Friday, 22 March 2013


कैसे लोकतंत्र के खरगोश को सुला कर धराशायी कर दिया है? सत्ता के जातिवादी,धर्मवादी, अलगाववादी कछुआ माफियाओं के द्वारा दौड जीत ली है?


Rabbit of Democracy has been brought down to sleep? Racist, intolerant religionist, separatist mafia's tortoise In Power has won the race?