 38 हजार वर्ग किमी. भूभाग पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है.
पाकिस्तान ने चीन को बतौर उपहार 5180 वर्ग किमी. भूभाग सौंपा है, जो: मूलत भारतीय है.
याद हमारी चीन के हाथों, हमारी हार के बाद , तबके संसद सदस्यो ने कसम ली थी, हम भविष्य मे, चीन द्वारा हमारी हडपी हुई जमीन का एक-एक इंच हिस्सा लडकर लेगे.
आज भी कैलाश मानसरोवर की यात्रा के लिए 1962 के बाद, भी चीन से हमें अनुमति लेनी पडती है?,
तब जवाहरलाल नेहरू ने संसद मे बयान दिया कि, कोई बात नही, कोई हर्ज नही, वह बर्फीली जमीन थी, वहाँ कुछ भी उगता नही था, तब विपक्ष के एक संसद सदस्य महावीर त्यागी ने नेहरू को लताडते हुए कहा , ऐसे, तुम्हारा सर भी गंजा है, वहा भी, कुछ भी, उगता नही है, तो तुम भी अपना सर कटा कर चीन को क्यो नही देते दो?
अमेरिका द्वारा चीन के सामने घुटने टेकते हुए कहा तिब्बत चीन का अभिंन्न अंग है , इस जोश के बाद चीन की गिद्ध दृष्टि अब दुगनी हो गई है अब उसकी नजर लद्दाख, सिक्किम, कश्मीर,उत्तराखड, हिमाचल प्रदेश के साथ नेपाल, भूटान जैसे देशों पर है।
चीन के राजनीतिक दर्शनशास्त्र में सहअस्तित्व, भाईचारा, नैतिकता और अंतरराष्ट्रीय नियमावली के लिए कोई जगह नहीं है।

इंडिया..........हमारा देश, डरता है ,,,,,,, डराने वाला चाहिये? .........
आज हमारे सत्ताधारी घोटाले, आतंकवाद,जातिवाद,अलगाववाद, धर्मवाद के वोट बैक के झाँसे मे 2014 के चुनाव से राजनीती करके, भ्रष्टाचार को और अधिक सुन्दर रूप देने की बाट जोह रहे है, और हमारे सीमा पर जवानो को सीमाओं को पार करने की अनुमति नही है? क्योकि हम आधुनिक हत्यारो की कमी से जूझ रहे है व वर्तमान हत्यारो से लडने पर, जवानो को वीरता का सम्मान नही मिल रहा है? यो कहें मेरे नजरों मे अब हमारी सीमायें दुश्मनों के लिये खुली है?

मुझे यह सुंनकर हास्यास्पद लगता है , अमेरिका हमे सुपर पावर कहता है, और हम विदेशी सेनाओ के घुसपैठ के आगे नतमस्त हो जाते है, चीन हमारे सीमाओ मे घुसकर , देश का पेट्रोल चुराकर , हमारे सैनिको को धमकाकर, पत्थरों मे चीनी भाषा मे लिखकर चले जाते है, एक साल मे 300 बार घुसपैठ हो चुकी थी, सरकार इसका खंडन करती है,
अरूणाचल के काग्रेस् के मुख्यमंत्री दोरजी खांडू ने स्वय इस बात की पुष्टी की थी एक साल मे 300 से ज्यादा बार घुसपैठ हो चुकी है , बाद मे उंनकी हेलिकेप्टर दुर्घटना मे मौत हो जाती है, और वही, हिमांचल प्रदेश व उत्तराखंड के मुख्यमंत्रीयों ने भी अपने प्रदेशो मे सकडों बार चीनी घुसपैठ की पुष्टी की है.
मीडिया द्वारा घुसपैठ का मुद्धा उठाने पर उन्हे धमकाकर, मीडिया की जुबान बन्द कर दी.

Tuesday, 23 April 2013



क्या... आपको मालूम है...??? दुनिया का देश जो हिन्दुस्थान है, यहा भ्रष्टाचारी नेता अपना चरित्र गिराकर, भिखारीयों से भी निम्नतर स्तर मे गिरकर , देश के भिखारीओ का भोजन ड्कार जाता है, न कोई जेल, हाँ आज ऐसे भ्रष्टाचारी नेताओ को गले मे फूलों की बेल (जमानत की माला) डाली जाती है..?? क्या इन भ्रष्टाचारी नेताओ को लूट मे छूट , दोस्तो क्या यह मेरा देश लुटा...??? या 
एक लाख करोड के सिचाई घोटाले से मेरा देश डूबा...??? 


मनरेगा...??? पहले इसका का नाम था नरेगा, जब गरीब लोगों का जीवन मरेगा होते गया तो., कोग्रेस के महात्मा के नाम को जीवित कर नाम रखा मनरेगा- और काँग्रेसीयों का मन-रेगा और लूट पर लूट .50 हजार करोड से ज्यादा की लूट , 60% पंचायतो मे कोई रिकाँर्ड नही , 75% से ज्यादा लोगो को कोइ फायदा नही.... बापू के नाम काँग्रेसीयों ने दिया एक नया पैगाम – अहिसा के पुजारी तेरी सदा ही जय हो... अहिंसा के नाम पर गरीबों के हत्या..??? तभी तो कहते है , तु ही महान और तेरा देश भी महान

Saturday, 20 April 2013



कहते है..... जहाँ अपराध बढवाना है, वहाँ पुलिस थाना खोल दो, 
अपराध की फैक्ट्री (कारखाना) खुल जाती है, 
जितना कडक कानून, उतनी मोठी रिश्वत, रिश्वत खोर सदाबहार, देशवाशी बेहाल, माफिया व पुलिस मालामाल...
क्या यही है...???? भारत का चरित्र निर्माण.... या मेरा देश डूबा.... 
मेरे वेब स्थल मे पढे -आज का कानून-17 सअक्टूबर 2012 व जनवरी 2013 की पोस्ट पढे यह आम आदमी का हाथ नही, जीते जी जीवन का शिकंजा है, माफिया व वकीलो के उन्नत जीवन जीने का धधा है...??? 

Friday, 19 April 2013



यह है हमारे देश का वैदिक ज्ञान, देशी गाय तो मानव-जीवन की रक्षक ही नही , बल्कि, उसके जीवन मे भी प्रकाश डालती है, इस प्रयोग से सिध्द होता है,
आओ कसम ले , किसी को भी गो- हत्या नही करने देंगे ........ भारतमाता की जय.. स्वदेशी विचार अपनाओ, भ्रष्टाचारीओ से डूबते देश को बचाओं, देश को कर्ज़ से बचाओ...


यह महाराष्ट्र, नही, महा-राष्ट्र के मंत्रियो का महा - भ्रष्ट निर्माण, मुंबई की नगर पालिका के नाक नीचे हुआ...22 आफिस व कई बडी दुकाने???, (अब नई कहावत इस देश मे बन गई है, जिसने देश का सम्मान तोडा... उस पर नही चला हथौडा..भले ही, वह हो छोटा-मोटा मधु कोडा). पूर्व आइ.पीएस अधिकारे वाई.पी सिंग के के सूचना अधिकार कानून पर नगरपालिका की मिलीभगत की पोल खुली? गरीबों से रिश्वत खाकर उनके झोपडे तोडों ? अमीर माफिया, मंत्रीओ को गले मे भष्टाचार की माला पहनाकर अवैध निर्माण का स्वागत करो??? क्या.. यह भष्टाचार निर्माण या मेरा देश डूबा...????

Thursday, 18 April 2013



राजनीती और कूटनीती...... सत्ता परिवर्तन (1947) के बाद से ही... देश मे राजनीती, लाश नीती से अप्रत्यक्ष रूप से चल रही थी...... अब तो खुले आम , आतंक-नीति और लाश-नीति पर देश की सत्ता चल रही है, मरी लाशो पर पर पाँव रखकर , देश के मुसतंडे नेता अपनी 100 पीढी के लिए रोटी सेक रहे है , खिलाओ-खिलाओ.... आतंकवादियो को चिकन बिरयानी..., और जनता को चिकने बयान से कहो......, कडी से कडी कारवाई करेंगें, और जेल मे आतंकवादियो को दाल-कडी खिला कर अपनी रूतबा बनाओ और सत्ता सुरक्षित करो- यह नेता का कर्म नही, देश शर्म है....???????

Wednesday, 17 April 2013



सत्ता परिवर्तन (1947) के बाद से ही... देश मे राजनीती, लाश नीती से अप्रत्यक्ष रूप से चल रही थी...... अब तो खुले आम , आतंक-नीति और लाश-नीति पर देश की सत्ता चल रही है, मरी लाशो पर पर पाँव रखकर , देश के मुसतंडे नेता अपनी 100 पीढी के लिए रोटी सेक रहे है , खिलाओ-खिलाओ.... आतंकवादियो को चिकन बिरयानी..., और जनता को चिकने बयान से कहो......, कडी से कडी कारवाई करेंगें, और जेल मे आतंकवादियो को दाल-कडी खिला कर अपनी रूतबा बनाओ और सत्ता सुरक्षित करो- यह नेता का कर्म नही, देश शर्म है....???????

Monday, 15 April 2013



भजों सोने की चिडिया (सोनिया) , राहुल - RAW-WHOOL (कच्चा झाँसा) , प्रिय एक्का (PRIYANKA- PRIYA AKKA) प्रियंका -- वेब स्थल meradeshdoooba.com पर पढें
  •  जलाओ गरीबों की झोपडीयाँ.....????? , बनाओं अपने सोने की लंका....??????

Friday, 12 April 2013



कल की, दूसरी टिप्पणी भी आज तक की हेड लाईन बनी.....एक झोपडा बनाने मे पर 35 पुलिस कर्मियो ने कुल 42 हजार की रिश्वत लेते कैमरे मे कैद. फिलहाल मामला गरम , 35 पुलिस कर्मियो सस्पेंड , कुछ दिनो मे चुपके से होगें बहाल, कहो.... देश के निर्माण मे जय जय मनी..... - meradeshdoooba.com मे भी देखिए
यह टिप्पणी मैने कल अपने फेस बुक मे पोस्ट की थी , आज वही हू-बहू आज तक की हेड लाईन बनी... 
मुबई का पुरा थाना बना......... भ्रष्टाचार का मयखाना........
वाह रे मुबई के पुलिस कमिश्नर., पहले तो कहते हैं, मुझे पहले भी शिकायत मिली थी ...बाद मे दे रहे है बयान... पुलिस वालो को पैसे का लालच देकर, बुलाकर स्टीग ऑपरेशन करवाया है?
क्या ये रिश्वत के कमीशन+र को बचाने वाले वाले कमिश्नर सत्यपाल सिंग का सत्य बयान है....???
स्टीग ऑपरेशन करने वाले कासिम ने कहा... मैने 100 से ज्यादा पुलिस वालों को रिश्वत दी है ... तो सिर्फ 35 पुलिस कर्मियो को ही सस्पेंड

Thursday, 11 April 2013



यह कानून , माफियाओ को बनाये धंनवान...... तो क्यो न कहे...??? कानून , माफियाओ का भगवान... बन गया है देश को लूटने की शान...???? 

Tuesday, 9 April 2013




कोर्ट पर खादी भारी, खादी, आज देश को खोद कर कुपोषित बच्चों की कब्रगाह बना रही है, ये देश का गड्डा नही , देश का काला चिट्टा है? 
3 साल के कुपोषित बच्चे 60 साल के लगते है और खादीधारे के 3 साल के बच्चे राणा सागा की औलाद लगते है, इनके लिए इंडिया साइनिग है, और कर रहे है, भारत निर्माण
गरीबो की लाश , खादी का उल्लास है, क्या हमे इनसे कोइ आस है...?? ...?
मुबई से 100 किलोमीटर की दूरी मे, गरीब योजना मे 25 हजार करोड से ज्यादा का घोटाला उजागर हुआ है..? 
दोस्तों मुझे लाइक नही , आपकी प्रतिक्रिया भी चाहिए..??? जरूर लिखें..
देश गड्डे मे जा रहा है या डूब रहा है..???? -

नेताओ की टोपी को उल्टाकर देखो , इसमे आपको भ्रष्ट नेताओ के दिमाग की गहराई दिखायी देगी, जो पातालतोड कुँए से भी हजारो गुना गहरी है..???????????



यह भारत निर्माण या देश के भ्रष्टाचारिओं का हो रहा है चरित्र निर्माण ..?,
मुबई के नगरपालिका अब बनी भ्रष्टाचार पालिका की नम्बर 1, तालिका 
अब तो यह नारा बोलना ही पडेगा, मेरा भारत का भ्रष्टाचार महान, 
गरीबों मे नही है प्रतिरोध की जान,
अमीरो को नही है देश का गुमान तभी तो लूट रहा आम इंसान, -

Monday, 8 April 2013



सौजन्य : खबरें आज तक- पिछले अखबारो से, वाह रे पुलिस *( FULLIS = FULL+IS) , जनता के साथ खिलवाड कर जनता को मूर्ख मत बनाओं......???? (FOOLIS H) 


 आप ही बताओ ... मेरा शहर व देश नगर पालिका व नौकशाहों ने चूसा...???? या डूबाया...?? 

Sunday, 7 April 2013



देश बिक रहा है या डूब रहा है..????


देश बिक रहा है या डूब रहा है..???? 


देश बिक रहा है या डूब रहा है..???? -



नौटंकी सर्कस , देश के जोकरों का


भष्टाचार या शिक्षा का व्यापार -


तुम देश को लूटो हजारो^ साल , अपने विकास के स्मारक बनाते चलो....?? और देश्वाशियो को झासाँ देते चलो, -

Saturday, 6 April 2013



देशवासीयों जागो..??? क्या मैने मेरे वेबस्थल का नाम meradeshdoooba.com रखा है? आपकी राय दो?यह सही है या गलत...??? अखबार की कतरन जो पोस्ट की है उसे भी देखो? कल की पोस्ट न्यूज 24, मे आपने देखा था , इसमे लिखा था 29 मौते , सरकार जवाब दो? आज का मौत का (6 अप्रई अप्रैल) अधिकृत सरकारी आँकडा 72 पहुँच गया है, कल के टी.वी. साक्षात्कार मे एक मुसलिम परिवार जो इस हादसे मे बच गया था, उसने कहा हमे यहाँ रहने के लिए कोइ किराया नही देना पडता था?मै भी यह सुनकर सकते मे आ गया, कि इसके पीछे कोइ साजिस का खेल चल रहा है? जबकि मुम्बई , थाने (मुंब्रा) मे छत के लिये हजारो रूपये किराये देने पडते है..??? इस साजिस का गुनहागार कौन - राष्ट्र के प्रहरी- नेता, पुलिस, नगरपालिका के रक्षक, क्या इन मौतों के जिम्मेदार लोगो पर मकोका नही लगना चाहिए...??????
क्या यह भारत निर्माण है या मेरा देश डूबा ...


देशवासीयों जागो..??? क्या मैने मेरे वेबस्थल का नामmeradeshdoooba.com रखा है? आपकी राय दो?यह सही है या गलत...??? अखबार की कतरन जो पोस्ट की है उसे भी देखो? कल की पोस्ट न्यूज 24, मे आपने देखा था , इसमे लिखा था 29 मौते , सरकार जवाब दो? आज का मौत का (6 अप्रई अप्रैल) अधिकृत सरकारी आँकडा 72 पहुँच गया है, कल के टी.वी. साक्षात्कार मे एक मुसलिम परिवार जो इस हादसे मे बच गया था, उसने कहा हमे यहाँ रहने के लिए कोइ किराया नही देना पडता था?मै भी यह सुनकर सकते मे आ गया, कि इसके पीछे कोइ साजिस का खेल चल रहा है? जबकि मुम्बई , थाने (मुंब्रा) मे छत के लिये हजारो रूपये किराये देने पडते है..??? इस साजिस का गुनहागार कौन - राष्ट्र के प्रहरी- नेता, पुलिस, नगरपालिका के रक्षक, क्या इन मौतों के जिम्मेदार लोगो पर मकोका नही लगना चाहिए...??????
क्या यह भारत निर्माण है या मेरा देश डूबा ........????????



यह मुम्बई के थाने शहर की तस्वीर है....
वाह रे भारत निर्माण.
बिल्डर, माफिया, नगरपालिका ये है लोगो के जीवन का खेल? और कमाओ, देश की जी.डी.पी बडाओं, देश को डुबाते चलो? कहो..??गर्व से कहो, मेरे भारत के मफिया महान??




माफिया क आज अर्थ हो गया है? माफ + किया = माफ किया, क्या ये संविधान के रक्षक है , चित्र देखकर कहो....??



जब नगरपालिका ही लोगों की मौत बेचकर , अपने परिवार की पेट पालिका बन गई है....???
यह सात मंजिला मकान तालाब भरकर बनाया गया था? अब यह शहर डूबाओं पालिका बन गई है..??? शहर डूबाओ, और देश भर की नगरपालिकायें मिलकर देश डूबाओ.पालिका .?-




माफिया क आज अर्थ हो गया है? माफ + किया = माफ किया, क्या ये संविधान के रक्षक है , चित्र देखकर कहो....??
जब नगरपालिका ही लोगों की मौत बेचकर , अपने परिवार की पेट पालिका बन गई है....???
यह सात मंजिला मकान तालाब भरकर बनाया गया था? अब यह शहर डूबाओं पालिका बन गई है..??? शहर डूबाओ, और देश भर की नगरपालिकायें मिलकर देश डूबाओ.पालिका .?-




डिप्टी कमिश्नर ने पवन चव्हाण ने हातापाई से एक संवाददाता घायल हो गया है, पवन चव्हाण ने कहा, तुम मेरा क्या उखाडोगे, मेरी पहुँच कानून के हाथ से भी लम्बे है,

Friday, 5 April 2013



यह मुम्बई के थाने शहर की तस्वीर है.... 
वाह रे भारत निर्माण. 
बिल्डर, माफिया, नगरपालिका ये है लोगो के जीवन का खेल? और कमाओ, देश की जी.डी.पी बडाओं, देश को डुबाते चलो? कहो..??गर्व से कहो, मेरे भारत के मफिया महान??

Wednesday, 3 April 2013





क्या आप देश के दहाडते शेर बनना चाहते है?

डूबते देश को बचाइये , देश डूबा कम्युनिटी से जुडे....


राष्ट्रवाद- आओं…. इन शेरों में अपना खून डाले और वे देश के लिये दहाडे

1947 का सत्यमेव जयते .........1948.............. 2013 से अब तक ‘’सत्ता एक मेवा है और इसकी जय है’’ बन गया है

जिस देश को अपनी सस्क्रिती व भाषा पर नाज है, वह देश यदि राष्ट्रवाद की धारा मे आ जाये तो वह उन्नत देशो मे शामिल होता है,

विश्व के बर्बाद हुए देशों जैसे जर्मनी व जापान भी राष्ट्रवाद की धारा से विश्व मे अग्रणी देशो मे है, विश्व मे ढेर सारे देश है जो मानचित्र पर भी नजर नही आते है,वे हमारे से भी सम्पन्न है.

राष्टवाद के प्रतीक लालबहादुर शास्त्री

लालबहादुर शास्त्री के प्रधानमंत्री के कार्यकाल मे देश खाद्दान संकट से गुजर रहा था. लालबहादुर शास्त्री के 6 बच्चे थे, लालबहादुर शास्त्री ने देशवासियों से आवाहन किया कि सप्ताह मे एक दिन उपवास रखो, इस आवाहन से पहले उन्होने कहा कि मै यह प्रयोग पहले मेरे घर मे करता हूँ, यदि मेरा परिवार एक दिन बिना अन्न से रह सकता है तो मै राष्ट्र को कहूँगा , उनका यह प्रयोग दक्षिंण भारत ही नही पुरे देश मे सफल हुआ.

देशवासी उनके शब्दो के कायल थे, और लोगोसे आवाहन किया घर के आँगन व खाली जगह मे अनाज उगाओ ,और एक हरित क्राती व साथ श्वेत (दुध) क्रांती का उदय हुआ.

उसी तरह से परिवार नियोजन के प्रचार के बारे मे उन्होने देशवासियों से माफी मागी और कहा मेरे समय मे परिवार नियोजन के साधन उपलब्ध नही थे. और उसका प्रचार के लिये उन्होने किसी और मंत्री को जिम्मा दिया.


हमे अलगाववाद, भाषावाद, जातिवाद का हिन्दुस्थान नही,चाहिए?

हमे 24 घटे, 24 मुठ्ठी बल का राष्ट्रवादी हिन्दुस्तान चाहिए... 

राष्ट्रवाद की सरल परिभाषा:

1. पहले मेरा देश खुशहाल रहे

2 फिर मेरा शहर व मुहल्ला खुशहाल रहे

3. मेरा पडोसी खुशहाल रहे

4. मेरा परिवार व मै खुशहाल रहूँ

1.राष्ट्रवाद का सरल समीकरण है:

दुनिया को 0 का आविष्कार हमने दिया है यही राष्ट्रवाद का समीकरण है

जातिवाद, भषावाद, अलगाववाद, क्षेत्रवाद, आतन्कवादx 0 = राष्ट्रवाद

यदि हन 5 साल राष्ट्रवाद के धारा से जुडे तो हुम पचास साल आगे बढेगे

ऍक़ 47 x 5 = 235 गुना हमे आतन्कवाद व दुशमनो से लडने के क्षमता बढेगी

2 राष्ट्रवाद का दूसरा समीकरण है:

समय हानि+धन हानि +प्राण हानि= राष्ट हानि

यदि इन दोनो धाराओ से राष्ट्रवाद का अध्यन देश के विकास से देखेगे तो पता चलता है कि , हम विदेशो से कर्ज लेकर , उसे भ्रस्टाचार का तडका लगाकर , विकास के नाम पर देश कर्ज के गर्त मे डूबता जा रहा है, आज देश 2लाख करोड से ज्यादा रूपये तो ब्याज के रूप मे दे रहा है ,

Monday, 1 April 2013





ज़रा गौर करें.., 
वाह से कांग्रेस तेरी सरकार , (तीनों चित्र देखें) 

“सत्ता परिवर्तन” {TRANSFEROF POWER} को. आजादी के झांसे से अपने को कहें... स्वतन्त्रता सेनानी के “वंशवाद का परिवार” 

साईकिल घोटाले से शुरू कर, बोफोर्स घोटाले से , विदेशी हाथ , विदेशी बात , विदेशी संस्कार से “मेरा भारत महान” के छाँव में अब अँधेरे में देश की जनता को विदेशी टोर्च में गरीबों के सेल ( बैटरी-मेहनत व संसाधन) डालकर, ६७ साल बाद भी ७२% भूखे हिन्दुस्तानीयों को कहें “भारत निर्माण”...,

अलगाववाद, जातिवाद, भाषावाद, धर्मवाद,घुसपैठीयों की बाढ़ से वोट बैंक के लबालब भण्डार...,
बना.., सत्ता से तिजोरी लूटने का हत्यार...,
बजट में गरोबों को “बाजू हट” व सत्ताखोरों व माफियाओं को “बिग हट (बड़े महल) का उपहार ....

किसान ह्त्या, जवान ह्त्या, कुपोषण, बलात्कार....,
योजनायें बनाकर मत करों, लाशों का व्यापार....,
धरती, जल, आकाश, अग्नि, वायु बेचा , अब मत बेचों मेरे आंचल को कर दुत्कार....
अब, भारतमाता कर रही पुकार...
जागों देशवासियों..., अब राष्ट्रवादी बनकर इन मुस्टंडों को दो ललकार....

बोफोर्स के दुगने फ़ोर्स में “मेरा भारत महान” का बारूद” डालकर मेरे ईटालियन सास-ससुर से रिश्तेदार हत्यार व अन्य “घोटालों” से “बने “धनवान” इसका मुझे है... “गुमान”.....!!!!!!!

“अब मल्टी फ़ोर्स घोटालों” ने तो “सुनामी” को भी मात दे दी है....

वेबस्थल की पोस्ट Posted on 03 March 2013.
विदेशी हाथ, विदेशी साथ, विदेशी बात,
विदेशी विचार, विदेशी संस्कार
विदेशी खाट, विदेशी रात,(पब व लिव इन रिलेशन)
और इसका अंजाम क्या मिल रहा है?
विदेशी आतंकवादी, विदेशी हमला, विदेशी (देश के लिये हत्यारों व अन्य) सौदागर, विदेशी बैक
विदेशी देशो का हमारी अर्थव्यवस्था पर शिंकजा
और हमे मिल रही है विदेशी बैको (अतराष्टीय मुद्रा कोष) के कर्ज की लात
हम घुटने टेक रहे है विदेशीयों के हाथ ?
देश के कर्णधारों के
कलम बिक गये , तलवार बिक गये, पत्रकार, पुत्रकार बनने से पहले पतन कार बन गये?
नौकराशाही छोटी-छोटी सुविधा पर अपना इमान बेचते गये?,
साहित्यकार स्वय: के हितकार बने, देश के हितैषी दबंग, भ्रष्टाचार के तरंग बन गये?
देश को बेचने वाले आज देश के शिल्पकार बन गये ?
सत्ता के दलाल देश के लाल बन गये?
धर्म के नाम पर नेता देश को पंगु बनाते गये?
धर्मगुरू…????, देश की जनता के, गुरूंघटाल बन कर, नेताओ के भ्रष्टाचारी महलों के अग्निशामक दल बन गये ?
देश को चलाने वाले, विदेशी हाथ के दस्ताने पहनते गये?
दस्तानो की सुरक्षा कवच से उनके हाथ बिना खरोच के , हाथ के साथ, भाग्य रेखा अतिविशिष्ट सुरक्षा के साथ बढाते गये?
देश्वासियो को
विकास के पत्थर से मंजिल का सपना दिखाकर,
गरीबो पर वे ही महगाई, अलगाववाद, जातिवाद, धर्म के पत्थर मारते रहे?
जनता लहूलूहान होकर अपने घाव को देश से बढा समझकर, घर बैठे इलाज कर रही है,?